विश्रामपुर स्थित स्वास्थ्य केन्द्र के कमरे में संदिग्धावस्था में छत से लटकता मिला पत्रकार का शव

पलामू से एक बड़ी खबर है। पलामू के विश्रामपुर स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के एक कमरे में एक पत्रकार का शव संदिग्धावस्था में छत से लटका पाया गया। आशंका व्यक्त की जा रही है कि उक्त पत्रकार की पहले हत्या की गई और बाद में उसके शव को स्वास्थ्य केन्द्र के कमरे के छत से लटका दिया गया। उक्त पत्रकार स्थानीय अखबार में काम करता था, जो विश्रामपुर क्षेत्र सें उक्त अखबार के लिए समाचार संकलन करता था।

पलामू से एक बड़ी खबर है। पलामू के विश्रामपुर स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के एक कमरे में एक पत्रकार का शव संदिग्धावस्था में छत से लटका पाया गया। आशंका व्यक्त की जा रही है कि उक्त पत्रकार की पहले हत्या की गई और बाद में उसके शव को स्वास्थ्य केन्द्र के कमरे के छत से लटका दिया गया। उक्त पत्रकार स्थानीय अखबार में काम करता था, जो विश्रामपुर क्षेत्र सें उक्त अखबार के लिए समाचार संकलन करता था।

पत्रकार का नाम रामेश्वर केसरी बताया जा रहा है। पत्रकार के शव मिलने के बाद से पूरे पलामू में भूचाल है। पलामू के कई पत्रकारों एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं तथा विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं ने इस घटना की कड़ी आलोचना की है तथा इस कांड की उच्चस्तरीय जांच की मांग की है। इधर स्थानीय पुलिस प्रशासन ने शव को लेकर मौत के कारणों का पता लगाना प्रारंभ कर दी है।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

अनैतिक तरीके से प्राप्त सत्ता को चिमटे से भी नहीं छूनेवाली भाजपा, अब ऐसा करना शान समझ रही

Thu May 17 , 2018
किसानों ने आत्महत्या सिर्फ मोदी के शासन में ही नहीं, बल्कि कांग्रेस पार्टी के शासन में भी की है। भ्रष्टाचार केवल मोदी के शासन में ही नहीं, बल्कि भ्रष्टाचार कांग्रेस पार्टी के शासन में भी था। बेरोजगारी केवल मोदी के शासन में नहीं बढ़ी, ये बेरोजगारी कांग्रेस पार्टी के शासनकाल में भी थी। पेट्रोल के दाम केवल मोदी के शासनकाल में नहीं बढ़ रहे, ये कांग्रेस के शासनकाल में भी बढ़ते थे।

Breaking News