CM के अतिप्रिय BJP विधायक ढुलू पर यौन शोषण का आरोप, BJP नेत्री ने किया आत्मदाह का प्रयास

आखिरकार धनबाद की जिला मंत्री कमला कुमारी ने अपने पूर्व में दिये गये बयान के अनुसार न्याय नहीं मिलने के कारण, कतरास थाना के ठीक सामने आत्मदाह करने का प्रयास किया, फिलहाल कमला कुमारी को बचा लिया गया है, पर वो आज भी पत्रकारों को बताई कि अगर उसे न्याय नहीं मिला, तो वह अब रांची आकर, मुख्यमंत्री रघुवर दास के सामने आत्मदाह का प्रयास करेगी।

हम आपको बता दे कि कमला कुमारी ने कतरास थाना में विधायक समर्थक अयोध्य़ा ठाकुर के खिलाफ एक प्राथमिकी दर्ज कराई थी, जिसमें उसने उसके साथ यौन शोषण हुआ, वह बात कहीं थी, उसे लगा था कि धनबाद पुलिस न्याय देगी, उसे लगा था कि वह चूंकि भाजपा की जिला मंत्री है, उसे न्याय मिलेगा, राज्य व केन्द्र में भाजपा का शासन है, उसे न्याय मिलेगा, पर न्याय नहीं मिलने से आजिज होकर उसने तीन दिन पूर्व कहा था कि चूंकि धनबाद पुलिस आरोपी को गिरफ्तार नहीं कर रही है, और उसे बाघमारा विधायक के इशारे पर बचाने का काम हो रहा है, इसलिए उसके सामने अब आत्मदाह करने के सिवा कोई विकल्प नहीं है, और उसने आज आखिर आत्मदाह करने की कोशिश कर ही डाली, पर स्थानीय पुलिस अभी भी उसे न्याय दिलाने के पक्ष में नहीं है।

इधर आत्मदाह करने के वक्त, वह आक्रोश में स्थानीय पत्रकारों को बताई कि वह मर जाना पसंद करेंगी, पर किसी की गोद में जाना पसंद नहीं करेगी। वह बोली कि एक लड़की लड़ रही है, संघर्ष कर रही है, पर न तो जिला प्रशासन और न ही पार्टी में शामिल लोग उसकी मदद कर रहे हैं।

वह पत्रकारों को बताई कि वह जीना नहीं चाहती, क्योंकि यहां का भाजपा विधायक ढुलू महतो उसको प्रताड़ित कर रहा है। वह बताई की यहां का विधायक अयोध्या ठाकुर को प्रताड़ित करने के लिए उसके पीछे लगा दिया। वह बोलता है कि वह उसका बात नहीं सुनकर बहुत गलती की, लास्ट में तुम वह उसके सामने गिरेगी।

कमला कुमारी ने कहा कि वह मर जायेगी, पर किसी के आगे नहीं झूकेगी, क्योंकि हर महिला एक जैसी नहीं होती, उसने भाजपा विधायक ढुलू महतो पर बहुत ही घिनौने आरोप लगाये, जिसे विद्रोही24.कॉम नहीं लिख सकता। जैसा मीडिया को कमला कुमारी ने बताया है, अगर वह सत्य है तो भाजपा के लोगों को चुल्लू भर पानी में डूब कर मर जाना चाहिए।

धन्य है धनबाद पुलिस, जो 31 अक्टूबर को ऑनलाइन हुई प्राथमिकी पर ध्यान ही नहीं देती है, वह उसके बाद 7 नवम्बर को भुक्तभोगी से लिखित आवेदन लेने के बाद प्राथमिकी दर्ज करती है, उसके बाद भी वह यौन शौषण के आरोपी को बचाने में लगी है, जबकि आरोपी कतरास थाने के आस-पास ही चक्कर लगाता रहता है, जब भाजपा नेत्री ने आत्मदाह की धमकी दी, फिर भी पुलिस नहीं जगी और कमला कुमारी को न्याय नहीं दिलाया, आखिर धनबाद पुलिस किससे डरती है?  आखिर धनबाद में किसका शासन चलता है?

अभी-भी भाजपा नेत्री के साथ हुए इस गलत कार्य पर भाजपा के बड़े-बड़े नेताओं ने चुप्पी साध रखी है, वे विद्रोही24.कॉम से बात करने में ये तो स्वीकारते है कि कमला कुमारी के साथ गलत हुआ है, पर कमला कुमारी को खुलकर समर्थन देने में भय खा रहे है, उन्हें लगता है कि कमला कुमारी का साथ देने से उनका अहित हो सकता है।

आखिर ये दहशत कौन फैला रखा है, कौन कानून को अपनी चौखट पर बांधकर वह सब हरकतें कर रहा हैं, जिसकी इजाजत भारत का कानून नहीं देता। आखिर राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास की क्या मजबूरी है, कि वह अपनी ही पार्टी की एक महिला नेत्री की बात नहीं सुन रहे, आखिर उस मजबूरी के बारे में आम जनता को तो बताना ही चाहिए, कि आखिर ढुलू महतो से इतना मुख्यमंत्री का याराना क्यूं है कि वह भाजपा नेत्री की बात को हवा में उड़ा दे रहा हैं, क्या मुख्यमंत्री को इस बात का इंतजार है कि पीड़िता भाजपा नेत्री उनके सामने कब आत्मदाह करने के लिए रांची आ रही है।