हेमन्त सोरेन ने राज्य के होनहार CM के बयान की बैंड बजा दी, पूछा कि लगे हाथों साल भी बता दें कि वे कब उन्हें होटवार भेजेंगे?

झारखण्ड के मुख्यमंत्री रघुवर दास के उस बयान कि “झामुमो नेता होटवार, कांग्रेस के नेता तिहाड़ जेल जायेंगे” की आज नेता प्रतिपक्ष हेमन्त सोरेन ने बैंड बजा दी।  हेमन्त सोरेन ने अपने सोशल साइट फेसबुक के माध्यम से सीधा मुख्यमंत्री रघुवर दास से सवाल पुछ डाला कि लगे हाथों यह भी बताइये कि ये शुभ काम आप कब करेंगे? 2022, 2024, 2028 या आपके चांद पर मूर्खमंत्री बनने के बाद।

झारखण्ड के मुख्यमंत्री रघुवर दास के उस बयान कि “झामुमो नेता होटवार, कांग्रेस के नेता तिहाड़ जेल जायेंगे” की आज नेता प्रतिपक्ष हेमन्त सोरेन ने बैंड बजा दी।  हेमन्त सोरेन ने अपने सोशल साइट फेसबुक के माध्यम से सीधा मुख्यमंत्री रघुवर दास से सवाल पुछ डाला कि लगे हाथों यह भी बताइये कि ये शुभ काम आप कब करेंगे? 2022, 2024, 2028 या आपके चांद पर मूर्खमंत्री बनने के बाद।

हेमन्त सोरेन ने रघुवर दास के इस बयान की तीखी आलोचना की है। उन्होंने कहा कि एक पैसा का इल्जाम नहीं लगा सकता कोई उन पर, सारे जांच करा लीजिये मूर्खमंत्री जी – कुछ नहीं होगा? पर आपके कारनामों की जांच होगी? हाथी कैसे उड़ा? कम्बल जमशेदपुर के आपके करीबी ने कैसे लूटा? आपके परिवार की गुंडागर्दी और अन्य कारनामे टैब से लेकर डस्टबीन घोटाला सबका हिसाब नवम्बर के बाद जनता को देना होगा। # झूठा इन चीफ।

मुख्यमंत्री रघुवर दास द्वारा किये गये इस हमले का हेमन्त सोरेन द्वारा दिये गये जवाब पर राजनैतिक पंडितों का कहना है कि दरअसल जब आपके हाथों से सत्ता खिसकने लगती है, तो आप पायेंगे कि सत्तापक्ष के लोग जनता के बीच इस प्रकार की हरकतें करने लगते हैं, जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती, अब सवाल उठता है कि जब मुख्यमंत्री रघुवर दास को लगता है कि हेमन्त सोरेन ने होटवार जाने के लायक काम किया है तो वे साढ़े चार साल से कर क्या रहे थे? इसी लोकसभा के चुनाव का इंतजार कर रहे थे क्या? कि इस मुद्दे को चुनाव में उठायेंगे और जनता इतनी मूर्ख है, वो भी आपकी तरह की वो इस मसले पर आपके साथ हो जायेंगी।

राजनैतिक विश्लेषकों का मानना है कि जिस प्रकार की भाषा का प्रयोग अपने विपक्षियों के लिए राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास कर रहे हैं, कहीं उन्हें ही लेने के देने न पड़ जाये, क्योंकि मोमेंटम झारखण्ड में  हुई भारी गड़बड़ियां उन्हें आराम से जेल तक पहुंचा सकती है, उन्हें ये भूलना भी नहीं चाहिए, रघुवर दास को यह भी नहीं भूलना चाहिए कि उन्हीं के मंत्रिमंडल में शामिल एक मंत्री सरयू राय, को उनके कैबिनेट मीटिंग में बैठने तक में शर्म महसूस होती है, ये जगजाहिर भी है, इसलिए सीएम रघुवर “चलनी दूसे सूप के, जिन्हें बहत्तर छेद” वाली लोकोक्ति को चरितार्थ करने से बाज आये।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

राज्य के होनहार CM रघुवर की नजरों में विपक्ष चोट्टा है, साला है, जयचंद व मीरजाफर की औलाद है

Sat May 11 , 2019
आम तौर पर विपक्ष के नेताओं की भाषा व उनके बोल को लेकर, उन्हें घेरनेवाले हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, थोड़ा अपने प्यारे-दुलारे, राज्य में अब तक हुए मुख्यमंत्रियों में से सर्वाधिक होनहार मुख्यमंत्री खुद को समझनेवाले रघुवर दास की भाषा पर भी ध्यान देते, तो निःसंदेह, उन्हें झारखण्ड में भी अच्छी सफलता प्राप्त होती, पर उन्हें नहीं पता कि मुख्यमंत्री रघुवर दास की घटिया स्तर की भाषा और बोल ने झारखण्ड में भाजपा की लूटिया डूबो दी है। 

Breaking News