रांची प्रेस क्लब के कोर कमेटी में शामिल लोगों को धनबाद के पत्रकारों से सीखना चाहिए

धनबाद के पत्रकारों ने वो कार्य कर दिया, जिसकी परिकल्पना नहीं की जा सकती। जहां राजधानी रांची के पत्रकारों का समूह झकझूमर गाने में व्यस्त है, वहीं धनबाद के पत्रकारों ने मिलकर शानदार तरीके से सारी समस्याओं को दरकिनार कर, लोकतंत्र में विश्वास करते हुए, धनबाद प्रेस क्लब का निष्पक्ष चुनाव कराने का संकल्प लिया और इसे मूर्त देने में लग गये।

धनबाद के पत्रकारों ने वो कार्य कर दिया, जिसकी परिकल्पना नहीं की जा सकती। जहां राजधानी रांची के पत्रकारों का समूह झकझूमर गाने में व्यस्त है, वहीं धनबाद के पत्रकारों ने मिलकर शानदार तरीके से सारी समस्याओं को दरकिनार कर, लोकतंत्र में विश्वास करते हुए, धनबाद प्रेस क्लब का निष्पक्ष चुनाव कराने का संकल्प लिया और इसे मूर्त देने में लग गये।

रांची प्रेस क्लब के कोर कमेटी में शामिल लोग जान लें, कि धनबाद प्रेस क्लब में विभिन्न पदों के लिए चुनाव प्रक्रिया प्रांरभ हो चुकी है। धनबाद प्रेस क्लब के अध्यक्ष, वरीय उपाध्यक्ष, उपाध्यक्ष, महासचिव, सचिव, कोषाध्यक्ष एवं कार्यकारिणी में शामिल कुल 21 सदस्यों के निर्वाचन का कार्य तेज गति से चल रहा है। इनमें अध्यक्ष -1, वरीय उपाध्यक्ष – 1, उपाध्यक्ष – 5, महासचिव – 1, सचिव – 5, कोषाध्यक्ष – 1, कार्यकारिणी – 7 पदों के लिए चुनाव हो रहे है। कुल 212 सदस्य पहली बार हो रहे चुनाव में अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे।

सूत्र बताते है कि धनबाद में चल रहे पत्रकारों के विभिन्न संगठनों ने आपसी सहमति से धनबाद प्रेस क्लब के लिए चुनाव प्रक्रिया में जाने का ऐलान किया। सभी ने अपने – अपने अंह को दरकिनार किया और जिन्होंने अपने अंह को ही महत्व दिया, जिनकी संख्या अंगूलियों पर गिनने लायक थी, उन्हें बाहर का रास्ता दिखाया गया। धनबाद प्रेस क्लब का सदस्य कौन बने और कौन नहीं बने? इसके लिए पारदर्शिता अपनायी गई। जिसका सभी ने स्वागत किया। धनबाद प्रेस क्लब का सदस्य बनने में 14 लोगों को रुकावटें आ रही थी। जिन पर रुकावटें आ रही थी, उन्हें बताया गया कि आप को इन कारणों से रोका जा रहा हैं, दस लोगों ने स्पष्टीकरण दिया, उन्हें सदस्यता प्रदान कर दी गई और बाकी 4 जो स्पष्टीकरण नहीं दे पायें, उन्हें बाहर का रास्ता दिखाया गया। जिस पर किसी को आपत्ति नहीं थी। विभिन्न पदों पर जो 21 सदस्य चुने जाने हैं, उनमें से कोषाध्यक्ष के लिए निर्वाचन निर्विरोध हो चुका है। कोषाध्यक्ष पद पर दिनेश पासवान निर्विरोध निर्वाचित हो चुके है।

