इरफान ने दी निशिकांत को चुनौती, मेरा पैर का पानी पियो, मैं तुम्हें मुख्यमंत्री बनवाऊंगा

जामताड़ा के कांग्रेसी विधायक इरफान अंसारी, इन दिनों बहुत गुस्से में है। पिछले दिनों गोड्डा सांसद निशिकांत दूबे के पैर का धोवन, उनके समर्थक द्वारा पी लिये जाने, तथा इस घटना को उनके द्वारा सोशल साइट फेसबुक पर महिमामंडित किये जाने से इरफान आगबबूला है।

जामताड़ा के कांग्रेसी विधायक इरफान अंसारी, इन दिनों बहुत गुस्से में है। पिछले दिनों गोड्डा सांसद निशिकांत दूबे के पैर का धोवन, उनके समर्थक द्वारा पी लिये जाने, तथा इस घटना को उनके द्वारा सोशल साइट फेसबुक पर महिमामंडित किये जाने से इरफान आगबबूला है।

इरफान अंसारी का मानना है कि इस घटना में, कहीं न कहीं नरेन्द्र मोदी, अमित शाह का भी हाथ है। उन्होंने जामताड़ा बाजार में अपने समर्थकों के बीच साफ कहा कि चूंकि दलित लोग, ओबीसी लोग इसको वोट नहीं देता है, इसीलिए ये लोग इनके साथ इस प्रकार का व्यवहार करते हैं। इरफान अंसारी के शब्दों में, ऐसे भ्रष्ट सांसद को, ऐसे लूच्चा सासंद को अगर झारखण्ड में घूसने दिया गया तो इसे कांग्रेस पार्टी बर्दाश्त नही करेगी।

उन्होंने यह भी कहा कि ये पुल क्या होता है, ऐसे लाखों पुल उनके पिता फुरकान अंसारी ने बनवा दिये, लेकिन सम्मान ऐसे नहीं होता, अगर इतना ही इनको सम्मान प्रदर्शन करना था, तो ये गले में माला पहना देते, उसे गले लगा लेते, पर ये क्या, अपना पैर का मोजा खुलवाकर पैर धुलवाना और उसका पानी पिला देना, ये तो अपमान है और आप इसे फेसबुक पर पोस्ट कर रहे हैं, आप हंस भी रहे हैं, ये क्या मजाक है।

ये झारखण्डवासियों के सेंटीमेंट पर लगा है, मैं ये कहूंगा निशिकांत को कि तुम मेरा पैर का पानी पियो, मैं तुम्हें झारखण्ड का मुख्यमंत्री बनवाऊंगा, तुम मेरे जूते का पानी पियो, पैर का पानी पियो, मैं नरेन्द्र मोदी क्या, राहुल गांधी से मांग करुंगा कि इसने अल्पसंख्यक के पैर का पानी पिया है, इसे झारखण्ड का मुख्यमंत्री बनाया जाये, ये अपमान है झारखण्डवासियों का, हमलोग किसी भी कीमत पर इसे झारखण्ड से खदड़ेंगे।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

अपनी ही सरकार के खिलाफ नगर विकास मंत्री सीपी सिंह कोतवाली थाने में धरने पर

Wed Sep 19 , 2018
राज्य में सरकार किसकी, भाजपा की और भाजपा के ही मंत्री अपनी ही सरकार के खिलाफ कोतवाली धरने पर बैठ जाये तो इसे क्या कहेंगे? इसका मतलब है कि यहां सरकार नाम की कोई चीज ही नहीं, ये कोई पहली बार घटना नहीं घटी है, समय-समय पर सरकार की कई नीतियों से खफा, राज्य के कई मंत्री राज्य सरकार की कार्यशैली पर अंगूली उठा चुके है।

Breaking News