पहचानिये, धनबाद-रांची में छुपे देश के इन गद्दारों को जिन्होंने पाकिस्तानी झंडे को अपना लिबास बना डाला

धनबाद के निरसा में रहनेवाले एक समुदाय विशेष के युवकों ने अपने पूरे समुदाय को शर्मसार किया है। यही नहीं उसने अपने देश के साथ गद्दारी करने का भी कीर्तिमान बना डाला। ये सारे युवक पाकिस्तानी झंडे के पोशाक पहने हुए हैं और इस पाकिस्तानी झंडे के पोशाक पहने युवाओं के फोटो को फेसबुक पर पोस्ट किया है निरसा थाना के बैदपुर गांव के मुख्तार अंसारी नामक युवक ने। 

धनबाद के निरसा में रहनेवाले एक समुदाय विशेष के युवकों ने अपने पूरे समुदाय को शर्मसार किया है। यही नहीं उसने अपने देश के साथ गद्दारी करने का भी कीर्तिमान बना डाला। ये सारे युवक पाकिस्तानी झंडे के पोशाक पहने हुए हैं और इस पाकिस्तानी झंडे के पोशाक पहने युवाओं के फोटो को फेसबुक पर पोस्ट किया है निरसा थाना के बैदपुर गांव के मुख्तार अंसारी नामक युवक ने। इस विवादास्पद फोटो के बारे में जैसे ही लोगों को जानकारी मिली, निरसा में तनाव उत्पन्न हो गई, उग्र भीड़ ने मुख्तार के घर पर हमला बोला, तोड़फोड़ की। इसी बीच तनाव को दूर करने में स्थानीय पुलिस को भी भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा।

स्थानीय लोग बताते है कि बैदपुर के मुख्तार अंसारी ने ब्वायज ऑफ बैदपुर के नाम से शहाबुद्दीन अंसारी, मुर्तजा अंसारी, मुश्ताक अंसारी, आमिन अन्सारी, आरिफ अन्सारी, और कलाम अन्सारी तथा कुछ अन्य का फोटो फेसबुक पर 24 फरवरी को डाल दिया, ये सारे लड़के पाकिस्तानी झंडे से बने पोशाक पहने हुए थे, जैसे ही उक्त फोटों की जानकारी लोगों को मिली,  उग्र भीड़ बैदपुर गांव पहुंचकर मुख्तार अंसारी को खोजने लगी, लेकिन मुख्तार अंसारी हाथ नहीं लगा, और सारे लोग उग्र भीड़ को देख भाग खड़े हुए। उग्र भीड़ स्थानीय पुलिस से सिर्फ एक ही मांग कर रही थी कि इन देशद्रोहियों को गिरफ्तार किया जाय तथा इन्हें कड़ी से कड़ी सजा दिलवाई जाय।

स्थानीय पुलिस से बातचीत के क्रम में उग्र भीड़ द्वारा हाथापाई भी की गई, इसी दौरान जान मोहम्मद और मुकीउद्दीन नामक दो लोग गांव में पाये गये, जिन्हें पुलिस ने सुरक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से हिरासत में ले लिया। उग्र भीड़ के सख्त रवैये को देख, स्थानीय प्रशासन ने उक्त स्थल पर फिलहाल धारा 144 लगा दिया है। लोग बताते है कि मुख्तार अंसारी रांची में ही रहकर एक प्राइवेट कंपनी में अपनी सेवा दे रहा है, जब उसने फेसबुक पर ये विवादास्पद फोटो डाला था तो उसके एक दोस्त ने उसे इस पोस्ट को डिलीट करने की सलाह दी थी, पर उसने नहीं माना।

इधर ग्रामीणों का कहना है कि जिस दिन पुलवामा में 40 सीआरपीएफ जवान शहीद हुए थे, उस दिन भी इन लोगों ने रात के समय पाकिस्तान जिन्दाबाद का नारा लगाया था, बाद में इन सब ने गलती स्वीकारी और माफी मांगा तो लोगों ने माफ कर दिया, इधर 24 फरवरी को विवादास्पद फोटो डालने के बाद उग्र भीड़ ने इन्हें सबक सिखाने का फैसला ले लिया।इसी बीच स्थानीय ग्रामीणों ने निरसा थाने में एक लिखित शिकायत दर्ज करा दी है, जिसमें ग्रामीणों ने अपने लिखित शिकायत में कहा है कि बैदपुर गांव का रहनेवाला लाल मोहम्मद अन्सारी का बेटा मुख्तार अन्सारी अपने फेसबुक में एक पोस्ट डाला है, जिसमें भारत विरोधी बातें कही गई है, जिसमें एक फोटो में पाकिस्तान के झंडे का पोशाक बनवाकर सभी पहने हुए हैं, जब स्थानीय लोगों ने उक्त पोस्ट को देखा तो गांव के लोग भड़क गये।

लिखित शिकायत में फेसबुक पोस्ट में दिख रहे मुख्तार अन्सारी के अलावे रमजान अन्सारी का बेटा शहाबुद्दीन अन्सारी और दूसरा बेटा सद्दाम अन्सारी, सर्फुद्दीन अन्सारी का बेटा मुर्तजा अन्सारी, मनीरुद्दीन अन्सारी का बेटा मुश्ताक अन्सारी, जलील अन्सारी का बेटा अमीन अन्सारी, इसराइल अन्सारी का बेटा आरिफ अन्सारी, और मजीद अन्सारी का बेटा कलाम अन्सारी का नाम भी शामिल है।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

सवाल, राज्य के होनहार मुख्यमंत्री से, क्या झारखण्ड के पत्रकार, पत्रकारिता करना छोड़ दें?

Wed Feb 27 , 2019
भाई, सवाल सीधा राज्य के होनहार मुख्यमंत्री रघुवर दास से ही हैं। वे बताएं, क्या झारखण्ड के पत्रकार, पत्रकारिता करना छोड़ दें? हद हो गई, कभी 15 नवम्बर को स्थापना दिवस के दिन स्थानीय पुलिस प्रशासन द्वारा पत्रकारों को पीट दिया जाता है, जब पत्रकार इसके खिलाफ आंदोलन करते है, तो उनकी बातों को अनसुना कर दिया जाता है, कभी पत्रकारों को झूठे केसों में फंसाकर उनके कलम को रोकने का प्रयास किया जाता है

You May Like

Breaking News