भाकपा माले ने नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन्स में व्याप्त खामियों पर अंगूलिया उठाई

असम में नेशनल रजिस्‍टर ऑफ सिटीजन्‍स (एनआरसी) की फाइनल सूची प्रकाशित हो चुकी है। 19 लाख से ज्‍यादा लोग (कुल 19,06,657) इस सूची से बाहर हैं। चिन्‍ता की बात है कि इतनी बड़ी संख्‍या में बहिष्‍करण भारी मानवीय संकट का कारण बन सकता है। जो लोग एनआरसी से बहिष्‍कृत हुए हैं, उन्‍हें 120 दिनों के भीतर फॉरेनर्स ट्रिब्‍यूनल में आवेदन करना होगा।

भाकपा माले के महासचिव दीपंकर भट्टाचार्य ने नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन्स में व्याप्त खामियों पर चिन्ता जताई है। उन्होंने कहा है कि असम में नेशनल रजिस्‍टर ऑफ सिटीजन्‍स (एनआरसी) की फाइनल सूची प्रकाशित हो चुकी है। 19 लाख से ज्‍यादा लोग (कुल 19,06,657) इस सूची से बाहर हैं। चिन्‍ता की बात है कि इतनी बड़ी संख्‍या में बहिष्‍करण भारी मानवीय संकट का कारण बन सकता है। जो लोग एनआरसी से बहिष्‍कृत हुए हैं, उन्‍हें 120 दिनों के भीतर फॉरेनर्स ट्रिब्‍यूनल में आवेदन करना होगा।
यद्यपि असम सरकार ने इसके लिए कानूनी सहायता देने का वायदा किया है, और तमाम नागरिक संगठन भी इस दिशा में कानूनी एवं पैरा-लीगल सहायता में लगे हुए हैं, यह प्रक्रिया सूची से बाहर रह गये अधिकांश लोगों के लिए काफी कष्‍टप्रद होगी। अत: हम सभी वाम कार्यकर्ताओं और न्‍यायप्रिय नागरिकों से अपील करते हैं कि वे सूची से बाहर रह गये लोगों को फॉरेनर्स ट्रिब्‍यूनल और अदालतों में न्‍याय दिलाने के लिए अपने संसाधनों, सहायता और समर्थन से भरपूर मदद करें। 
उन्होंने यह भी कहा कि यह बेहद चिन्‍ता का विषय है कि करीब बीस लाख लोग जो नागरिकता से विहीन हो सकते हैं, उनके लिए राज्‍य सरकार और केन्‍द्र सरकार दोनों के पास कोई स्‍पष्‍ट योजना नहीं है। जब तक फॉरेनर्स ट्रिब्‍यूनल की प्रक्रिया और सुनवाई चलती है, तब तक एनआरसी से बाहर रह गये लोगों को सम्‍पूर्ण नागरिकता अधिकार मिलने चाहिए।
रिपोर्टों के अनुसार असम में बड़े स्‍तर पर डिटेन्‍शन कैम्‍पों का निर्माण किया जा रहा है. जो डिटेन्‍शन कैम्‍प पहले से ही हैं उनमें मानवाधिकारों का भयानक उल्‍लंघन हो रहा है और परिस्थितियां बिल्‍कुल अमानवीय हैं। हमारी मांग है कि पुराने डिटेन्‍शन कैम्‍पों को बंद किया जाय और नये निर्माण पर रोक लगे. किसी भी व्‍यक्ति को ‘संदेहास्‍पद मतदाता’ (डाउटफुल वोटर) बता कर अनिश्चित काल के लिए डिटेन्‍शन कैम्‍प में डाल देना अमानवीय भी है और असंवैधानिक भी। 
उन्होंने यह भी कहा कि हम सभी लोकतंत्र पसंद लोगों का आह्वान करते हैं कि वे सतर्क रहें और एनआरसी के नाम में टारगेटिंग और उत्‍पीड़न की हर कोशिश का करारा जवाब दें। असम के लोगों ने इस उम्‍मीद में एनआरसी की दुरुह कवायद में हिस्‍सा लिया है ताकि वे सवाल जो लम्‍बे समय से राज्‍य का पीछा कर रहे थे उनसे अब छुटकारा मिल जायेगा, लेकिन भाजपा ने पहले से ही एनआरसी पर अपना साम्‍प्रदायिक और विभाजनकारी एजेण्‍डा आगे कर दिया है।
और अब, भाजपा की दिलचस्‍पी इसे साम्‍प्रदायिक मंशा से लाये गये नागरिकता कानून में संशोधन के प्रस्‍ताव से जोड़ कर पूरे देश में बहिष्‍करण और भेदभाव बढ़ाने के लिए इस्‍तेमाल करने की है। ऐसे मंसूबों को रोकने और खारिज करने के लिए सभी लोकतंत्र पसंद भारतीयों को एकजुट होना होगा। 

Krishna Bihari Mishra

Next Post

क्या है तीज, कब और किसे करना चाहिए, सबसे पहले किसने किया और इसका क्या फल मिलता है?

Mon Sep 2 , 2019
बिहार और उत्तर प्रदेश की महिलाओं के लिए तीज काफी महत्वपूर्ण त्यौहार है। जैसे उत्तर भारत और पश्चिम भारत में करवा चौथ की मान्यता है, ठीक उसी प्रकार बिहार और उत्तर प्रदेश में तीज की मान्यता है। ज्यादातर सौभाग्यवती-सुहागिनें स्त्रियां इस व्रत को बहुत ही धूमधाम से करती हैं तथा ग्रुप में करती है, कही-कही अविवाहित लड़कियां भी इस व्रत को करती है, क्योंकि मान्यता है कि पार्वती ने शिव को पाने के लिए इस व्रत को तब किया था, जब वो अविवाहित थी।

Breaking News