डाक्टरों से रंगदारी मांगे जाने के विरोध में IMA के आह्वान पर सरकारी अस्पतालों को छोड़ धनबाद मे सारे निजी अस्पताल व नर्सिंग होम 30 दिसम्बर से एक जनवरी 24 तक रहेंगे बंद

अपराधियों द्वारा डाक्टरों से मांगी जा रही रंगदारी और उसके कारण पूरे धनबाद में बनी दहशत को लेकर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की कार्यकारिणी समिति की बैठक आज एशियन जालान अस्पताल के सेमिनार हॉल में आयोजित हुई। बैठक में शामिल सभी डाक्टरों ने धनबाद की वर्तमान कानून-व्यवस्था को लेकर चिन्ता व्यक्त की तथा पूरी घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया।

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की बैठक में डाक्टरों ने सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया कि सर्वमंगला नर्सिंग होम के व्यवस्थापक हरदेव प्रसाद से रंगदारी मांगने की हाल की घटनाओं के विरोध में 30 दिसम्बर 2023 से लेकर एक जनवरी 2024 तक धनबाद में सारी चिकित्साएं सेवाएं पूर्ण रुप से बंद रहेगी।

सभी डाक्टरों ने बैठक में स्पष्ट रुप से यह भी कहा कि धनबाद में स्थानीय प्रशासन अभी तक एक सुरक्षित माहौल देने में असमर्थ रहा है। जो चिन्ता का विषय है। डाक्टरों ने इस तीन दिन की बंदी में सरकारी अस्पतालों को छूट दे रखी है। लेकिन यह भी कहा कि अगर स्थिति में कोई बदलाव नहीं आता है तो भविष्य में सरकारी अस्पताल भी बंदी में भाग ले सकते हैं।

उधर धनबाद में बढ़ रही अपराध पर विद्रोही24 के सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने कहा कि कि जो भी लोग इस प्रकार की परिस्थितियों से जूझ रहे हैं। अगर वे उनके पास आते तो उनकी समस्याओं का हल हम कैसे निकाल सकते हैं। उस पर चर्चा कराकर हम समस्याओं का हल जरुर निकालते। फिलहाल हमने कल ही कुछ पुलिस पदाधिकारियों का तबादला किया है। उसमें धनबाद भी शामिल है। निश्चय ही उसका फायदा धनबादवासियों को मिलेगा। ऐसे भी उनका ध्यान धनबाद की स्थितियों पर हैं। वहां की जनता को घबराने की जरुरत नहीं।