भाकपा माले ने अपने विधायक के खिलाफ लिया कठोर निर्णय, सभी पदों से किया मुक्त

भाकपा माले ने अपने विधायक राज कुमार यादव को सभी पदों से आज मुक्त कर दिया। विधायक राज कुमार यादव पर आरोप है कि पिछले दिनों राज्यसभा चुनाव के मतदान के दौरान सत्तापक्ष को मदद करने के उद्देश्य से जानबूझकर ऐसी गड़बड़ियां की, जिससे सत्तापक्ष को लाभ पहुंच जाये, इसे लेकर भाकपा माले की प्रतिष्ठा पर आंच आई।

भाकपा माले ने अपने विधायक राज कुमार यादव को सभी पदों से आज मुक्त कर दिया। विधायक राज कुमार यादव पर आरोप है कि पिछले दिनों राज्यसभा चुनाव के मतदान के दौरान सत्तापक्ष को मदद करने के उद्देश्य से जानबूझकर ऐसी गड़बड़ियां की, जिससे सत्तापक्ष को लाभ पहुंच जाये, इसे लेकर भाकपा माले की प्रतिष्ठा पर आंच आई।

आज राज कुमार यादव को सभी पदों से मुक्त करने की बात, www.vidrohi24.com को भाकपा माले नेता भुवनेश्वर केवट ने बतायी। भुवनेश्वर केवट का कहना था कि पार्टी ने एक कमेटी बनाई हैं। यह केन्द्रीय कमेटी राज कुमार यादव पर लगे आरोपों की जांच करेगी और जांचोपरांत ही निर्णय करेगी कि उनके साथ पार्टी क्या करे या क्या न करें? भुवनेश्वर केवट का कहना था कि कोई भी व्यक्ति चाहे वह बड़ा हो या छोटा, वह पार्टी की संविधान से बड़ा नहीं हो सकता।

उन्होंने कहा कि इतिहास गवाह है कि अगर पार्टी के किसी भी सदस्य ने गड़बड़ियां की, तब पार्टी ने उनके साथ कड़ा रुख अपनाया, क्योंकि जनता के साथ धोखा, भाकपा माले को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं। भाकपा माले के इस निर्णय ने भाकपा माले के प्रति जनता के विश्वास को और मजबूत किया हैं, यहीं चीजें, अन्य दलों में देखने को नहीं मिलती, दूसरे दलों में आप कुछ भी गड़बड़ कर लीजिये, अगर आपके पास धन हैं या बाहुबल है तो आपको कोई कुछ बोलनेवाला नहीं, पर भाकपा माले में ऐसा देखने को नहीं मिलेगा।

खुशी इस बात की है कि भाकपा माले ने अपनी ये परंपरा आज भी जीवित रखी हुई हैं, साथ ही भाकपा माले ने आज एक बार फिर सिद्ध किया कि उसके सदन में एक विधायक हो या कई विधायक, वह अपने सिद्धांतों और जनता से किये गये वायदों से भटकने को तैयार नहीं, अब इंतजार कीजिये केन्द्रीय कमेटी द्वारा पेश किये जानेवाले जांच रिपोर्ट का, उस रिपोर्ट में राजकुमार यादव के खिलाफ क्या रिपोर्ट देखने को मिलती है?

Krishna Bihari Mishra

Next Post

सर्वोच्च न्यायालय ने कहा, एससी-एसटी ऐक्ट के खिलाफ नहीं, पर निर्दोषों को बचाना जरुरी

Tue Apr 3 , 2018
सर्वोच्च न्यायालय ने आज स्पष्ट कहा कि वह एससी-एसटी ऐक्ट के खिलाफ नहीं हैं, पर निर्दोष लोगों को बचाना भी जरुरी हैं। केन्द्र सरकार द्वारा स्टे की मांग को खारिज करते हुए सर्वोच्च न्यायालय ने तीन दिन में सभी पक्षों से लिखित जवाब मांगा है। न्यायालय ने कहा है कि उसने ऐक्ट को कमजोर नहीं किया, पर गिरफ्तारी के सीआरपीसी के प्रावधान को परिभाषित अवश्य किया है।

Breaking News