झामुमो, कांग्रेस और राजद गठबंधन की सरकार जन-सेवा के लिये नहीं, बल्कि राज्य के खनिज संसाधनों को लूटने और अपने चहेतों, भ्रष्ट अधिकारियों से लुटवाने के लिये बनी हैं – बाबू लाल

भाजपा नेता विधायक दल एवम पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने आज हेमंत सरकार पर सीधा आरोप लगाते हुए कहा कि इस सरकार में नियम कानून को ताखे पर रख दिया गया है और वही हो रहा जैसा सत्ता में बैठे लोग चाहते हैं। पैसे का खुलेआम लेनदेन है। काम उसी का हो रहा जो चढ़ावा दे रहा। भले वह नियम विरुद्ध ही क्यों न हो?

उन्होंने कहा कि आज राज्य के हालात भ्रष्टाचार में वैसे ही हो गए जैसे कभी संयुक्त बिहार में थे। कभी बिहार से बाहर जाने पर बिहार के बारे में बताने में शर्म आती थी, ठीक उसी प्रकार आज झारखंड  बताने में हो रही है। उन्होंने कहा कि यह झामुमो, कांग्रेस और राजद गठबंधन की सरकार जनता की सेवा के लिये नही बनी, बल्कि राज्य के खनिज संसाधनों को लूटने और अपने चहेतों, भ्रष्ट अधिकारियों से लुटवाने के लिये बनी है। 28 महीनों के शासनकाल में यह पूरी तरह प्रमाणित हो चुका है।

उन्होंने कहा कि आज राज्य में केवल लूट,और ध्वस्त कानून व्यवस्था की ही चर्चा हो रही। इस सरकार ने कार्यपालिका, विधायिका की परिभाषा ही बदल कर रख दी। उन्होंने कहा कि आज मनपसंद कांट्रेक्टर के लिये नियम कुछ और और दूसरे के लिये कुछ और हो गया है। उन्होंने कहा कि विधानसभा में कई बार बालू पर राज्य सरकार का जवाब आया परंतु कार्रवाई अब तक शून्य है। राज्य में गरीबों के आवास बालू के अभाव में नही बन पा रहे। अगर कोई जरूरत मंद गरीब कही नदी नालों से बालू उठा लेता है तो उस पर तुरंत पुलिसिया कार्रवाई हो जाती है।

कही किसी कांट्रेक्टर को पर्यावरण रिपोर्ट नही मिलता तो उसका लीज रद्द हो जाता लेकिन चहेतों के लिये ऐसे नियम बदल जाते हैं। सत्ता के संरक्षण में मुख्यमंत्री स्वयं, अपनी पत्नी, प्रेस सलाहकार, विधायक प्रतिनिधि, उनकी पत्नी, उपायुक्त की पत्नी सबके नाम खान खनिज के पट्टे आवंटित कर दिये। मुख्यमंत्री के भाई बसंत सोरेन के पार्टनरशिप  कंपनी ग्रैंड माइनिंग जिसे पिछली सरकार ने अवैध माइनिंग केलिये फाइन किया था ,उसे भी जमा नही कराया गया। उल्टे खदान तक जंगलों में अवैध रास्ते बना दिये गए। जब स्थानीय लोगों ने इसपर केस दर्ज कराए तो अबतक कोई कार्रवाई नही हुई।

उन्होंने कहा कि हेमंत सरकार में भ्रष्ट अधिकारियों और सत्ता में बैठे नेताओं के बीच सांठ-गांठ है। इसीलिये पैसा कहीं और पकड़ाता है, और सड़कों पर रोता, चिल्लाता कोई और है। कांटा कहीं चुभता है लेकिन दर्द कही और हो रहा है। उन्होंने कहा कि इस सरकार में एक नही अनेकों आरोप से घिरे पदाधिकारी महत्वपूर्ण पदों पर बैठे हैं।

रांची उपायुक्त की बाजरा एवम बरियातू की जमीन के आरोपों की रिपोर्ट उनके खिलाफ है, फिर भी वे महत्वपूर्ण पद पर बैठे हैं। उन्होंने कहा कि इससे यह स्पष्ट है कि यह सरकार राज्य को लूटने के लिये ही बनी है। श्री मरांडी ने कहा कि भाजपा ऐसी सरकार के खिलाफ सड़क से सदन तक लोकतांत्रिक लड़ाई लड़ रही है। पंचायत चुनाव के बाद पार्टी का आंदोलन और तेज होगा। भाजपा का आंदोलन इस भ्रष्ट,निकम्मी और जनविरोधी सरकार को उखाड़ फेंकने तक जारी रहेगा।