गवर्नर फटकार लगावे, CM रघुवर मेला दिखावे, ‘झारखण्ड’ गेंदा फूल

भाई, सीएम रघुवर दास और डीजीपी डी के पांडेय के बीच कितना प्रेम हैं, कितना मुहब्बत है, वो देखने को मिला, जैप ग्राउंड में चल रहे इप्सोवा दीपावली मेले में जहां सीएम रघुवर दास ने डीजीपी डी के पांडेय के प्रति अपने दिल में बैठे प्रेम के गुब्बारे को इस प्रकार फोड़ा कि, वो गुब्बारे में सिमटे गुलाब की पंखुड़ियों के गाल सुर्ख लाल हो उठे।

भाई, सीएम रघुवर दास और डीजीपी डी के पांडेय के बीच कितना प्रेम हैं, कितना मुहब्बत है, वो देखने को मिला, जैप ग्राउंड में चल रहे इप्सोवा दीपावली मेले में जहां सीएम रघुवर दास ने डीजीपी डी के पांडेय के प्रति अपने दिल में बैठे प्रेम के गुब्बारे को इस प्रकार फोड़ा कि, वो गुब्बारे में सिमटे गुलाब की पंखुड़ियों के गाल सुर्ख लाल हो उठे।

कल जैप ग्राउंड में पुलिस पदाधिकारियों की पत्नियों द्वारा आयोजित दीपावली मेले का उद्घाटन करने आये, सीएम रघुवर दास जैसे ही बग्घी पर सवार हुए, उन्होंने इशारों ही इशारों में डीजीपी डी के पांडेय को बग्घी में सवार होने को कहा, फिर क्या था, डीजीपी सीएम के इशारे को भांप गये और पूर्णतः सीएम के प्रति अगाध श्रद्धा हृदय में धारण कर, बग्घी में सीएम के बगल में सवार हो गये।

बग्घी भी स्पेशल थी, उसे दुल्हन की तरह सजाया गया था, और दोनों सीएम और डीजीपी जल दिये बग्घी पर सवार होकर इप्सोवा मेले का आनन्द लेने, पीछे-पीछे सीएम और डीजीपी के सुरक्षाकर्मी दौड़ लगा रहे थे, और इस अद्भुत दृश्य को अपने आंखों के कैमरे में कैद करने के लिए अन्य पुलिस पदाधिकारियों और उनकी पत्नियों की निगाहें बग्घी पर सवार इन दोनों महानुभावों के पास जाकर टिक गई थी।

चूंकि डीजीपी डी के पांडेय और सीएम रघुवर दास का एक दूसरे प्रति प्रेम जगजाहिर है, इसलिए दोनों का एक साथ बग्घी पर सवार होना, लाजिमी ही था, पर राज्य में खत्म होती कानून व्यवस्था, बढ़ती दुष्कर्म की घटना, नक्सलियों के अत्याचार, पत्रकारों पर हो रहे हमले, लगातार हो रही हत्याएं, तथा सीएम आवास के आसपास ही कई अपराध को दिये गये अंजाम एवं यहीं पर जहरीली शराब कांड की घटित घटनाओं से व्यथित राज्यपाल द्रौपदी मूर्मू द्वारा राजभवन बुलाकर डीजीपी को फटकार लगाने की घटना और सीएम का डीजीपी के प्रति अनुराग वहां उपस्थित सभी के मनमस्तिष्क को हिलाकर रख दिया था।

सभी एक ही बात सोच रहे थे कि जिस राज्य की राज्यपाल डीजीपी को राजभवन बुलाकर, डांट-फटकार लगाती है, वहां सीएम का एक सार्वजनिक कार्यक्रम में डीजीपी को इशारों में बुलाकर, अपने पास बैठाना, उनके साथ बग्घी की सवारी का आनन्द लेना, मेले घुमना, कहीं राज्यपाल को इस बात की चुनौती तो नहीं कि वे डीजीपी को कितना भी कानून-व्यवस्था को लेकर फटकारें, सीएम के लिए डीजीपी के प्रति प्रेम में कहीं कोई बदलाव नहीं आया है।

बग्घी पर सवार दोनों का एक दूसरे के प्रति प्यार, देख वहां कई उपस्थित लोगों के मुंह से अनायास दिल्ली -6 के गाने जुबां पर आ गये और सभी ने उसकी पैरोडी बना दी और कहने लगे – गवर्नर फटकार लगावे, सीएम रघुवर मेला दिखावे, झारखण्ड गेंदा फूल।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

हमेशा सत्ता से चिपके रहे सुदेश को लगातार मिल रही हार से सत्ता के विकेन्द्रीकरण की आई याद

Thu Nov 1 , 2018
आजसू सुप्रीमो सुदेश महतो इन दिनों स्वराज स्वाभिमान यात्रा पर है। कल ही उन्होंने अपनी यात्रा के दौरान एक जगह कहा कि सिर्फ सीएम और डीएम (डीसी) से राज्य नहीं चल सकता। सत्ता का विकेन्द्रीकरण ईमानदारी से करना होगा और उपर से नीचे तक जिम्मेदारी तय करनी होगी, ताकि गांवों के आम लोग सत्ता के हकदार बनें। झारखण्ड में सचिवालय और जिला मुख्यालय यहीं शासन के केन्द्र बिन्दु बने हैं,

You May Like

Breaking News