धनबाद के कांग्रेसी सिर्फ प्रिंट मीडिया को ही प्रेस मानते हैं, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के लिए उनके दिल में कोई जगह नहीं

धनबाद जिला कांग्रेस कमेटी की नजर में प्रेस का मतलब सिर्फ प्रिंट मीडिया ही होता है, इलेक्ट्रानिक मीडिया या वेब पोर्टल जैसा कोई मीडिया नहीं होता, इसलिए धनबाद जिला कांग्रेस कमेटी ने कल यानी 12 अप्रैल को होटल ब्लैक रॉक में जो प्रेस कांफ्रेस बुलाई हैं, उसमें सिर्फ प्रिंट मीडिया को ही आमंत्रित किया है। यह प्रेस कांफ्रेस कल अपराह्न 2.30 बजे आयोजित है। जिन अखबारों को प्रेस कांफ्रेस में आमंत्रित किया गया है, उनके नाम इस प्रकार है

धनबाद जिला कांग्रेस कमेटी की नजर में प्रेस का मतलब सिर्फ प्रिंट मीडिया ही होता है, इलेक्ट्रानिक मीडिया या वेब पोर्टल जैसा कोई मीडिया नहीं होता, इसलिए धनबाद जिला कांग्रेस कमेटी ने कल यानी 12 अप्रैल को होटल ब्लैक रॉक में जो प्रेस कांफ्रेस बुलाई हैं, उसमें सिर्फ प्रिंट मीडिया को ही आमंत्रित किया है।

यह प्रेस कांफ्रेस कल अपराह्न 2.30 बजे आयोजित है। जिन अखबारों को प्रेस कांफ्रेस में आमंत्रित किया गया है, उनके नाम इस प्रकार है –   हिन्दुस्तान, दैनिक जागरण, प्रभात खबर, दैनिक भास्कर, आवाज, बिहार ऑब्जर्वर, आज, खबर मंत्र, आजाद सिपाही, कौमी तंजीम, टाइम्स ऑफ इंडिया, हिन्दुस्तान टाइम्स और टेलीग्राफ।

धनबाद जिला कांग्रेस कमेटी के इस रवैये पर इलेक्ट्रॉनिक और वेब पोर्टल के पत्रकारों ने कांग्रेस के नेताओं की कड़ी आलोचना की है, तथा इस पूरे प्रकरण को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है। इलेक्ट्रानिक मीडिया से जुड़े एक पत्रकार ने विद्रोही24.कॉम से बातचीत में कहा कि कांग्रेसियों को पता ही नहीं है कि मीडिया के साथ कैसे व्यवहार किया जाता है? अगर ये अभी भी नहीं चेते, तो नुकसान इन्हीं का हैं, ये समझ नहीं पा रहे।

धनबाद जिला कांग्रेस कमेटी ने जो प्रेस कांफ्रेस के संबंध में प्रिंट मीडिया के साथ पत्राचार किया है, उस पत्र में धनबाद जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष ब्रजेन्द्र प्रसाद सिंह के हस्ताक्षर हैं। यह पत्र आज ही जारी किया गया है। कांग्रेस के कई नेताओं ने इसे मानवीय भूल बताया, वहीं इलेक्ट्रानिक व प्रिंट मीडिया के पत्रकार अभी भी आक्रोशित है, कहीं ऐसा नहीं कि ये सारे पत्रकार प्रेस कांफ्रेस का बहिष्कार कर दें, क्योंकि इनका कहना है कि यह तो कांग्रेस के द्वारा इलेक्ट्रानिक व वेब पोर्टल के पत्रकारों का सीधा-सीधा अपमान है।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

चतरा में लालू का जादू बरकरार, लालू समर्थकों ने कांग्रेसी नेता धीरज साहू का किया घेराव

Thu Apr 11 , 2019
लालू प्रसाद जेल में रहे या लालू प्रसाद बाहर रहे, जो उनके समर्थक हैं, उन्हें क्या फर्क पड़ता है, वे तो आज भी लालू की आशिकी में उतने ही दिवाने हैं, जितने कल थे। चूंकि चतरा सीट महागठबंधन में हुए समझौते के अनुसार कांग्रेस को मिली है, लेकिन राष्ट्रीय जनता दल ने भी यहां से अपना उम्मीदवार सुभाष यादव को खड़ा कर दिया है। राजद का कहना है कि चतरा में उसकी अच्छी पकड़ हैं, और यहां से वह बिना किसी के समर्थन के भी आराम से जीत सकता हैं।

Breaking News