USA ने PAK की औकात बताई, एयरपोर्ट पर PAK PM के कपड़े उतरवाएं, पाकिस्तान में बवाल

कल वे जिनके बल पर कूदते थे, आज वे ही उनके कपड़े उतरवा रहे हैं और वे बड़े कायदे से उनके आगे अपने एक-एक कपड़े उतारने को मजबूर हैं, ये सबक है उन पाकिस्तानियों के लिए, ये सबक उन भारत में रहनेवाले असंख्य पाकिस्तानी समर्थकों के लिए भी, कि जिनके लिए तुम भी अपना सब कुछ लूटवाने के लिए तैयार रहते हो, जरा देख लो उस पाकिस्तान की क्या हालात है? उसके प्रधानमंत्री की क्या हालात है?

कल वे जिनके बल पर कूदते थे, आज वे ही उनके कपड़े उतरवा रहे हैं और वे बड़े कायदे से उनके आगे अपने एक-एक कपड़े उतारने को मजबूर हैं, ये सबक है उन पाकिस्तानियों के लिए, ये सबक उन भारत में रहनेवाले असंख्य पाकिस्तानी समर्थकों के लिए भी, कि जिनके लिए तुम भी अपना सब कुछ लूटवाने के लिए तैयार रहते हो, जरा देख लो उस पाकिस्तान की क्या हालात है? उसके प्रधानमंत्री की क्या हालात है? कैसे पाकिस्तान का प्रधानमंत्री अमरीकन सुरक्षाकर्मियों के आगे असहाय होकर नंगा खड़ा होने को मजबूर है? और अंत में पूरे विश्व में तुम्हारे पाकिस्तान की क्या औकात है?

दरअसल जो जैसा होता है, उसे वैसा ही प्राप्त होता है, अभी कोई ज्यादा दिनों की बात नहीं, पाकिस्तान के जेल में बंद एक भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव से मिलने गये कुलभूषण की मां और उनकी पत्नी के साथ पाकिस्तानियों ने कैसा सलूक किया, जगजाहिर है। बेशर्म पाकिस्तानियों ने सरकार की शह पर कुलभूषण जाधव की पत्नी के हाथों से उसके सुहाग की निशानी मंगलसूत्र और चूड़ियां तक उतरवा ली थी। हिन्दू समाज में महिलाओं के लिए मंगलसूत्र और चूड़ियों का क्या महत्व हैं और ये कब उतारा जाता है? शायद बेशर्म पाकिस्तानियों को पता नहीं, दरअसल ये इंसान है ही नहीं, ये इंसान के नाम पर बदनूमा दाग हैं, जहां आतंक की फसल ही लहलहाती हो, और जहां के आतंकियों को हिन्दूओं को मारने-काटने में ही आनन्द आता हो, जहां हिन्दू लड़कियों को अपहरण कर, उन्हें इस्लाम धर्म में कन्वर्ट करा दिया जाता हो, उससे नेकी की बात करना, इंसानियत का तकाजा रखना ही मूर्खता है। ऐसे भी किसी ने ठीक ही कहा है कि नफरत की जमीन पर प्यार के फूल नहीं खिलते।

भारत से 14 अगस्त 1947 को अलग हुआ पाकिस्तान के नाम से बना देश, अपने जन्म के बाद से ही भटक गया है। उसे भारत से नफरत और जब तक जिंदा हैं भारत से उसकी लड़ाई जारी रहेगी, इसकी यहीं सोच उसकी बर्बाद के कारण है, पर वह अपनी सोच नहीं बदल रहा, जिसका परिणाम देखिये, आज उसका प्रधानमंत्री अमरीका में नंगा होने को मजबूर है, और लोग उसकी वीडियो बनाकर पूरे विश्व में दिखला रहे हैं, कि देखो ये पाकिस्तान का पीएम है।

