सीपी सिंह ने खेली लालू शैली में कपड़ा फाड़ होली, गाया जोगीरा, सारारारारारा…

भाई ऐसे तो होली हर कोई खेलता है, पर जो होली राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव खेलते हैं, वो होली कोई क्या खेलेगा? कल होली का दिन था, पटना में ज्यादातर पत्रकार व नेता के चेहरे पर मुर्दन्नी छायी हुई थी, बेचारे के चेहरे पर खुशी गायब थी, पटना में एक ही तो नेता थे लालू यादव, जो अपने टोलियों के साथ होली खेलने आये लोगों के चेहरे रंग से बदरंग करते, जोगीरा गाते, और फिर कपड़े फाड़कर होली की बधाई देते, शुभकामनाएं देते,

भाई ऐसे तो होली हर कोई खेलता है, पर जो होली राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव खेलते हैं, वो होली कोई क्या खेलेगा? कल होली का दिन था, पटना में ज्यादातर पत्रकार व नेता के चेहरे पर मुर्दन्नी छायी हुई थी, बेचारे के चेहरे पर खुशी गायब थी, पटना में एक ही तो नेता थे लालू यादव, जो अपने टोलियों के साथ होली खेलने आये लोगों के चेहरे रंग से बदरंग करते, जोगीरा गाते, और फिर कपड़े फाड़कर होली की बधाई देते, शुभकामनाएं देते, पर आजकल लालू प्रसाद यानी गरीबों के मसीहा, होली खेलज्ञ, रांची के होटवार जेल में बंद हैं, अब उनके चाहनेवाले क्या करें? मायूस बैठे रहे, पर बहुत कम को पता है कि लालू प्रसाद की तरह भाजपा में भी एक नेता है, जो आजकल नगर विकास मंत्रालय संभाल रहे हैं, नाम है – सीपी सिंह, ये भी कपड़ा फाड़ होली खेलने के लिए जाने जाते हैं।

लालू प्रसाद यादव की खासियत है कि वे होली खेलने आये सब के कपड़े फड़वाने में माहिर हैं, जबकि सीपी सिंह होली की मस्ती में स्वयं अपने भी कपड़े फड़वा देते हैं, कल रांची स्थित उनके आवास पर, उनके चाहनेवाले को भीड़ लगी रही, वे सभी के गालों पर अपने हाथों से रंग-गुलाल मलते रहे तथा अपने चाहनेवालों से भी खुद के गालों पर रंग-गुलाल मलवाते रहे, मस्ती ऐसी छाई हुई थी, कि एक ओर रंग-गुलाल मलने व मलवाने का दौर चल रहा था, तो दूसरी ओर जोगीरा सारारारारारारा… भी हो रहा था।

जोगीरा गाने की मस्ती में कब किसने किसका कपड़ा फाड़ दिया, पता ही नहीं चला, पर जैसे ही सबकी मस्ती टूटती तब देखता कि उसके कपड़े शरीर से गायब है, या फट चुके हैं, कपड़े फाड़ने-फडवाने में कोई किसी से कम नहीं था,बाद में हर कोई मालपूए व दही बड़े पर हाथ फेरता, हैप्पी होली कहता और खिसकता जाता। ये कार्यक्रम सीपी सिंह के आवास पर दिन भर चलता रहा।

सीपी सिंह के आवास पर उनके कार्यकर्ताओं की टोली सुबह से जो आनी शुरु हुई, वो दिन भर उसका तांता लगा रहा, कोई भूत-प्रेत बनकर आता, तो कोई मोदी की मुखौटा पहनकर आता पर सीपी सिंह की नजरें, सभी को पहचान लेती और फिर शुरु होता, रंग-गुलाल मलने और मलवाने का दौर, कोई सीपी सिंह को खींचकर हाथ में झाल-करताल थमाकर होली गंवाता तो कोई नाचने पर मजबूर करता, पर सीपी सिंह किसी को नाराज करना नहीं चाहते थे, वे भोलेनाथ की तरह अपने कार्यकर्ताओं की मस्ती में डूबते जाते, यानी रांची में लालू प्रसाद होटवार में बंद थे और उनके तरीके से मनाई जानेवाली होली, सीपी सिंह के आवास पर अठखेलियां कर रही थी।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

संरक्षा व नियमों को ताक पर रख चलाया जा रहा रांची हावड़ा शताब्दी एक्सप्रेस

Sat Mar 3 , 2018
प्राप्त जानकारों के अनुसार शताब्दी एक्सप्रेस हाई स्पीड ट्रेन है। जिसकी गति 130 किलोमीटर प्रति घंटा है। रांची के चालक दल इस ट्रेन को धनबाद तक ले जाते हैं, इंजीनियरिंग विभाग के आदेशानुसार रांची से गोमो तक रेलवे ट्रैक 105 किलोमीटर प्रतिघंटा से ट्रेन चलाने के लिए फिट है। इस रेलखंड पर ट्रेनों का परिचालन भी तय  गतिसीमा के अनुसार होता है। गोमो से धनबाद के बीच रेल ट्रेक 130 किलोमीटर प्रतिघंटा के लिए उपयुक्त है।

You May Like

Breaking News