हाल ही में 3 दिसम्बर को नामांकन की तिथि थी, जबकि 4 दिसम्बर आवेदनों के जांच की तिथि थी। जांचोपरांत, अध्यक्ष के लिए संजीव झा, रामजी यादव, वरीय उपाध्यक्ष के लिए असित सहाय, नीतेश मिश्र, जयदेव गुप्ता, भूपेन्द्र श्रीवास्तव, उपाध्यक्ष पद के लिए नीरज कुमार, गंगेश गुंजन, नवीन राय, सुधीर कुमार सिन्हा, दिलीप कुमार, अभिषेक कुमार, श्रवण कुमार, कुंदन सिंह, दिलीप विश्वकर्मा, महासचिव पद के लिए शशिभूषण राय, पंकज कुमार, अजय प्रसाद, बलराम दूबे, सचिव पद के लिए गौतम डे, आशीष कुमार झा, रविकांत झा, मनोज शर्मा, आशीष कुमार अम्बष्ठ, सत्या राज, विद्युत वर्मा, जितेन्द्र कुमार, कार्यकारिणी सदस्य के लिए प्रद्युम्न चौबे, नीरज कुमार अम्बष्ठ, मोहन कुमार गोप, सुरेन्द्र यादव, प्रतीक पोपट, अशोक कुमार झा, प्रकाश चंद्र मिश्र, प्रियेश कुमार सिन्हा, उमेश कुमार पासवान, महफूज आलम, छोटे खान, राममूर्ति पाठक, विजय कुमार मिश्र, प्रकाश कुमार और चंदन पाल चुनाव मैदान में खड़े है। मतदान 10 दिसम्बर को होगा और उसी दिन मतदान के बाद, मतगणना प्रारंभ हो जायेगी।

धनबाद प्रेस क्लब के निर्वाची पदाधिकारी अनिल आशुतोष, अरुण बर्णवाल और अजय सिन्हा बनाये गये हैं। आश्चर्य इस बात की है कि इस चुनाव में कहीं से भी कोई अप्रिय समाचार का खबर नहीं है, जैसा कि रांची प्रेस क्लब में दिखाई पड़ रहा है। धनबाद प्रेस क्लब के इस चुनाव में जो भी शामिल हो रहे हैं, उनका कहना है कि उनका मूल उद्देश्य पत्रकारिता में जुड़े सभी लोगों को एक मंच पर लाना, उनकी समस्याओं को दूर करना तथा एक परिवार की तरह साथ-साथ चलना है। झारखण्ड के रांची में ही प्रेस क्लब का नाम किसी ने नहीं सुना था, पर धनबाद में प्रेस क्लब अपना कार्य तीव्र गति से किये जा रहा था, आज भी धनबाद में किसी से पूछे कि धनबाद में प्रेस क्लब कहां हैं, लोग बतायेंगे कि रणधीर वर्मा चौक के पास है, पर जरा 22 सितम्बर के पहले रांची में कोई बताये कि प्रेस क्लब कहां था?  हमें लगता है कि कोर कमेटी के भी लोग नहीं बता पायेंगे कि उनका प्रेस क्लब उस वक्त कहां और किस गली में रन कर रहा था। सचमुच धनबाद के पत्रकारों ने राज्य के कई जिलों के पत्रकारों ही नहीं, राजधानी रांची में बैठे अपने को स्वयंभू दिग्गज दबंग पत्रकार कहलानेवालों को एक सीख दी है, कि देखो ऐसे चुनाव कराये जाते हैं, सीख सको तो सीख लो।

Krishna Bihari Mishra

One thought on “रांची प्रेस क्लब के कोर कमेटी में शामिल लोगों को धनबाद के पत्रकारों से सीखना चाहिए

  1. यहां भी वैसा नहीं हैं जैसा आप लिखे हैं। जो हालात यहां है लगता हैं, यहां भी दो फाड़ हो जाएगा

Comments are closed.

Next Post

तो क्या भारत में रहनेवाले लोग बहुत तेजी से कृतघ्न होते जा रहे हैं?

Tue Dec 5 , 2017
19 नवम्बर। इसी दिन भारत में दो महान नारियों का जन्म हुआ था। पहली महान वीरांगना झांसी की रानी लक्ष्मीबाई और दूसरी देश की पहली महिला प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी। एक ने अंग्रेजों के दांत खट्टे किये तो दूसरी ने पाकिस्तान को उसकी औकात बताते हुए उसके दो टुकड़े करते हुए एक नये देश बांगलादेश का जन्म कराया। यहीं नहीं भारत को हर क्षेत्र में मजबूत बनाया और अंत में दोनों ने देश के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी।

You May Like

Breaking News