भाजपा प्रवक्ता की तरह पेश आए, झारखण्ड के DGP, खुलकर की CM की प्रशंसा

जरा सोचिये, किसी राज्य के पुलिस महानिदेशक पद पर बैठा व्यक्ति, किसी राज्य के मुख्यमंत्री या किसी राजनीतिक दल या सत्तारुढ़ दल के प्रवक्ता के रुप में खुद को पेश करें, तो आपको कैसा लगेगा? आप सोचेंगे कि कहीं ये लोकसभा या राज्यसभा जाने की तैयारी तो नहीं कर रहा, या उसकी इससे भी बड़ी कोई महत्वाकांक्षा तो नहीं,

जरा सोचिये, किसी राज्य के पुलिस महानिदेशक पद पर बैठा व्यक्ति, किसी राज्य के मुख्यमंत्री या किसी राजनीतिक दल या सत्तारुढ़ दल के प्रवक्ता के रुप में खुद को पेश करें, तो आपको कैसा लगेगा? आप सोचेंगे कि कहीं ये लोकसभा या राज्यसभा जाने की तैयारी तो नहीं कर रहा, या उसकी इससे भी बड़ी कोई महत्वाकांक्षा तो नहीं, जिसे पूरा करने के लिए, ये व्यक्ति अपनी सारी ऊर्जा लगा रहा हैं और राज्य के एक महत्वपूर्ण पद पर बैठकर, वह व्यक्ति मर्यादा के अनुरुप न काम कर अपने सम्मान को तो ठेस पहुंचा ही रहा हैं, साथ ही उस पद की मर्यादा को भी धूमिल कर रहा हैं, जिस पर वह वर्तमान में बैठा हैं।

हम आपको बता दें, कि इसके पूर्व भी एक डीजीपी हुए बीडी राम, जो फिलहाल पलामू से भाजपा के सांसद हैं, वे डीजीपी पद पर रहकर झारखण्ड को उन्होंने क्या दिया और आज जब वे भाजपा सांसद हैं, तब सांसद के रुप में कितने गांव गोद लिये और कितने गांव की उन्होंने कायापलट कर दी, जरा पता लगा लीजिये। हो सकता हैं कि हमारे वर्तमान डीजीपी साहेब भी अभी से ही भाजपा के टिकट की जुगाड़ में लग गये हो, और इसलिए उनके हृदय का उद्गार सामने आ गया।

जरा देखिये, चले थे जनाब कल के झारखण्ड महाबंद को लेकर संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करने और लगे हाथों भाजपा के नारे के साथ मुख्यमंत्री रघुवर दास का महिमामंडन कर दिया, जो फिलहाल खूब वायरल हो रहा हैं। शायद यहीं कारण है कि झारखण्ड के बुद्धिजीवियों का समूह खुलकर कह रहा है कि डीजीपी चले थे प्रेस कांफ्रेस करने और बन गये भाजपा के प्रवक्ता, और उन्होंने ये सिद्ध करने के लिए ये डॉयलॉग भी बोल दिया –“झारखण्ड शांतिपूर्ण तरीके से विकास के रास्ते पे चले, इसलिए हमने पहले ही कहा कि सबका साथ सबकी सुरक्षा सबका विकास यह है रघुवर सरकार।”

Krishna Bihari Mishra

Next Post

संपूर्ण विपक्ष के झारखण्ड बंद का दिखने लगा असर, IAS/IPS पत्रकारों की शरण में

Wed Jul 4 , 2018
नेता प्रतिपक्ष हेमन्त सोरेन के नेतृत्व में भूमि अधिग्रहण संशोधन विधेयक के खिलाफ संपूर्ण विपक्ष का झारखण्ड महाबंद कल है, पर सच्चाई यह है कि इसका असर दो दिन पहले से ही राज्य के सभी पुलिस पदाधिकारियों, प्रशासनिक अधिकारियों, भाजपा नेताओं एवं रघुवर सरकार पर दिखने लगा है। राज्य में सारे प्रशासनिक कार्य ठप हैं,

Breaking News