दुबई में बंधक बनाये गये दोनों आदिवासियों को जल्द झारखण्ड लाया जायेगा – हेमन्त सोरेन

223

गुमला के घागरा प्रखंड स्थित नवडीहा बरटोली  गांव के रहने वाले सुनील भगत और डुको  गांव के अजय उरांव को दुबई में बंधक बनाकर रखा गया है। इस बात की जानकारी झारखंड विधानसभा स्थित मुख्यमंत्री कक्ष में मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन को पूर्व शिक्षा मंत्री श्रीमती गीताश्री उरांव ने दी। उन्होंने मुख्यमंत्री से इन दोनों युवकों को दुबई से मुक्त करा कर सुरक्षित वापस घर लाने के लिए पहल करने का आग्रह किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह एक बहुत गंभीर मामला है। इस दिशा में विदेश मंत्रालय से संपर्क स्थापित कर इन दोनों युवकों को मुक्त कराकर वापस लाने के लिए सरकार सभी समुचित कदम उठाएगी।

पूर्व मंत्री गीताश्री उरांव ने मुख्यमंत्री को बताया कि उत्तर प्रदेश का रहने वाला मधुकर मिश्रा, इस वर्ष 28 जनवरी को इन दोनों युवकों को नौकरी दिलाने का झांसा देकर उन्हें घर से अपने साथ ले गया था  और 7 फरवरी को टूरिस्ट वीसा से दुबई पहुंचाया था। इन दोनों युवकों से उसने नौकरी दिलाने के नाम पर डेढ़ – डेढ़ लाख रुपए भी लिए थे, लेकिन वहां पहुंचने के बाद इन दोनों युवकों को कोई नौकरी नहीं दी गई। इसके बाद इन दोनों युवकों को कोरोना पॉज़िटिव बताकर बंधक बना लिया गया।

उन्होंने मुख्यमंत्री को यह भी बताया कि इन दोनों युवकों का टूरिस्ट वीसा, इस साल 31 मार्च को खत्म हो रहा है। इसके बाद इन युवकों का दुबई में प्रवास अपराधिक श्रेणी के अंतर्गत आ जाएगा। ऐसे में इन दोनों युवकों को मुक्त कराना अत्यंत आवश्यक है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस मामले में सरकार त्वरित कदम उठाएगी। मुख्यमंत्री से मुलाकात करने वालों में बॉबी भगत के अलावा सुनील भगत की पत्नी फुलप्यारी देवी और अजय उरांव की पत्नी केवरा उरांव भी शामिल थी ।

Comments are closed.