सिल्ली और गोमिया विधानसभा उपचुनाव में संपूर्ण विपक्ष ने झामुमो प्रत्याशियों को दिया समर्थन

सिल्ली और गोमिया विधानसभा सीटों पर हो रहे उपचुनाव को लेकर झारखण्ड मुक्ति मोर्चा ने संपूर्ण विपक्ष की एक आवश्यक बैठक बुलाई। यह बैठक नेता प्रतिपक्ष हेमन्त सोरेन के आवास पर संपन्न हुआ। बैठक में सर्वसम्मति से संपूर्ण विपक्ष ने भाजपा गठबंधन को दोनों सीटों पर करारा शिकस्त देने के लिए निर्णायक लड़ाई लड़ने का संकल्प लिया।

सिल्ली और गोमिया विधानसभा सीटों पर हो रहे उपचुनाव को लेकर झारखण्ड मुक्ति मोर्चा ने संपूर्ण विपक्ष की एक आवश्यक बैठक बुलाई। यह बैठक नेता प्रतिपक्ष हेमन्त सोरेन के आवास पर संपन्न हुआ। बैठक में सर्वसम्मति से संपूर्ण विपक्ष ने भाजपा गठबंधन को दोनों सीटों पर करारा शिकस्त देने के लिए निर्णायक लड़ाई लड़ने का संकल्प लिया।

बैठक संपन्न होने के बाद संवाददाताओं से बातचीत में हेमन्त सोरेन ने कहा कि संपूर्ण विपक्ष ने झामुमो के प्रत्याशियों को समर्थन देने का निर्णय लिया है। वे संपूर्ण विपक्ष के इस निर्णय से प्रसन्न है और सभी मिलकर भाजपा गठबंधन को पराजित करेंगे। इसके पूर्व यानी कल हेमन्त सोरेन इसी मुद्दे पर झारखण्ड विकास मोर्चा के अध्यक्ष बाबू लाल मरांडी से मिले थे।

आज की बैठक में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस, राष्ट्रीय जनता दल, झाविमो, भाकपा, मासस समेत सभी प्रमुख विपक्षी दलों ने भाग लिया। ज्ञातव्य है कि सिल्ली और गोमिया में जो चुनाव हो रहे है, वो दोनों सीटों पर झारखण्ड मुक्ति मोर्चा के प्रत्याशी ही पिछली बार जीत हासिल किये थे, पर न्यायालय के फैसले आने के बाद दोनों सीटों से झामुमो के विधायकों की विधायकी चले जाने से दोनों सीटे खाली हो गई। ऐसे में भाजपा और आजसू इन दोनों सीटों पर अपने-अपने ढंग से कब्जा जमाने की जुगत में लग गये, पर संपूर्ण विपक्ष के एक हो जाने से भाजपा और आजसू को सफलता मिलेगी, इसकी संभावना पर प्रश्न चिह्न लग गया है।

हेमन्त सोरेन द्वारा संपूर्ण विपक्ष को एक करने के प्रयास ने राज्य में महागठबंधन की संभावना को भी बल प्रदान कर दिया है, अगर ऐसा होता है तो भाजपा आजसू के दिन अभी से ही लद गये, समझ लीजिये, क्योंकि कुछ दिन पहले हुए नगर निकाय चुनाव में भाजपा को मिली सफलता, विपक्षी दलो के वोटों का बिखराव की वजह से ही था, अगर विपक्षी दलो के वोटों का बिखराव नहीं होता, तो भाजपा के हालत नगर निकाय चुनाव में भी पस्त होते, फिलहाल संपूर्ण विपक्ष ने जिस प्रकार से झामुमो को समर्थन दे दिया है, उससे झामुमो के हौसले बुलंद हो गये हैं।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

बदल गई बिहार के गांवों-मुहल्लों-शहरों में भोज-भात की व्यवस्था, पुराने आयटम पूरी तरह समाप्त

Thu May 3 , 2018
पहले बिहार के गांवों-कस्बों, मुहल्लों और शहरों में, किसी के घर में छट्ठी, अन्नप्राशन, मुंडन, जनेऊ, सत्यनारायण की पूजा, विवाह अथवा श्राद्ध होता, तो हर घर में एक ही प्रकार का आयटम दिखाई देता और सभी मिलकर जेवनार का आनन्द लेते, कोई भेदभाव नहीं, कोई ज्यादा दिखावा नहीं, बस सभी को पता है कि जहां जीमने जा रहे है, वहां किस प्रकार के भोजन उपलब्ध होंगे।

Breaking News