अगस्त क्रांति दिवस से पलामू के तीन विधानसभा क्षेत्रों में चलेगा झामुमो का बदलाव रथ यात्रा, बताई जायेगी सरकार की नाकामी 

आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए झारखण्ड की मुख्य विपक्षी पार्टी झामुमो ने भी अलग-अलग विधानसभा को लेकर अपनी रणनीति बनानी शुरु कर दी है। इसी क्रम में प्रेस वार्ता का आयोजन कचहरी परिसर के कृष्णा इन होटल में जिला अध्यक्ष राजेंद्र कुमार सिन्हा के नेतृत्व में रखा गया। प्रेस वार्ता में श्री सिन्हा ने स्पष्ट तौर पर कहा कि आगामी आने वाले विधानसभा चुनाव को देखते हुए पार्टी ने सदस्यता अभियान की शुरुआत करने का निर्णय लिया है।

आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए झारखण्ड की मुख्य विपक्षी पार्टी झामुमो ने भी अलग-अलग विधानसभा को लेकर अपनी रणनीति बनानी शुरु कर दी है। इसी क्रम में प्रेस वार्ता का आयोजन कचहरी परिसर के कृष्णा इन होटल में जिला अध्यक्ष राजेंद्र कुमार सिन्हा के नेतृत्व में रखा गया। प्रेस वार्ता में श्री सिन्हा ने स्पष्ट तौर पर कहा कि आगामी आने वाले विधानसभा चुनाव को देखते हुए पार्टी ने सदस्यता अभियान की शुरुआत करने का निर्णय लिया है।

इसके साथ ही झामुमो ने नौ अगस्त को अगस्त क्रांति दिवस के दिन पलामू के तीन विधानसभा क्षेत्र बिश्रामपुर, पांकी और छतरपुर विधानसभा में रथ यात्रा के द्वारा पिछले पांच सालों में हुई रघुवर सरकार की नाकामी को जनता तक, गांव-गांव तक, नुक्कड़ सभा के माध्यम से, बताया जाएगा। जिला अध्यक्ष ने कहा कि सदस्यता अभियान के लिए प्रत्येक प्रखण्ड के लिए प्रभारी की नियुक्ति कर दी गई है। पूरे पलामू में डेढ़ लाख लोगों को झामुमो से जोड़ा जाएगा जिसमे युवाओं और महिलाओं को विशेष प्राथमिकता दिया जाएगा।

जिला अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा को अपनी रसूख और तामझाम छोड़कर जनता की समस्याओं के निदान के लिए काम करना चाहिए था। संगठन को बुनियादी सुविधाएं जैसे बिजली आपूर्ति, पानी आपूर्ति, राशन की आपूर्ति, दवा की आपूर्ति कराने का अभियान, स्कूलों में शिक्षा दिलाने का अभियान, वृद्धा पेंशन, विधवा पेंशन, विकलांग पेंशन दिलाने का अभियान, किसानों को कम मूल्य पर खाद-बीज एवं कीटनाशक दिलाने का अभियान चलाना चाहिए था, परंतु जमीनी मुद्दे सहित शिक्षा, चिकित्सा, व्यापार, रोजगार के बजाय भाजपा सदस्यता अभियान के माध्यम से लोगों का ध्यान भटकाने का असफल प्रयास कर रही है। 

केंद्रीय समिति सदस्य सह जिला प्रवक्ता राजमुनि मेहता ने कहा कि 60 प्रतिशत से अधिक वोट पाने के बावजूद भी भाजपा के द्वारा चलाए जा रहे सदस्यता अभियान यह दर्शाता है कि उन्हें इस जनमत पर भरोसा नहीं है अथवा राज्य में उनकी सरकार पूरी तरह से फेल है। पार्टी यह बात जानती है कि झारखंड में रघुवर सरकार की गलत नीतियों के कारण जनता में भारी आक्रोश है और जनता विकल्प के रूप में हेमंत सोरेन को अपना अगला मुख्यमंत्री के रुप में देख रही हैं। 

जिला सचिव ने कहा कि पलामू में अल्पसंख्यक और दलितों के बीच सरकार का भय व्याप्त है। जिससे ये लोग घरों में दुबके हुए हैं। लोगों को रघुवर सरकार के द्वारा सीएनटी-एसपीटी एक्ट में संशोधन करने का प्रयास, छात्रों-नौजवानों की छात्रवृत्ति घटाने, भूमि अधिग्रहण बिल के माध्यम से किसानों का जमीन लूटकर पूंजीपतियों को देने, राज्य में लचर बिजली-पानी की व्यवस्था, बेरोजगारी की समस्या आदि से जनता इस सरकार से नाखुश है। 

झामुमो नेता राहुल कुमार दुबे ने कहा कि पूरे प्रमंडल में स्वास्थ्य मंत्री रामचन्द्र चंद्रवंशी ने अस्पतालों को कचड़ा का घर बना दिया है। मरीजों को कोई सुविधाएं नही मिल रही। पलामू के सदर अस्पताल में एक भी मशीन सही से काम नही करती सभी कर्मचारी लोग सरेआम घूस लेने पर उतारु हो गए हैं, क्योंकि स्वास्थ्य मंत्री स्वयं घूस लेने में व्यस्त है। घूस लेने का वीडियो वायरल होने के बाद मंत्री सफाई नही दे पा रहे हैं और रघुवर दास कहते है कि मेरी जीरो टॉलरेंस की सरकार है। 

झामुमो नेता ओंकार जायसवाल ने भी साफ तौर पर कहा कि पांकी विधानसभा सिर्फ झूठ का अड्डा बन गया है। सरकार द्वारा बड़े-बड़े होर्डिंग, बैनर और पोस्टर लगाकर सदस्यता अभियान चलाने से जनता की समस्या दूर नहीं होने वाली है। जनता ने उन्हें नगर पंचायत से लेकर प्रधानमंत्री पद तक बैठाने का काम किया है। उन्हें जनसमस्याओं को सुनना भी चाहिए। प्रेस कॉन्फ्रेंस में विनोद विश्वकर्मा, प्रिंस सिंह सहित कई झामुमो नेता भी शामिल थे।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

लो जी, जुलाई भी खत्म हो गया, उस धमकी का क्या हुआ? जुलाई तक बिजली नहीं सुधरी तो सबको सुधार देंगे?

Wed Jul 31 , 2019
भाई, हमारे राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास, यह ढिंढोरा पीटते नहीं थकते, कि राज्य में डबल इंजन की सरकार है। उनका डबल इंजन की सरकार का मतलब होता है, कि केन्द्र और राज्य दोनों में भाजपा की सरकार है और यह राज्य बड़ी तेजी से विकास कर रहा है, इसी घमंड में वे पता नहीं विभिन्न बैठकों में क्या-क्या आदेश दे देते हैं, अधिकारियों को क्या चेतावनी दे देते हैं, उन्हें पता ही नहीं होता।

Breaking News