लीजिये अब दीजिये जवाब, कही भाजपाध्यक्ष ही तो फाइल नहीं फड़वा रहे है, दीपक प्रकाश और विभूति कुमार से ये नजदीकियां, आखिर यह रिश्ता क्या कहलाता है? पूछा झामुमो ने

झारखण्ड के भाजपा प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश का साहेबगंज के डीएमओ विभूति कुमार पर दिया गया बयान, किया गया ट्विट, अब उन्हीं पर भारी पड़ने जा रही है, झारखण्ड मुक्ति मोर्चा के एक नेता अजय वर्मा ने एक ऐसी फोटो ट्विटर पर वायरल कर, एक प्रश्न पूछ दिया है कि भाजपाइयों को न बोलते बन रहा हैं न निगलते बन रहा है।

इधर आम लोगों ने भी दीपक प्रकाश से उक्त फोटो को देखकर पूछना प्रारम्भ कर दिया है कि जब आप जानते है कि विभूति कुमार इतने भ्रष्ट हैं, दस्तावेज फाड़ दे रहे हैं, साक्ष्यो को मिटा रहे हैं, तो ये ज्ञान आपको 22 मई को ही क्यों प्राप्त हुआ, इसके पूर्व जब आप इनके साथ गलबहियां किया करते थे, फोटो खिंचाया करते थे।

उस वक्त आपका ज्ञान कहां चला गया था, कुछ लोगों का कहना है कि सभी नेता का चरित्र एक ही जैसा होता हैं, जब ये सत्ता में रहते हैं तो इन्हें ये ही अधिकारी अच्छे लगते हैं, और बाद में जब सत्ता से बाहर होते हैं, वे इसमें दोष ढूंढने लगते हैं, ये ही इनका चरित्र होता हैं, इसमें सभी बराबर के हिस्सेदार हैं, कोई उन्नीस-बीस नहीं हैं, सभी समान है।

दरअसल 22 मई को भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश एक ट्विट करते है – “ईडी द्वारा साहेबगंज के डीएमओ को बार-बार समन जारी कर पूछताछ के लिए बुलाया जा रहा है लेकिन विभूति कुमार समन की अवहेलना करके भ्रष्टाचार से जुड़े हुए साक्ष्यों को मिटाने में लगे हैं, दस्तावेज फाड़े जा रहे हैं। इसमें जिला प्रशासन की भूमिका भी संदिग्ध है, जिसकी जांच होनी चाहिए।”

दूसरी ओर झारखण्ड मुक्ति मोर्चा के अजय वर्मा 23 मई को एक ऐसा फोटो जिसमें भाजपा प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश और विभूति समन दोनों एक ही स्थान पर चिपककर बैठे हैं, उसे डालकर पूछ डाला है, टिव्ट कर दिया है – भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश साहिबगंज के डीएमओ विभूति कुमार पर अनर्गल आरोप लगा रहे हैं कि कहते हैं वह फाइल फाड़ने में लगा हैं, कही आप तो फाइल नहीं फड़वा रहे है। भाजपा झारखण्ड और दीपक प्रकाश का विभूति कुमार से नजदीकियां… यह रिश्ता क्या कहलाता है?

अजय वर्मा के इस ट्विट ने खलबली मचा दी है, लोग दीपक प्रकाश पर प्रश्नों की बौछार किये जा रहे हैं। सभी एकस्वर से कह रहे हैं कि सभी घोटालेबाज अफसरों के साथ भाजपा और भाजपा नेताओं का पुराना नाता है। इनकी छत्रछाया में घोटालेबाज अफसर घोटाले की कहानी लिखती आई है। जनता को दिग्भ्रमित करने के लिए यह मीडिया में अलग बयान और घर के अंदर इनका रिश्ता कुछ और होता है। दीपक प्रकाश ही बतायें कि यह रिश्ता क्या है?