झामुमो के केन्द्रीय महाधिवेशन में राज्य में सत्ता संभालने और झारखण्ड को सम्मान दिलाने का प्रण

झारखण्ड मुक्ति मोर्चा के 11 वें केन्द्रीय महाधिवेशन का शुभारम्भ मैथन स्थित स्व. बिनोद बिहारी महतो प्रांगण में पार्टी सुप्रीमो शिबू सोरेन ने रविवार को संपन्न किया। केन्द्रीय महाधिवेशन के दूसरे दिन झारखण्ड के वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य पर चर्चा हुई। झामुमो 2019 में हो रहे लोकसभा व विधानसभा चुनाव पर पार्टी को कैसे जनता के बीच और सुदृढ़ ढंग से ले जाया जाये,

झारखण्ड मुक्ति मोर्चा के 11 वें केन्द्रीय महाधिवेशन का शुभारम्भ मैथन स्थित स्व. बिनोद बिहारी महतो प्रांगण में पार्टी सुप्रीमो शिबू सोरेन ने रविवार को संपन्न किया। केन्द्रीय महाधिवेशन के दूसरे दिन झारखण्ड के वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य पर चर्चा हुई। झामुमो 2019 में हो रहे लोकसभा व विधानसभा चुनाव पर पार्टी को कैसे जनता के बीच और सुदृढ़ ढंग से ले जाया जाये, तथा राज्य में अन्य विपक्षी दलों के साथ कैसे राजनीतिक गठबंधन को मजबूत कर राज्य में सत्तारुढ़ हो, इस पर ज्यादा जोर दे रही है।

केन्द्रीय महाधिवेशन को संबोधित करते हुए हेमन्त सोरेन ने कहा कि आज अपने बलिदानी अतीत पर गर्व करते हुए झारखंड मुक्ति मोर्चा के 11 वें महाधिवेशन के शुभारंभ के मौके पर झारखंड निर्माण को संकल्पित असंख्य जुनूनी कार्यकर्ताओं की तरह उन्हें भी बाबा (दिशोम गुरु जी) के मार्गदर्शन का लाभ मिला। आज के इस झारखंड की भौतिक सत्यता के पीछे एक बलिदानी अतीत एवं अपने लोगों के लिए देखा गया एक सपना है। आज झामुमो की नई पीढ़ी अपने संघर्षों को याद रखते हुए,अभिभावकों के मार्गदर्शन में राज्य निर्माण के पीछे के सपने को साकार करने हेतु संकल्पित होती हैं।

उन्होंने कहा कि आखिर अशिक्षा, अभाव, कुरीति, कुनीति के खिलाफ जिस सोना झारखंड के गीत गुनगुनाते हुए हमारे अभिभावक शहीद हो गए उसे सँवारे बिना हमलोग चैन से कैसे बैठ सकते हैं ? हम फिर से उठेंगे और तबतक लड़ते रहेंगे जबतक सोना झारखंड का सर्वव्यापी बदलाव ना आ जाये। इस तीन दिवसीय महाधिवेशन सम्मेलन में उमड़े हज़ारों के जनसैलाब को देख मन रोमांच से भर आया है। 

हेमन्त सोरेन ने कहा कि झारखंड मुक्ति मोर्चा के कार्यकर्ताओं का यह जोश अविस्मरणीय एवं उत्साहवर्धक है| झारखंड की धरती के प्रति कार्यकर्ताओं का निःस्वार्थ प्रेम, मूलवासियों- आदिवासियों, गरीबों, वंचितों एवं अल्पसंख्यकों के लिए उनका कभी न रुकने-कभी न थकने वाला जीवन तथा झारखंड को इसकी आज की खराब स्थिति से निकाल कर समृद्ध बनाने वाला उनका प्रण देखने लायक है| इन हज़ारों कार्यकर्ताओं को देख समाज और प्यारे झारखंड की सेवा करने को मन और तन सदैव तत्पर रहता है| उन्हें विश्वास है कार्यकर्ताओं और झारखंड की जनता के असीम प्रेम और साथ से वे झारखंड को सामंतवादी शक्तियों से आज़ाद कर नयी-नयी ऊँचाइयों तक अवश्य ले जायेंगे।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

धनबाद में भाजपा के दलितों के घर भोजन कार्यक्रम से खफा, दलितों ने जताया कड़ा विरोध

Mon May 7 , 2018
भाई बहुत हो चुका, अब दलितों के घर भोजन करने की नौटंकी बंद करिये, अब दलितों को भी आपकी यह राजनीति पसंद नहीं आ रही, वे समझ रहे हैं, कि उनके घर भोजन करने की नीति, उनके सम्मान को बढ़ाने के लिए नहीं, बल्कि अपनी राजनीति चमकाने के लिए भाजपा ऐसा कर रही हैं। धनबाद के गोविंदपुर के खिलकनाली गांव में पिछले दिनों भाजपा विधायक फुलचंद मंडल का जिस प्रकार दलितों ने विरोध किया,

Breaking News