दीपक प्रकाश ने हेमन्त सरकार को पलटीमार सरकार की संज्ञा दी, कहा कल तक बांगलादेश से टीका मंगवाने लगे अब केन्द्र का रोना रो रहे

हेमन्त सरकार को पलटीमार सरकार की उपाधि देते हुए भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सह सांसद दीपक प्रकाश ने कहा कि  हेमंत सरकार लगभग डेढ़ वर्ष के कार्यकाल में व चुनाव के पूर्व कई घोषणाएं की। ज्यादातर घोषणाओं में सरकार ने पलटी मारते हुए अपने फैसले को ही उलट दिया। उन्होंने कहा कि हेमंत सरकार एक बार फिर अपनी घोषणाओं से पलटी मारने वाली सरकार साबित हुई।

हेमन्त सरकार को पलटीमार सरकार की उपाधि देते हुए भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सह सांसद दीपक प्रकाश ने कहा कि  हेमंत सरकार लगभग डेढ़ वर्ष के कार्यकाल में व चुनाव के पूर्व कई घोषणाएं की। ज्यादातर घोषणाओं में सरकार ने पलटी मारते हुए अपने फैसले को ही उलट दिया। उन्होंने कहा कि हेमंत सरकार एक बार फिर अपनी घोषणाओं से पलटी मारने वाली सरकार साबित हुई।

अभी हाल में ही 22 अप्रैल को  राज्य के सभी लोगों के मुफ्त वैक्सीन लगवाने की घोषणा करने वाली सरकार आज अपने वादे से मुकर गयी है। इस सरकार ने जनता को फिर धोखा दिया। उन्होंने कहा कि इन्होंने जैसे किसानों को, युवाओं को, महिलाओं को, संविदाकर्मियों को, पारा शिक्षकों को, धोखा दिया। वैसे ही आम जनता को वैक्सीन का धोखा दिया।

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार राज्य सरकारों को हर संभव सहायता कर रही है , परंतु गैर भाजपा सरकारों की नियति बन गई है, मोदी सरकार का विरोध करना। विरोध भी मुद्दों पर नही बल्कि असंसदीय और अलोकतांत्रिक तरीके से। केंद्र सरकार ने हेमन्त सरकार को 1885 वेंटीलेटर, 106000 रेमेडिसीवीर इंजेक्शन, 45,33,660 वैक्सीन व ऑक्सीजन सहित 200 करोड़ की सहायता राशि दी।

पंचायतों के लिये पैसे दिए, डीवीसी के बकाये 714 करोड़ की राशि की वसूली कोरोना के कारण स्थगित की। राज्य के गरीबों के लिये दो महीने का मुफ्त अनाज दिया गया। राज्य के लगभग 14 लाख किसानों के  खाते में 286 करोड़ की राशि भेजी गई। प्रत्येक जिले में ऑक्सीजन प्लांट, 15 वें वित्त आयोग से पंचायतों में  लगभग 250 करोड़ की राशि मिली। किसानों को डीएपी खाद में ₹1200 की सब्सिडी दी।

श्री प्रकाश ने कहा कि झारखंड के पीएसयू, कोयला कंपनियों ने बड़े स्तर पर मेडिकल सहायता उपलब्ध कराई। श्री प्रकाश ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा प्रस्तुत बजट की अधिकांश योजनाएं केंद्रीय सहायता पर ही आश्रित है। परंतु  हेमंत सरकार अपनी विफलताओं को छुपाने के लिये विधवा विलाप करती रही है। उन्होंने कहा- कहाँ तो ग्लोबल टेंडर के माध्यम से टीकों को खरीदने की बात कर रहे थे, पर बंगलादेश से टीका मंगवाने का नाटक करने वाले आज फिर से केंद्र से सहायता का रोना रोने लगे।

श्री प्रकाश ने कहा कि आज राज्य सरकार अपने कुप्रबंधन के लिये विश्व विख्यात हो चुकी। वैक्सीन की बर्बादी के साथ साथ मलेरिया की करोड़ों की दवाइयां स्टोर में बर्बाद हो गई। डीएमएफ की राशि भी सरकार कोरोना में खर्च करने के लिये स्वतंत्र है। राज्य बजट में भी स्वास्थ्य सेवाओं केलिये बड़ी राशि पड़ी है। आखिर सरकार बताये तो कि राज्य फण्ड से उसने कोरोना में कितने खर्च किये।श्री प्रकाश ने कहा कि पत्र लिखकर मुख्यमंत्री अपनी विफलताओं को छुपाना चाहते है, जबकि उन्हें टीकाकरण को लेकर गांव में फैले भ्रम को दूर करने की कोशिश करनी चाहिये।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

अखबारों-चैनलों के मालिकों/संपादकों के कारनामों का असर, झारखण्ड में श्मशान की ओर चल पड़ी पत्रकारिता

Wed Jun 2 , 2021
नेता, पत्रकार और अधिकारियों के भ्रष्टाचार में संलिप्त होने का प्रभाव देखिये, झारखण्ड में श्मशान की ओर पत्रकारिता चल पड़ी है। चित्ता सज चुकी है। बस अर्थी से उसे उठाकर चित्ता पर रख देना है, फिर कोई भी उसमें आग लगा दें, क्या फर्क पड़ता है, चित्ता तो चित्ता हैं, धू-धू कर जल पड़ेगी। जब मैं बड़े-बड़े शिक्षण संस्थाओं में पत्रकारिता की पढ़ाई कर रहे युवाओं/युवतियों व वहां पत्रकारिता का कोर्स करा रहे मगरमच्छों को देखता हूं तो सोचता हूं कि ये मगरमच्छ कौन सी शिक्षा इन्हें दे रहे होंगे और वे युवा ले रहे होंगे?

Breaking News