मुझे रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण पर गर्व है…

रक्षामंत्री की जिम्मेदारी निर्मला सीतारमण जब से संभाली हैं, रक्षा मंत्रालय में जोश व उत्साह का संचार हुआ है। ऐसा हो भी क्यों नहीं?, निर्मला सीतारमण के व्यक्तित्व के क्या कहने। अपनी कार्यशैली से उन्होंने बहुत ही कम समय में सम्मान की ऊंचाइयों को छू ली है। अत्यंत सादगी और सरल स्वभाव की धनी, निर्मला सीतारमण ने अपनी कार्यशैली से सबको चौकाया है। देश ही नहीं, विदेशी समाचार पत्रों व एजेसिंयों में निर्मला सीतारमण की चर्चाएं है।

हाल ही में भारत-चीन सीमा पर पहुंची निर्मला सीतारमण, जब चीनी सैनिकों से बातचीत की, उनका कुशलक्षेम पुछा तो भारत की कट्टर विरोधी चीनी सरकारी एजेंसी ग्लोबल टाइम्स ने भी भारतीय रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण की जमकर प्रशंसा की। जबकि सभी जानते है कि ग्लोबल टाइम्स को भारत का विरोध करने में बहुत ही आनन्द आता है, पर निर्मला सीतारमण के व्यक्तित्व का प्रभाव कहिये कि शत्रु भी अभिनन्दन की भाषा बोल रहा था।

यहीं नहीं निर्मला सीतारमण एक बार फिर चर्चा में है, क्योंकि उन्होंने रक्षा मंत्रालय में एक नई परिपाटी को जन्म दिया है। रक्षामंत्री के रुप में बहुत ही कम समय में, उन्हें विदेशी मेहमानों से जो भी उपहार मिले हैं, उन बहुमूल्य उपहारों को उन्होंने बहुत ही तत्परता से सरकारी तोशाखाने में जमा करा दिये। हाल ही में अमेरिकी रक्षामंत्री ने उन्हें शीशे से बना चॉकलेट का एक सुंदर कटोरा भेंट किया, जिस पर रंगीन पच्चीकारी की हुई थी। जिसका भारत में मूल्य लाख रुपये से भी अधिक होगा। इसी तरह फ्रांसीसी रक्षामंत्री ने उपहार के रुप में उन्हें एक नक्काशीदार पर्ल स्टैंड दिया। निर्मला सीतारमण ने ये सारी उपहार की चीजें सरकार के सुपुर्द कर दिये, जबकि उनके पहले के जितनें भी रक्षामंत्री बने, ऐसे उपहारों को सरकार को न देकर, स्वयं अपने पास रख लिये। ऐसे में, ऐसी बहादुर महिला, कर्तव्यनिष्ठ, सुसंस्कृत, विचारवान, देशभक्ति की मिसाल निर्मला सीतारमण का हम अभिनन्दन क्यों न करें।