कमाल है, इस वीडियो को देख पाकिस्तान की 22 करोड़ की आबादी को लग रहा है कि उसकी इज्जत चली गई, पर पाकिस्तान का प्रधानमंत्री जिसका कपड़ा उतारा गया, वह कहता है कि वह निजी यात्रा पर गया था, अब सवाल उठता है कि क्या निजी तौर पर की गई यात्रा में वह व्यक्ति पाकिस्तान का प्रधानमंत्री नहीं था, कितने शर्म की बात है कि वह व्यक्ति ऐसा कहकर निकल जाना चाहता है, पाकिस्तान के विभिन्न चैनलों पर चल रहे इस डिबेट में एक पत्रकार का आक्रोश भरे स्वर में ये कहना कि पाकिस्तानी प्रधानमंत्री को शर्म आनी चाहिए कि उसने 22 करोड़ पाकिस्तानियों की इज्जत गवां दी और फिर भी बेशर्मी से ये कह रहा है कि वह निजी यात्रा पर था।

पाकिस्तानी पत्रकार ये भी कहते है कि पाकिस्तान को भारत से सीखना चाहिए कि जब भारत के एक एक्टर शाहरुख खान के साथ ऐसी ही घटना करने की कोशिश की गई तो भारत सरकार ने इसका कड़ा विरोध किया था और अमरीका को इसके लिए माफी मांगनी पड़ी, पर पाकिस्तान ने तो अमरीका के आगे प्रतिकार तक नहीं किया, इससे बड़ी जलालत और क्या हो सकती हैं, कमाल इस बात की भी है कि पूरे पाकिस्तान में यहां की जनता के पास ये वीडियो वायरल है, पर पाकिस्तान सरकार और उनके नुमाइंदे इस पर चुप्पी साधे हुए हैं, इससे बड़ी पाकिस्तान की बेइज्जती तो कभी हो ही नहीं सकती।

पूरा पाकिस्तान और उसका मीडिया जगत इस घटना से आग-बबूला है पर सरकार इस मुद्दे पर चुप है। अमेरिका के न्यू यार्क स्थित जॉन ऑफ केनेडी एयरपोर्ट पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी को नियमित सुरक्षा जांच से होकर गुजरना पूरे पाकिस्तान के लिए भारी पड़ रहा है, क्या पाकिस्तान इस बेइज्जती से खुद को निकाल पायेगा, या भारत में रह रहे पाकिस्तान के समर्थकों को शर्म आयेगा कि आखिर वे किस देश के लिए, भारत में रहकर, भारत का ही अन्न खाकर, भारत के खिलाफ विषवमन करते हुए पाकिस्तान का साथ देते हैं, भारत विरोधी गतिविधियों में शामिल होते हैं, जबकि भारत ने कभी भी इन बेशर्मों के साथ दगा ही नहीं किया, कहीं  ऐसा तो नहीं कि इनकी फितरत ही ऐसी है कि करेंगे वहीं जिसमें दगाबाजी झलकती हो, पर जब दगाबाजी करोगे तो याद रखो तुम्हें भी पाकिस्तानी प्रधानमंत्री की तरह नंगा होना पड़ेगा, क्योंकि फिर तुम्हारे पास विश्वास का संकट होगा, क्योंकि ऐसी अवस्था में तुम विश्वास खो चुके होगे।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

सिल्ली में आज भी झामुमो के अमित महतो का खूंटा उतना ही मजबूत है, जितना कल था

Thu Mar 29 , 2018
सिल्ली के झामुमो विधायक अमित महतो सहित आठ लोगों को अपर न्यायायुक्त (एजेंसी) दिवाकर पांडे की अदालत ने  23 मार्च को सोनाहातू के पूर्व सीओ आलोक कुमार के साथ मार-पीट करने के आरोप का दोषी पाते हुए दो-दो साल की सजा सुनाई। जैसे ही अमित महतो को दो साल की सजा सुनाई गयी, वैसे ही सिल्ली के विधायक अमित महतो की विधायकी चली गई। अब वे सजा की अवधि समाप्त होने के छह साल बाद तक कोई चुनाव नहीं लड़ पायेंगे।

Breaking News