भाजपा के परंपरागत वोटों में झामुमो ने सेंध लगाई, ब्राह्मणों ने बड़े पैमाने पर झामुमो को दिया वोट

भाजपा के परंपरागत वोटों में झामुमो ने सेंध लगा दी है। इस बार नगर निकाय के चुनाव में झामुमो ने भाजपा के परंपरागत वोट माने जानेवाले ब्राह्मणों और अन्य सवर्णों के वोटों पर अपना कब्जा जमाने में सफलता प्राप्त कर ली है। झारखण्ड के कई इलाकों में ब्राह्मणों ने इस बार भारी संख्या में झामुमो के पक्ष में मतदान कर भाजपा की नींद उड़ा दी।

भाजपा के परंपरागत वोटों में झामुमो ने सेंध लगा दी है। इस बार नगर निकाय के चुनाव में झामुमो ने भाजपा के परंपरागत वोट माने जानेवाले ब्राह्मणों और अन्य सवर्णों के वोटों पर अपना कब्जा जमाने में सफलता प्राप्त कर ली है। झारखण्ड के कई इलाकों में ब्राह्मणों ने इस बार भारी संख्या में झामुमो के पक्ष में मतदान कर भाजपा की नींद उड़ा दी।

आमतौर पर माना जाता था कि ब्राह्मण पूर्व में कांग्रेस को वोट दिया करते थे, बाद में इनका वोट भाजपा की ओर शिफ्ट किया, और अब ये वोट पहली बार नगर निकाय चुनाव में झामुमो की ओर शिफ्ट किया है, इस कारण इस बार नगर निकाय चुनाव के परिणाम अप्रत्याशित हो सकते हैं। यहीं बात ब्राह्मणों के अलावे अन्य सवर्ण जातियों में भी देखी गई हैं। रांची नगर निगम, दुमका नगर परिषद, मेदिनीनगर निगम तथा गढ़वा नगर परिषद के जब परिणाम आयेंगे तो इसकी स्वीकृति साफ देखने को मिल जायेगी।

सूत्र बताते है कि ब्राह्मणों का भाजपा से मोहभंग हो चुका है, क्योंकि पिछले दिनों गढ़वा में जिस प्रकार राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने गढ़वा में ब्राह्मणों के खिलाफ आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग किया और जिस प्रकार पूरे राज्य में ब्राह्मणों ने भाजपा और मुख्यमंत्री रघुवर दास के खिलाफ अपना आक्रोश दिखाया, इस बार नगर निकाय चुनाव के मतदान के दिन, वह स्पष्ट रुप से दिखा। अगर यहीं हाल रहा तो आनेवाले विधानसभा और लोकसभा के चुनाव में कई सीटों से भाजपा को हाथ धोना पड़ सकता है।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

भगवान परशुराम का परशु और उनके पद चिह्न देखने के लिए झारखण्ड पधारें

Wed Apr 18 , 2018
आज भगवान परशुराम जयंती है, पर बहुत कम लोगों को मालूम है कि भगवान परशुराम का संपर्क झारखण्ड से भी हैं। झारखण्ड की राजधानी रांची से करीब 160 किलोमीटर दूर हैं, टांगीनाथ धाम। दरअसल झारखण्ड में परशु यानी फरसे को टांगी कहा जाता है और लोगों का मानना है कि टांगीनाथ धाम में जो टांगी हैं, वह भगवान परशुराम का है और यहां भगवान परशुराम के पदचिह्न भी हैं।

Breaking News