झारखण्ड के मुख्यमंत्री रघुवर दास के अनुसार प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की लम्बाई मात्र 56 इंच

जरा सोचिये, अगर आपके सामने कोई 56 इंच का व्यक्ति खड़ा हो जाये, तो उसे देखकर आप कैसा महसूस करेंगे? और वो व्यक्ति कोई और न होकर प्रधानमंत्री हो तो आप कैसा महसूस करेंगे? हालांकि भारत के वर्तमान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कभी उत्तर प्रदेश के चुनावी दौरे के दौरान अपने सीने की लम्बाई 56 इंच बताई थी, जो पूरे देश में चर्चा का विषय बन गया था।

जरा सोचिये, अगर आपके सामने कोई 56 इंच का व्यक्ति खड़ा हो जाये, तो उसे देखकर आप कैसा महसूस करेंगे? और वो व्यक्ति कोई और न होकर प्रधानमंत्री हो तो आप कैसा महसूस करेंगे? हालांकि भारत के वर्तमान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कभी उत्तर प्रदेश के चुनावी दौरे के दौरान अपने सीने की लम्बाई 56 इंच बताई थी, जो पूरे देश में चर्चा का विषय बन गया था।

भाजपा वालों ने इसको लेकर जहां अपने पीएम की खुब तारीफ की, तथा इसे गर्व का प्रतीक मान लिया, वहीं 56 इंच के सीने के बयान पर विपक्षी दलों ने कोई ऐसा मौका नहीं छोड़ा, जिसमें उन्होंने 56 इंच के सीने को कोट कर, पीएम मोदी की आलोचना न की हो। इधर झारखण्ड में लोकसभा चुनाव के दौरान मुख्यमंत्री रघुवर दास द्वारा दिये जा रहे भाषण में, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लिए उपयोग किये जा रहे “56 इंच” ने गजब ढा दिया हैं।

अब आप इसे जुबान फिसलना कहे या अति कर देना कहें, पर सीएम मोदी ने लगातार तीन स्थानों पर यह कह दिया कि 56 इंच के प्रधानमंत्री ने वो कर के दिखा दिया, जो आज तक किसी ने नहीं किया। दरअसल, सीएम रघुवर का इशारा पुलवामा तथा उड़ी घटना के बाद किये गये सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर था, पर अब सवाल उठता है कि क्या सचमुच हमारे प्रधानमंत्री 56 इंच के हो गये हैं, क्योंकि एक बार सीएम रघुवर का जुबान फिसलना माना जा सकता था।

परन्तु ये तो लगातार अपने प्रधानमंत्री को 56 इंच का बताते चले जा रहे हैं, जैसे गुमला के डूमरी की सभा में भी उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को 56 इंच का बता दिया, फिर  गढ़वा के वंशीधर में जनसभा को संबोधित करने के दौरान भी पीएम मोदी को 56 इंच का बता दिया और आज सिमेडगा के जलडेगा में जनसभा को संबोधित करने के दौरान भी यह कह दिया।

बार-बार सीएम रघुवर के इस बयान से लोग भी हतप्रभ है कि आखिर सीएम रघुवर को क्या हो गया कि वे अपने ही प्रधानमंत्री की लंबाई को काट कर 56 इंच का बना दिया है, कुछ लोग हंस भी रहे हैं, पर सीएम रघुवर को इस बात का मलाल ही नहीं कि उनका भाषण मजाक का विषय बन रहा है, आज ही उन्होंने सिमडेगा में भाषण के दौरान यह कह दिया कि रांची जिला को विकसित जिला बनाने के लिए अर्जुन मुंडा को वोट दें, अब खूंटी जिला खुद एक जिला बन गया है, जहां से अर्जुन मुंडा चुनाव लड़ रहे हैं, ऐसे में वहां की जनता रांची जिले को विकसित बनाने के लिए अर्जुन मुंडा को क्यों वोट दें, अपने पैर पर कुल्हाड़ी क्यों मारे।

राजनीतिक पंडितों की मानें तो अपने सीएम रघुवर दास महान है, जैसे लोगों के संगत में वे रहते हैं, उनका प्रभाव तो भाषण में दिखेगा ही, अभी तो अपने प्रधानमंत्री की लंबाई को काटकर वे 56 इंच किये हैं, आगे-आगे देखिये होता हैं क्या? अभी तो चार चरणों के मतदान तक बाकी हैं।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

CM रघुवर के भाषण का गिरता स्तर, झामुमो को “झारखण्ड मुद्रामोचन पार्टी” बताया

Sun Apr 21 , 2019
जैसे-जैसे मतदान का दिन नजदीक आता जा रहा हैं, वैसे-वैसे मुख्यमंत्री रघुवर दास के भाषण का स्तर भी गिरता जा रहा हैं, कल तक जिस झारखण्ड मुक्ति मोर्चा के नेतृत्व में उन्होंने सरकार चलाई, जिन दिशोम गुरु शिबू सोरेन के नेतृत्व में वित्त मंत्रालय संभाला, उप मुख्यमंत्री रहे, उसी पार्टी को उन्होंने कल नया नाम दे दिया, और एक चुनावी सभा में कह डाला कि झामुमो का मतलब झारखण्ड मुद्रामोचन पार्टी।

Breaking News