झारखण्ड राजद में खुला विद्रोह, लालू-रावड़ी को दिया अल्टीमेटम, अभय सिंह को अध्यक्ष पद से हटाने की मांग

पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार आज प्रदेश राजद के निवर्तमान अध्यक्ष गौतम सागर राणा सहित सभी जिलों से मौजूद वरिष्ठ नेताओ की एक महत्वपूर्ण बैठक एचईसी स्थित सेक्टर-2 रंगोली रेस्टोरेंट हॉल में सम्पन्न हो गई। बैठक की अध्यक्षता देवघर निवासी राजद के पूर्व महासचिव भूतनाथ यादव ने किया। बैठक में सभी वक्ताओं ने एक स्वर से कहा कि राजनीतिक दृष्टिकोण से अनुभवहीन,अयोग्य राजद अध्यक्ष अभय सिंह किसी भी सूरत में स्वीकार्य नहीं है।

पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार आज प्रदेश राजद के निवर्तमान अध्यक्ष गौतम सागर राणा सहित सभी जिलों से मौजूद वरिष्ठ नेताओ की एक महत्वपूर्ण बैठक एचईसी स्थित सेक्टर2 रंगोली रेस्टोरेंट हॉल में सम्पन्न हो गई। बैठक की अध्यक्षता देवघर निवासी राजद के पूर्व महासचिव भूतनाथ यादव ने किया। बैठक में सभी वक्ताओं ने एक स्वर से कहा कि राजनीतिक दृष्टिकोण से अनुभवहीन,अयोग्य राजद अध्यक्ष अभय सिंह किसी भी सूरत में स्वीकार्य नहीं है।

उपरोक्त जानकारी देते हुए प्रदेश राजद के पूर्व महासचिव कैलाश यादव ने कहा कि राष्ट्रीय नेतृत्व झारखण्ड राजद के अध्यक्ष पद पर मनोनीत अभय सिंह को अविलम्ब हटाये,क्योंकि विगत दिनों लोकसभा चुनाव के परिणाम के उपरांत समीक्षा बैठक में प्रदेश राजद कार्यसमिति की निर्णय को नजरअंदाज कर दिया गया है।

जबकि प्रदेश राजद की अनुशासन समिति के संयोजक मंडली सदस्यो के द्वारा अनुशासनहीनता में लिप्त पाये गए तीन लोग तत्कालीन युवा राजद अध्यक्ष अभय सिंह,तत्कालीन युवा राजद प्रवक्ता शैलेन्द्र शर्मा, सुरेन्द्र प्रसाद को 6 वर्षों के लिए निष्कासित करने की अनुशंसा किया गया था,लेकिन राष्ट्रीय नेतृत्व द्वारा राजद का नीतिसिद्धान्त, संविधान सैद्धान्तिक वसूलों को ताक पर रख कालिख पोतने का काम किया गया।

बैठक में उपस्थित सभी सदस्यों द्वारा निर्णय लिया गया कि वर्तमान परिस्थितियों में झारखण्ड राजद में उभरे घोर संकट एवं राजद को पतन होने से बचाने के लिए 51 सदस्यों की समन्वय समिति बनाई गई है, जिसकी संयोजक लोहरदगा निवासी वरिष्ठ राजद नेत्री कमला देवी होंगी। यह कमेटी एक सप्ताह यानी दिनांक 21/6/19 तक का समय राष्ट्रीय नेतृत्व/राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव, श्रीमती राबड़ी देवी एवं तेजस्वी यादव से वार्ता कर अविलम्ब अयोग्य व्यक्ति अभय सिंह को झारखण्ड प्रदेश राजद के अध्यक्ष पद से हटाया जाय और गौतम सागर राणा के नेतृत्व में पुनः राजद कमेटी को पुननिर्मित करने की मांग करेगा।

कैलाश यादव ने बताया कि अगर कमेटी द्वारा निर्धारित समयो के अंदर राष्ट्रीय नेतृत्व अविलम्ब विचार नही करता है तो उसके उपरांत झारखंड राजद में टूट की स्थिति सम्भव है और आगे एक बड़ा राजनीतिक निर्णय लेने पर सभी बाध्य हो जायेंगे। बैठक में पूर्व राज्य कार्यकरिणी के सभी प्रदेश उपाध्यक्ष/महासचिव/सचिव/प्रकोष्ठ/एवं 18 जिला अध्यक्ष मौजूद थे। आज की बैठक में मौजूद 51 समन्वय सदस्यीय कमेटी इस प्रकार है।

कमला देवी, अर्जुन यादव, राजेश यादव, अताउर रहमान सिद्दीकी, भूतनाथ यादव, कैलाश यादव, डॉ मनोज कुमार, इमरान कादरी, आबिद अली, कामेश्वर यादव, नसीम अंसारी, राजकिशोर यादव, शारदा देवी, मनोज पांडेय, अरुण राय, सुरेश अग्रवाल, ई०सामदास, ई०देवबिहारी यादव, हरदेव साहू, श्याम देव सिंह, चन्द्रशेखर भगत, सुरेश अग्रवाल, कामेश्वर यादव, अमरेंद्र यादव, सन्तोष यादव, प्रणय कु बबलू, मो०हसन, सन्तोष शर्मा, बलबीर देव, शमीम भारती, दिनेश बरला, रामकुमार यादव, गणेश वर्मा, मोहन प्रसाद, सुमित्रा पासवान,कमल पांडेय, मुमताज़ कुरैशी, तारकेश्वर यादव, दिनेश यादव, सनाउल्लाह अंसारी, सुधीर दास, राजेश यादव, संजय सिंह, और ओमप्रकाश साह

Krishna Bihari Mishra

Next Post

राजभवन में पांचवी अनुसूची को लेकर पहली बैठक, बिना ग्राम सभा की अनुमति के भूमि अधिग्रहण नहीं

Thu Jun 13 , 2019
राजभवन में राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू की अध्यक्षता में पांचवी अनुसूची से संबंधित मामलों के लिए गठित विशेषज्ञ समूह की पहली बैठक संपन्न हो गई। बैठक में राज्यपाल ने कहा कि केन्द्र और राज्य सरकार जनजातियों के विकास एवं कल्याण के लिए विभिन्न प्रकार की योजनाएं चला रही है। जिसका मूल अभिप्राय है कि योजनाओं का लाभ जनजातियों को मिले। राज्यपाल ने कहा कि जनजातीय समाज में जब तक जागरुकता नहीं होगी, वे अपने अधिकार को नहीं समझ सकेंगे।

You May Like

Breaking News