प्रेस क्लब की सदस्यता में व्याप्त गड़बड़ी से क्षुब्ध अवधेश ने मुख्यमंत्री से लगाई गुहार

सातवां सच के सम्पादक अवधेश कुमार सिंह ने मुख्यमंत्री रघुवर दास से न्याय की गुहार लगाई हैं।कहीं से कोई आशा नहीं मिलता देख, रांची प्रेस क्लब की सदस्यता से वंचित किये गये सातवां सच के संपादक अवधेश कुमार सिंह ने आखिरकार मुख्यमंत्री का दरवाजा खटखटा ही दिया, साथ ही न्याय की गुहार भी लगा दी।

सातवां सच के सम्पादक अवधेश कुमार सिंह ने मुख्यमंत्री रघुवर दास से न्याय की गुहार लगाई हैं।कहीं से कोई आशा नहीं मिलता देख, रांची प्रेस क्लब की सदस्यता से वंचित किये गये सातवां सच के संपादक अवधेश कुमार सिंह ने आखिरकार मुख्यमंत्री का दरवाजा खटखटा ही दिया, साथ ही न्याय की गुहार भी लगा दी। अवधेश ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर सूचित किया है कि अपने मनोनयन तिथि से ही तदर्थ कमेटी से जुड़े 12 लोगों ने रांची प्रेस क्लब की सदस्यता अभियान और आगामी चुनावी गतिविधियों को विधि सम्मत अमली जामा पहनाने में, अब तक नाकामयाब रहे हैं।

अवधेश कुमार सिंह ने मुख्यमंत्री से पत्र के माध्यम से कहा है कि रांची प्रेस क्लब की तदर्थ कमेटी या संचालन समिति के लोगों की संदेहास्पद भूमिका की वजह से अभी तक क्लब के सदस्यता अभियान पर ही प्रश्न चिह्न खड़े हो रहे है। अब तक दि रांची प्रेस क्लब में गुट विशेष के लोगों का ही बोलबाला देखने को मिला है। गुट विशेष के लोग ही अपने-अपने गुट को सदस्यों को क्लब की सदस्यता दिलवाने में कामयाब है, जो इनके गुट में नहीं है, या संचालन समिति के लोगों मे से किसी एक से भी उनकी नहीं पटती, उन्हें क्लब की सदस्यता नहीं दी जा रही है। जिस कारण संचालन समिति के गतिविधियों से अंसतुष्ट कई पत्रकारों ने क्लब के वर्तमान अध्यक्ष को कानूनी नोटिस भी अपने-अपने वकीलों के माध्यम से दिया है।

अवधेश ने सीएम को लिखे पत्र में बताया है कि कभी भी सदस्यता फार्म जमा करनेवालों के लिए नियमित क्लब के कार्यालय नहीं खुले, सदस्यता फार्म कहीं चौक की दुकान में या तो बड़े मीडिया हाउस में किसी गुट विशेष के मुखिया के पास ही जमा होते रहे हैं। अवधेश कुमार सिंह ने सीएम रघुवर दास से इस मामले में शीघ्र हस्तक्षेप करने की गुहार लगाई है। उन्होंने सीएम से पत्र के माध्यम से कहा है कि वे वर्तमान तदर्थ कमेटी को एहसास दिलाए कि रांची प्रेस क्लब आपके द्वारा प्रदत्त राजधानी की एक गरिमा है, न कि किसी पूंजीपति या मीडिया हाउस जहां गुटबाज लोग अपनी मर्जी चलायेंगे। तदर्थ कमेटी और गुट विशेष के लोगों को यह बताया जाये कि सरकार और कानून के नियंत्रण से बाहर नहीं है गुट विशेष के लोग।

अवधेश कुमार सिंह ने सीएम से अनुरोध किया कि वे सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के किसी सक्षम अधिकारी एवं उनकी टीम को रांची प्रेस क्लब का जिम्मा सौंपे, जो अपने नियंत्रण में क्लब की सदस्यता अभियान और चुनावी अभियान पर नियंत्रण एवं निगरानी रखे, तथा समय-समय पर यहां की हर गतिविधियों को रिपोर्ट आपको दें।

इसी बीच अपनी रांची के संपादक प्रभात मजुमदार ने कहा है कि उनकी अपनी सोच है कि रांची प्रेस क्लब सदस्यता मामले में बलबीर दत्त की अध्यक्षतावाली संचालन समिति सहृदयता दिखाते हुए तत्काल एक उपसमिति बनाकर पत्रकार अवधेश कुमार सिंह और मुकेश भारतीय से बात कर मसले का हल निकालें। ऐसे मामलों का अविलम्ब पटाक्षेप होना श्रेयस्कर है। सदस्यता कब मिलेगी अभी, बाद में या कभी नहीं यह तो बताना ही पड़ेगा और यह जिम्मेदारी वर्तमान तदर्थ समिति की है। वरिष्ठ पत्रकार देवेन्द्र सिंह ने भी तदर्थ कमेटी द्वारा लिये जा रहे कुछ निर्णयों पर अपनी कड़ी आपत्ति दर्ज कराई है तथा इसे पत्रकारों के हित के लिए किसी भी प्रकार से सहीं नहीं ठहराया।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

हेलिकॉप्टर नहीं मिलने के कारण जांच के लिए नहीं जानेवाली आराधना का विभाग बदला

Fri Dec 1 , 2017
हेलिकॉप्टर नहीं मिलने के कारण सीएम के आदेश का पालन नहीं करनेवाली आराधना पटनायक, सचिव, स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग को आज सचिव पेयजल एवं स्वच्छता विभाग झारखण्ड, रांची के पद पर योगदान करने का आदेश पारित कर दिया गया। आराधना पटनायक का स्थान अमरेन्द्र प्रताप सिंह लेंगे, उन्हें सचिव, स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग के पद पर योगदान करने को कहा गया है।

Breaking News