चुनाव आयोग का आदेश, 2 अप्रैल को रेजिडेंट कमिश्नर दिल्ली को रिपोर्ट करे ADGP अनुराग गुप्ता

भारत निर्वाचन आयोग के अंडर सेक्रेटरी राकेश कुमार ने मुख्य निर्वाची पदाधिकारी झारखण्ड को आज पत्र लिखकर सूचित किया है कि राज्य में एडीजीपी स्पेशल ब्रांच के पद पर कार्यरत अनुराग गुप्ता को वर्तमान पद से हटाकर, दिल्ली स्थित स्थानिक आयुक्त झारखण्ड को कल यानी दो अप्रैल को दिन के एक बजे तक रिपोर्ट करने को कहा जाय। साथ ही यह भी कहा कि इस दौरान जब तक चुनाव प्रक्रिया समाप्त नहीं हो जाती

भारत निर्वाचन आयोग के अंडर सेक्रेटरी राकेश कुमार ने मुख्य निर्वाची पदाधिकारी झारखण्ड को आज पत्र लिखकर सूचित किया है कि राज्य में एडीजीपी स्पेशल ब्रांच के पद पर कार्यरत अनुराग गुप्ता को वर्तमान पद से हटाकर, दिल्ली स्थित स्थानिक आयुक्त झारखण्ड को कल यानी दो अप्रैल को दिन के एक बजे तक रिपोर्ट करने को कहा जाय। साथ ही यह भी कहा कि इस दौरान जब तक चुनाव प्रक्रिया समाप्त नहीं हो जाती ये झारखण्ड की यात्रा नहीं करेंगे और न ही इन्हें कोई छुट्टी अथवा ड्यूटी ही दी जायेगी।

अनुराग गुप्ता के खिलाफ पूर्व में भी चुनाव आयोग ने अनुशासनात्मक कार्रवाई करने के लिए राज्य सरकार को लिखा था, जब उन पर राज्य सभा चुनाव के दौरान चुनाव प्रक्रिया में गड़बड़ियां करने, पद का दुरुपयोग तथा सर्विस रुलों को तोड़ने का आरोप लगा था, पर राज्य सरकार ने चुनाव आयोग के आदेश पर ध्यान ही नहीं दिया, और इस पूरे मामले को नजरंदाज करती रही, जबकि ये मामला विधानसभा में भी गूंजा था।

बताया जाता है कि राज्य की कई राजनीतिक दलों ने इस संबंध में चुनाव आयोग को पत्र लिखा था, तथा अनुराग गुप्ता को स्पेशल ब्रांच के एडीजीपी पद से हटाने की मांग की, तथा संभावना व्यक्त की थी कि इनके रहते राज्य में लोकसभा चुनाव निष्पक्ष होना संभव नहीं है।  इधर चुनाव आयोग को जैसे ही इस बात की जानकारी मिली, उसने संज्ञान लिया तथा इस संबंध में आज एक्शन ले लिया। वह भी तब, जबकि पूरे देश में दस मार्च से ही लोकसभा चुनाव की घोषणा की जा चुकी है और इस पूरी प्रकिया को 27 मई तक समाप्त कर लेना है।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

यकीन मानिये, रांची भाजपा को और खूंटी कांग्रेस को, पूरे झारखण्ड में बर्बाद करके रख देगा

Tue Apr 2 , 2019
क्या भाजपा, क्या कांग्रेस, एक उम्मीदवार देने में इन दोनों दलों के पसीने छूट रहे हैं। आश्चर्य है इन राष्ट्रीय दलों के पास एक से एक समर्पित कार्यकर्ता है, पर इन समर्पित कार्यकर्ताओं पर इन पार्टियों के प्रदेश अध्यक्षों से लेकर राष्ट्रीय अध्यक्षों तथा अन्य वरिष्ठ नेताओं को भरोसा नहीं है, उन्हें लगता है कि दूसरे दलों में जो नेता हैं, वे ही भरोसे के काबिल है, इसीलिए ये पार्टियां, ऐसे नेताओं पर डोरे डालकर, उनकी गणेश परिक्रमा, मान-मनौव्वल कर....

You May Like

Breaking News