हटिया से गोरखपुर जानेवाली मौर्य एक्सप्रेस के एसी बॉगी से होती है शराब की तस्करी

हटिया से  गोरखपुर जा रही मौर्य एक्सप्रेस के बी-वन कोच से रेल पुलिस ने 200 बोतल शराब जब्त कर लिया, जबकि शराब तस्कर पुलिस के चंगुल से भागने में कामयाब रहे। यह घटना आज गोमो जंक्शन की है। मौर्य एक्सप्रेस जैसे ही गोमो जंक्शन पर लगी, गोमो रेल थाना के स.अवर निरीक्षक एस एन सिंह और आरपीएफ के सहायक अवर निरीक्षक डी एस राठौर पूर्व में शराब तस्कर के फरार आरोपी सुधीर कुमार की तलाश में मौर्य एक्सप्रेस के बी-वन कोच में चढ़े।

हटिया से  गोरखपुर जा रही मौर्य एक्सप्रेस के बी-वन कोच से रेल पुलिस ने 200 बोतल शराब जब्त कर लिया, जबकि शराब तस्कर पुलिस के चंगुल से भागने में कामयाब रहे। यह घटना आज गोमो जंक्शन की है। बताया जाता है कि मौर्य एक्सप्रेस जैसे ही गोमो जंक्शन पर लगी, गोमो रेल थाना के सहायक अवर निरीक्षक एस एन सिंह और आरपीएफ के सहायक अवर निरीक्षक डी एस राठौर पूर्व में शराब तस्कर के फरार आरोपी सुधीर कुमार की तलाश में मौर्य एक्सप्रेस के बी-वन कोच में चढ़े।

दोनों ने संदेह के आधार पर कोच एटेंडेंट के लिए बने बॉक्स की जांच करनी शुरु की। इसी दौरान इन्हें पांच बैगों से 200 शराब की बोतले बरामद हुई। ये सारी शराब की बोतले ब्लैक रॉक की हैं, जिस पर फोर पारा मिलिट्री फोर्सड तथा फोर सेल इन झारखण्ड लिखा था, बैच नंबर और उत्पादन तिथि के पास कुछ भी नही लिखा था, जबकि बोतल पर दूसरी जगह बैच नंबर तथा तिथि का मुहर लगा था। संदेह व्यक्त किया जा रहा है कि होली के मद्देनजर शराब की तस्करी की जा रही थी। सहायक अवर निरीक्षक एस एन सिंह का कहना था कि ट्रेन में न तो कोच एटेंडेंट था और न ही कोई टीटीई था। इस संबंध में रेलयात्रियों से पूछताछ की गई तो सभी ने इस पर अनभिज्ञता प्रकट की।

उधर सूचना मिलते ही रेल थाना के सहायक अवर निरीक्षक विलफ्रेड लकड़ा तथा सहायक अवर निरीक्षक राम विनय दूबे, आरपीएफ के स्टेशन ड्यूटी में तैनात जवान सुरेश प्रसाद मौके पर पहुंच कर बोतलों की गिनती शुरु कराई। मौर्य एक्सप्रेस में इसे मिलाकर यह दूसरी घटना है, क्योंकि इसी महीने 22 फरवरी को इसी कोच में कोच एटेंडेंट के बॉक्स से 111 शराब की बोतले पकड़ाई थी, जिसमें श्रीअंत कुमार तथा अनिल कुमार नामक दो कोच एटेंडेंटों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था, जबकि अन्य कोच एटेंडेंट सुधीर कुमार भागने में सफल रहा।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

राजबाला वर्मा, जिसके आगे झारखण्ड के सीएम रघुवर की एक न चली

Thu Mar 1 , 2018
राजबाला वर्मा एक ऐसी मुख्य सचिव, जिसने झारखण्ड के मुख्यमंत्री रघुवर दास के होश ठिकाने लगा दिये। राजबाला वर्मा, जब तक मुख्य सचिव पद पर रही, उन्होंने कभी भी मुख्यमंत्री रघुवर दास की बात नहीं मानी और किया वहीं, जो राजबाला वर्मा को अच्छा लगा।

You May Like

Breaking News