50 हजार रुपये के चबूतरे निर्माण में झारखण्ड के स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी ने मांगे 15 हजार कमीशन

कल से पूरे राज्य में एक विडियो बड़ी जोर-शोर से वायरल हो रहा हैं, इस विडियो में राज्य के स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी अपने इलाके में बन रहे एक चबूतरे में खर्च हो रहे रुपये का बंटवारा कर रहे हैं, वे खुद कह रहे हैं कि “हमको पन्द्रह दे देना, 35 उसको दे देना” । इसी विडियो में वे कहते हैं “ल हो सीताराम हो गया न, काम लगाओ” और फिर वे सीताराम को कुछ रुपये थमाते हैं, और उसे भरोसा दिलाते है कि शेष रुपये 20 तारीख को मिल जायेगा।

कल से पूरे राज्य में एक विडियो बड़ी जोर-शोर से वायरल हो रहा हैं, इस विडियो में राज्य के स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी अपने इलाके में बन रहे एक चबूतरे में खर्च हो रहे रुपये का बंटवारा कर रहे हैं, वे खुद कह रहे हैं कि “हमको पन्द्रह दे देना, 35 उसको दे देना” । इसी विडियो में वे कहते हैं “ल हो सीताराम हो गया न, काम लगाओ” और फिर वे सीताराम को कुछ रुपये थमाते हैं, और उसे भरोसा दिलाते है कि शेष रुपये 20 तारीख को मिल जायेगा।

इस विडियो में जिस आदमी के पास रुपये हैं, वह मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी के ठीक सामने हैं, और वह मंत्री को रुपये थमा रहा हैं, मंत्री बड़े ही शान से उसे सीताराम को थमा रहे हैं और बाकी रुपये अपने पॉकेट में रख रहे हैं। यहां भीड़ भी जुटी है, जो आपस में बात कर रही हैं, बातचीत में साफ पता लग रहा है कि पहले 40 हजार में चबूतरे बनाने की बात थी, जो बाद में मंत्री के कहने पर चबूतरे बनाने की कीमत 50 हजार रुपये तय हुई। बात कहनेवाला व्यक्ति बड़े ही शान से कह रहा है कि वह जो कहा था, वहीं हुआ चबूतरा 50 हजार रुपये में ही बनेगा?

बताया जा रहा है कि यह विडियो कल यानी गुरुवार का हैं, जो गढ़वा जिले के बरडीहा प्रखण्ड स्थिति आदर गांव का है, जहां कल स्वास्थ्य मंत्री पहुंचे थे, यह इलाका स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी का विधानसभा क्षेत्र हैं।

सूत्र बता रहे है कि इस विडियो ने शुरुआती दौर में धमाल मचा रखा है, सोशल साइट पर लोग खूब मंत्री पर छीटाकंशी कर रहे हैं, और राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास से इन्हें हटाने की मांग कर रहे हैं, पर सीएम रघुवर दास, रामचंद्र चंद्रवंशी को उनके मंत्री पद से हटायेंगे, इसकी संभावना दूर-दूर तक नजर नहीं आती, क्योंकि आजकल तो राज्य में भ्रष्टाचार सदाचार का मूलमंत्र बन गया है।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

आदिवासियों के परम्परागत व्यवस्था से खिलवाड़ करना बंद करे सरकार - एनएपीएम

Fri Jul 12 , 2019
कोल्हान के इलाके में हो तथा मुण्डा समाज अपनी परम्परागत स्वशासन व्यवस्था के अंतर्गत, समाज के तमाम फैसले लेते रहे हैं, चाहे वह जमीन का मसला हो या जाति प्रमाण पत्र बनवाने का मसला हो या अन्य सामाजिक तथा सामूहिक विकास के मुद्दे ही क्यों न हो। आदिवासी  समाज ग्रामसभा के माध्यम से ही इन उपरोक्त मुद्दों पर निर्णय लेती रही है।

You May Like

Breaking News