पैसा नहीं कमाओगी और बड़े नेताओं को खुश नहीं रखोगी, तो तुम्हें कौन टिकट दिलाएगा?

झारखण्ड महिला कांग्रेस की प्रदेश महासचिव संगीता तिवारी ने आज प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि आज दिनांक 18 अगस्त को झारखंड प्रदेश के सारे समाचार पत्रों में पांच महिला पदाधिकारियों के निष्कासन की खबर पर उन्हें आश्चर्य हुआ है। संगीता तिवारी का कहना है कि जहां एक तरफ पार्टी में कार्यकर्ताओं की कमी और पार्टी वेंटिलेटर पर चल रही है, वहां पार्टी से कर्मठ पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं को निकाला जा रहा है।

उन्होंने आरोप लगाया कि झारखंड महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष गुंजन सिंह महिला कांग्रेस के पदाधिकारियों के साथ बदसलूकी करती है, औरतों को बड़े लोगों के पास भेजने का काम करती है, जो इनका विरोध करता है, उन्हें केस में फंसाने और पार्टी से निष्कासन करने की धमकी देती है। इस काम में झारखंड महिला कांग्रेस के प्रभारी नेटा डिसूजा का सहयोग प्राप्त है। नेटा डिसूजा कभी भी किसी महिला पदाधिकारी का कॉल रिसीव नहीं करती है।

संगीता तिवारी ने कहा कि केवल गुंजन सिंह जब फोन कर बोलती है कि फलाने पदाधिकारी ने हमारी बात नहीं मान रही, जहां भेज रही हूं, नहीं जा रही है तब प्रभारी उस पदाधिकारी को फोन कर धमकाती है कि आगे बढ़ना है, टिकट पर चुनाव लड़ना है तो जैसा गुंजन सिंह बोलती है करो। पैसा नहीं कमाओगी और बड़े नेताओं को खुश नहीं रखोगी, तो तुम्हें कौन टिकट दिलाएगा।

संगीता तिवारी के कथनानुसार, प्रदेश अध्यक्ष गुंजन सिंह का शुरू से ही इतिहास संदेहास्पद रहा है। उनके ऊपर बहुत ही गंभीर आरोप लगा हुआ है, उसके बाद भी नियुक्ति करना महिला कांग्रेस के लिए शर्मनाक है। उन्होंने यह भी कहा कि वे राजनीति करती है, गरीब, दबेकुचले और शोषण के खिलाफ आवाज उठाने के लिए, अगर पदाधिकारियों पर ऐसी आफत आएगी तो वह चुप नहीं बैठने वाली, चाहे पार्टी उन्हें रखें या निकाले। इस गंदगी से खुद निकल जाना उनके लिए बेहतर होगा।

संगीता तिवारी ने कांग्रेस के उच्च पदाधिकारियों से मांग की है कि गुंजन सिंह और नेटा डिसूजा पर कार्रवाई कर, मामले को गंभीरतापूर्वक जांच कराई जाये। मौके पर प्रियदर्शनी कोऑर्डिनेटर हेमा मिंज, प्रदेश सचिव राखी कौर, रांची महानगर जिला अध्यक्ष विनीता पाठक, सालु कौर,सीमा नाग,सोनम, प्रिया सहित कई पदाधिकारी उपस्थित थीं।