विपक्षी दलों के 20 सालों के शासन में राशन कार्ड हाथ में होने के बावजूद लोग मरने पर मजबूर थे और जब हमने जनता को अधिकार देना शुरु किया, तो वे मेरे विरुद्ध ही षडयंत्र रचने लगेः हेमन्त सोरेन

पाकुड़ में आज आपकी योजना, आपकी सरकार, आपके द्वार कार्यक्रम में आई आम जनता को संबोधित करते हुए राज्य के मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने कहा कि पाकुड़ समेत राज्य के अन्य जगहों पर सरकार आपके द्वार कार्यक्रम के अंतर्गत लोगों को मिल रही योजनाओं के लाभ को देखकर उन्हें बहुत खुशी मिल रही है। जनता मालिक खुद बता रही है कि लाभ मिल रहा है और यही देखकर विपक्ष के लोग परेशान हैं। यह जनता की सरकार है। जनता के लिए काम करती है। आप सभी से अपील है आपके क्षेत्रों में लग रहे शिविरों में पहुंचकर राज्य सरकार की लोक-कल्याणकारी योजनाओं का लाभ अवश्य लें।

उन्होंने कहा कि कई चुनौतियों के साथ हम आगे बढ़ रहे हैं। उसके बावजूद लोगों को योजनाओं से जोड़ रहे हैं। किशोरी समृद्धि योजना के अंतर्गत लाखों बेटियों को लाभ मिला है। प्राइवेट स्कूल से हमारे सरकारी स्कूल बेहतर बनें हैं। आज कल्याण विभाग के हॉस्टल्स का जीर्णोद्धार कर उन्हें उत्कृष्ट बनाया जा रहा है। इन हॉस्टल्स में सरकार राशन भी देगी। विपक्ष ने 20 साल तक शासन किया। इनके समय लोग हाथ में राशन कार्ड लेकर मरने को मजबूर होते थे। हम राज्य की जनता को अधिकार दे रहे हैं तो विपक्ष तरह-तरह के षड्यंत्र रचने में लगा हुआ है।

विपक्ष के स्कूल में झूठ की ट्रेनिंग दी जाती है

उन्होंने कहा कि इन्होंने न कभी झारखण्ड के लिए संघर्ष किया, न कभी देश के लिए। इन्हें नहीं पता लोगों के लिए काम करना क्या होता है। आज महंगाई आसमान छू रही है। गैस सिलिंडर के दाम हजार रुपये से ऊपर है। मगर जहां-जहां चुनाव हो रहा है वहां यह 450 रुपये में सिलिंडर देने की बात करते हैं, पर पूरे देश में नहीं। अजीब बात है। विपक्ष के स्कूल में सिर्फ झूठ की ट्रेनिंग होती है।

हेमन्त सोरेन ने कहा कि आमजन को रोटी और कपड़ा के बाद आवास देने की ओर हम बढ़ रहे हैं। हमने चुनाव के समय कहा था कि लोगों को पूर्व के आवास की तरह छोटा नहीं बल्कि सम्मानजनक जिंदगी जीने के लिए तीन कमरों का आवास देंगे। अबुआ आवास योजना के तहत हम उसी वादे को पूरा करने की ओर बढ़ रहे हैं। हम जो कहते हैं वो करते हैं। सभी जरूरतमंद लोगों को आवास का अधिकार मिलेगा। सरकार आपके द्वार कार्यक्रम के पिछले दो चरणों में विपक्ष के नेता गायब रहते थे। अभी हम लोग यहां आए हैं तो यह हमारे पीछे क्षेत्र में आ रहे हैं। अभियान में मिट्टी डालने का षड्यंत्र रच रहे हैं। लेकिन कोई चिंता नहीं है इनका षड्यंत्र चलने वाला नहीं है।

उन्होंने कहा कि पहले लोगों को योजनाओं का लाभ नहीं मिल पाता था। पूर्व की सरकारों ने आपको अधिकार न देकर अपनी और अपने पूंजीपति मित्रों की जेबें भरने का काम किया। यह सब हमने बदला है। आज राज्य के सभी जरूरतमंद को पेंशन मिल रहा है। पेंशन देने के बाद हमने राशन देने का काम शुरू किया। 20 लाख जरूरतमंद लोगों को हरा राशन कार्ड से जोड़ने का काम किया। मगर केंद्र सरकार हमें सरकारी गोदामों से अनाज नहीं खरीदने दे रहा है। बाजार से बाजार भाव में अनाज खरीद कर राज्य के हमारे जरूरतमंद लोगों को राशन देने का हम काम कर रहे हैं।

झारखण्ड के हक-अधिकारों की मांग उठाने के लिए विपक्ष को बोलते हैं तो उनके मुंह में ताला लग जाता है

उन्होंने कहा कि आपकी योजना, आपकी सरकार, आपके द्वार कार्यक्रम के अंतर्गत जिलों में भ्रमण कर हम देख रहे हैं कि लोगों को योजनाओं का लाभ मिल रहा है कि नहीं। दो वर्ष से पहले कोई पदाधिकारी गांव नहीं जाते थे, अब इसमें बदलाव आया है। मुझे विश्वास है पिछले दो वर्ष की तरह इस वर्ष का चरण भी सफल होगा। आपकी सरकार द्वारा वंचित वर्ग के युवाओं को विदेश पढ़ने भेजा जा रहा है। गुरुजी स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना के जरिये युवाओं को 15 लाख रुपए तक उच्च शिक्षा के लिए ऋण राज्य सरकार देगी। आपकी गारंटर भी सरकार बनेगी।

हेमन्त सोरेन ने कहा कि  झारखण्ड के हक-अधिकारों की मांग उठाने के लिए विपक्ष को भी बोलते हैं तो इनके मुंह में मजबूत ताला लग जाता है। इनके असंवेदनशील नेतृत्व के कारण 14 दिनों से हमारे श्रमिक भाई उत्तराखंड में कड़ाके की ठंड में सुरंग में फंसे हुए हैं। ऐसा ही मंजर और असंवेदनशीलता हमने लॉकडाउन और नोटबन्दी में भी देखा। यह पहले 2000 रुपये का नोट लाए फिर उसे बंद किया। लगता है यह इन्होंने सिर्फ अपने पूंजीपतियों के लिए ही किया, आमजन की परेशानियों से इन्हें कोई सरोकार नहीं है।

हेमन्त सोरेन गीदड़ भभकी से डरनेवाला नहीं

उन्होंने कहा कि राज्य के सभी वर्गों की तकलीफों के बारे में मुझे जानकारी है। 20 वर्षों तक पूर्व की सरकारों ने सरकारी कर्मचारियों को भी यह नहीं बताया कि कर्मचारियों का काम लोगों की सेवा करने का है। पूर्व की सरकारों ने यह क्या, कर्मचारियों को उनका अधिकार तक नहीं दिया था। हमने लाखों सरकारी कर्मचारियों की पुरानी पेंशन बहाल की। विपक्ष आज संवैधानिक संस्थाओं का दुरूपयोग कर हमें परेशान करने का षड्यंत्र रच रहा है। हमारे वीर पूर्वजों ने हमें संघर्ष करना सिखाया है, इनकी गीदड़भभकी से हम डरने वाले नहीं हैं। समय आने पर राज्य की जनता विपक्ष को जवाब देगी।