आक्रोश मार्च में हेमन्त ने CM रघुवर को ललकारा, भाजपा का राजनीतिक सेंदरा करने को तैयार रहे युवा

रांची में आज झारखण्ड मुक्ति मोर्चा ने युवा आक्रोश मार्च का आयोजन किया, जिसमें बड़ी संख्या में युवाओं ने भाग लिया, तथा आक्रोश मार्च के माध्यम से राज्य सरकार को चेतावनी दी कि वह अपने क्रियाकलापों में सुधार लाएं तथा राज्य सरकार द्वारा स्थानीय युवाओं के साथ जो भेदभाव की नीति अपनाई जा रही हैं, उस पर अंकुश लगाएं, नहीं तो आनेवाले समय में राज्य की स्थिति और भयावह होगी, जिसके गंभीर परिणाम भाजपा को भुगतने होंगे।

रांची में आज झारखण्ड मुक्ति मोर्चा ने युवा आक्रोश मार्च का आयोजन किया, जिसमें बड़ी संख्या में युवाओं ने भाग लिया, तथा आक्रोश मार्च के माध्यम से राज्य सरकार को चेतावनी दी कि वह अपने क्रियाकलापों में सुधार लाएं तथा राज्य सरकार द्वारा स्थानीय युवाओं के साथ जो भेदभाव की नीति अपनाई जा रही हैं, उस पर अंकुश लगाएं, नहीं तो आनेवाले समय में राज्य की स्थिति और भयावह होगी, जिसके गंभीर परिणाम भाजपा को भुगतने होंगे।

युवा आक्रोश मार्च को संबोधित करते हुए, नेता प्रतिपक्ष हेमन्त सोरेन ने राज्य की हर समस्याओं के लिए यहां के मुख्यमंत्री रघुवर दास को जिम्मेदार ठहराया, उनका कहना था कि इस राज्य की दुर्दशा का सर्वाधिक जिम्मेवार अगर कोई व्यक्ति है तो वे सीएम रघुवर दास है, जिन्हें झारखण्ड से छत्तीसगढ़ भेजे बिना, झारखण्ड के युवाओं का कल्याण संभव नहीं।

उन्होंने कहा कि पूरा राज्य बेहाल है, ये विकास की बात करते हैं, और राज्य के पारा शिक्षकों, आंगनवाड़ी सेविकाओं को मानदेय देने के लिए इनके पास पैसे नहीं है, राज्य के युवा नौकरी-रोजगार के लिए मारे-मारे फिर रहे हैं और राज्य के बाहर के लोगों को नौकरी थमा दी जा रही है, यहीं नहीं ठेकेदारी-पट्टे का काम भी बाहरियों को थमा दिया जा रहा है, ऐसे में यहां के बेरोजगार युवा कहां जायेंगे?

जब चुनाव आयेगा तो ये अगड़ा-पिछड़ा, जात-पात में लोगों को लड़ायेंगे और जब काम दिलाने की बात आयेगी, रोजगार दिलाने की बात आयेगी तो ये बाहरियों को रोजगार दिलाने में अपना ज्यादा दिमाग लगायेंगे, ऐसे में झारखण्ड के युवाओं का कैसे भला होगा, यह समझने की जरुरत है।

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि आज की लड़ाई, सिर्फ हक के अधिकार की लड़ाई नहीं, बल्कि झारखण्ड और झारखण्डियत को बचाने की हैं, नहीं तो आनेवाली पीढ़ी हमें कभी माफ नहीं करेगी, इसे गांठ बांध लेने की जरुरत है। हेमन्त सोरेन ने कहा कि यहां की सरकार अभी किसानों के लिए विभिन्न योजनाओं को जमीन पर उतारने का लोक-लुभावन नारे दे रही हैं, पर सच्चाई क्या है, जमीनी हकीकत क्या हैं? केवल एक सप्ताह के अंदर दो किसानों ने अपनी जानें दे दी है, यहीं हकीकत है। उन्होंने कहा कि भाजपा ने लोगों का जीना हराम कर दिया हैं, खासकर युवाओं का तो सपना ही तोड़ दिया, इसलिए भाजपा का राजनीतिक सेंन्दरा करना ज्यादा जरुरी है।

उन्होंने यह भी कहा कि हाल ही में पीएम मोदी आये और उन्होंने तीन मेडिकल कॉलेजों का ऑनलाइन उद्घाटन किया, ये मेडिकल कॉलेज थे पलामू, हजारीबाग और दुमका, और मैं कहता हूं कि अगर कोई मरीज जो जिन्दा है, वो अपना इलाज कराने के लिए यहां गलती से भी चला गया तो वह जिन्दा नहीं लौटेगा, भाई ये कौन सा विकास चल रहा है यहां, किसका विकास चल रहा है यहां, इसका चिन्तन करिये और ऐसी रघुवर सरकार को, भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकिये, क्योंकि बिना इसके उखाड़ फेकें झारखण्ड और झारखण्डियत का भला नहीं होनेवाला।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

CPIML ने केन्द्र द्वारा धारा 370 को रद्द करने और जम्मू-कश्मीर के विभाजन को तख्तापलट करार दिया

Mon Aug 5 , 2019
भाकपा माले का कहना है कि राष्ट्रपति के आदेश द्वारा धारा 370 को रद्द करना और जम्मू एवं कश्मीर राज्य को दो केन्द्र शासित क्षेत्रों लद्दाख और जम्मू-कश्मीर में विभाजित करना भारतीय संविधान के विरुद्ध तख्तापलट जैसी कार्यवाही से कम नहीं है। मोदी सरकार अपने लुके-छिपे साजिशाना और गैर कानूनी तौर तरीकों से संविधान को कश्मीर को बाकी भारत से जोड़नेवाले महत्वपूर्ण ऐतिहासिक पुल को, जलाने का काम कर रही है।

Breaking News