JMM विधायक कुणाल षाड़ंगी अमेरिका के स्टेट ऑफ ऑरकॉनसॉस के गुडविल एबेंसडर

बहरागोड़ा के झारखण्ड मुक्ति मोर्चा विधायक कुणाल षाड़ंगी अमेरिका के स्टेट ऑफ ऑरकॉनसॉस के गुडविल एबेंसडर चुने गये है, हम आपको बताते चले कि स्टेट ऑफ ऑरकॉनसॉस अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिटंन का गृह राज्य है। झामुमो विधायक कुणाल षाड़ंगी को यहां एक छोटे से समारोह में यह सर्टिफिकेट एवं अवार्ड से विभूषित कर दिया गया।

बहरागोड़ा के झारखण्ड मुक्ति मोर्चा विधायक कुणाल षाड़ंगी अमेरिका के स्टेट ऑफ ऑरकॉनसॉस के गुडविल एबेंसडर चुने गये है, हम आपको बताते चले कि स्टेट ऑफ ऑरकॉनसॉस अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिटंन का गृह राज्य है। झामुमो विधायक कुणाल षाड़ंगी को यहां एक छोटे से समारोह में यह सर्टिफिकेट एवं अवार्ड से विभूषित कर दिया गया।

ज्ञातव्य है कि विधायक कुणाल षाड़ंगी, झारखण्ड से एकमात्र विधायक रहे, जिन्हें भारत के उन आठ विधायकों में से चुना गया, जो आइवीएलपी में भाग ले रहा है, हम आपको बता दें इसके अंतर्गत विभिन्न देशों के युवा राजनीतिज्ञ अमेरिका के विधाई प्रक्रियाओं का विशेष रुप से अध्ययन करते है, कुणाल षाडंगी झारखण्ड के एकमात्र और पहले प्रतिनिधि है, जिन्हें इस प्रकार का मौका मिला है।

दरअसल आइवीएलपी एक ऐसा कार्यक्रम है, जिसके तहत अमेरिका के विधाई प्रक्रियाओँ और उस देश के लोगों के वहां की विधायिका पर प्रभाव का अध्ययन करते हैं, भारत से विभिन्न दलों के नेता वहां जाते रहे हैं, अमरीकी सरकार पूरे विश्व से युवा राजनीतिज्ञों को इसके लिए आमंत्रित करती रही है। इसके अंतर्गत वहां गये युवा राजनीतिज्ञों को अमेरिका की राजनीतिक, आर्थिक और सामाजिक व्यवस्था पर भारतीयों के प्रभाव का अध्ययन करने, वैश्विक चुनौतियों के लिए राजनीतिक नेतृत्व क तैयार करने की रणनीति बनाने का मौका भी मिलता है।

ज्ञातव्य है कि आइवीएलपी (इंटरनेशनल विजिटर लीडरशिप प्रोग्राम) के तहत चुने गये प्रतिनिधियों का खर्च अमेरिकी सरकार पूरी तरह से वहन करती है, इस साल इस कार्यक्रम में भारत के आठ युवा राजनीतिज्ञ भाग ले रहे हैं, ये कार्यक्रम 22 अक्टूबर को वाशिंगटन से प्रारम्भ हुआ, जिसके अंतर्गत शिकागो, डेनवर और अन्य शहरों का ये राजनीतिज्ञ लगातार दौरा कर रहे हैं, और उसका लाभ उठा रहे हैं।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

राहुल के मंदिर दौरे से घबराई भाजपा और संघ ने राममंदिर आंदोलन को दी हवा, भाजपाइयों ने निकाले पुराने फोटो

Fri Nov 2 , 2018
उधर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह भैय्याजी जोशी ने बयान दिया, और इधर भाजपाइयों ने 1992 के वे पुराने फोटो निकालने शुरु किये, जो अयोध्या आंदोलन से जुड़े थे। भैय्या जी जोशी ने आज बयान दिया है कि राम मंदिर पर सर्वोच्च न्यायालय की टिप्पणी से हिन्दू स्वयं को अपमानित महसूस कर रहे हैं, उनका कहना था कि संघ ने कभी भी न्यायालय के निर्णयों की उपेक्षा नहीं की,

Breaking News