भाकपा माले ने उपचुनावों में विपक्ष को जिताने के लिए जनता का किया अभिनन्दन

बैंककर्मियों के राष्ट्रव्यापी हड़ताल का समर्थन करते हुए पार्टी केन्द्रीय कमिटी की ओर से पार्टी महासचिव का. दीपंकर ने उपचुनावों में विपक्ष को जिताने के लिए जनता का अभिनन्दन करते हुए कहा कि इन चुनाओं में भाजपा की करारी हार, जनता का भाजपा के खिलाफ बढ़ते गुस्से का परिचायक है। मोदी शासन के इन चार वर्षों में देश के गाँव – शहरों के गरीब किसानों से लेकर व्यापक छात्र – युवा तथा व्यापारी समेत सभी तबकों के आम जन बुरी तरह त्रस्त हैं।

बैंककर्मियों के राष्ट्रव्यापी हड़ताल का समर्थन करते हुए पार्टी केन्द्रीय कमिटी की ओर से पार्टी महासचिव का. दीपंकर ने उपचुनावों में विपक्ष को जिताने के लिए जनता का अभिनन्दन करते हुए कहा कि इन चुनाओं में भाजपा की करारी हार, जनता का भाजपा के खिलाफ बढ़ते गुस्से का परिचायक है। मोदी शासन के इन चार वर्षों में देश के गाँव – शहरों के गरीब मजदूर किसानों से लेकर व्यापक छात्र – युवा तथा शहरी मध्य वर्ग व व्यापारी समेत सभी तबकों के आम जन बुरी तरह त्रस्त हैं।

          अच्छे दिन के नाम पर ठगी गयी जनता का मोदी – राज के खिलाफ बढ़ते जनाक्रोश को संगठित राजनितिक स्वरुप देने के लिये पार्टी द्वारा चलाये जा रहे  “भाजपा हटाओ, देश बचाओ” अभियान के अगले चरण को गाँव – कस्बों व मुहल्लों में ज़मीनी स्तर और धारदार बनाया जाएगा। जिसके तहत राजनितिक – वैचारिक स्तर पर भाजपा – संघ परिवार के कॉर्पोरेटपरस्त नीतियों और जन एकता को तोड़ने की उन्माद – उत्पात कि फांसीवादी कृत्यों के खिलाफ हर स्तर पर भाजपा को घेरा जाएगा।

          बैठक में सर्वसम्मति से पार्टी के 17 सदस्यीय नए पोलित ब्यूरो का चुनाव किया गया . जिसमें का. दीपंकर भट्टाचार्य, का. स्वदेश भट्टाचार्या, कविता कृष्णन, एस. कुमारस्वामी (तमिलनाडू), कार्तिक पाल (पश्चिम बंगाल), रामजी राय (उत्तर प्रदेश), अरिंदम सेन, जनार्दन महतो (झारखण्ड), मनोज भक्त, कुणाल (बिहार), अमर, धीरेन्द्र झा, रुबुल शर्मा (असम), पार्थो घोष, वी. शंकर (कर्नाटक), राजाराम सिंह और का. प्रभात चौधरी (केन्द्रीय मुख्यालय)को शामिल किया गया।

           झारखण्ड उपचुनाव पर पार्टी ने जेएमएम प्रत्याशी को सक्रिय समर्थन दिया था। जिसमें विपक्ष को जिताने तथा भाजपा – आजसू साजिश को धता बताने के लिए जनता को धन्यवाद दिया गया।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

सिल्ली-गोमिया चुनाव परिणाम का राजनीतिक दुष्प्रभाव शुरु, झामुमो के चंपई सोरेन बने पहले शिकार

Fri Jun 1 , 2018
25 साल बाद अचानक पुलिस द्वारा झारखण्ड मुक्ति मोर्चा के विधायक चंपई सोरेन की फाइल खोलना, वह भी तब जब गोमिया और सिल्ली में भाजपा की करारी हार हो रही हो, तथा झामुमो दोनों सीटों पर शानदार जीत को दर्ज कर, एक बार फिर से राज्य सरकार को चुनौती देने की स्थिति में हो, तो स्पष्ट हो जाता है कि राज्य सरकार के इरादे नेक नहीं है, और वह फिलहाल बदले की राजनीति पर उतर आई है।

Breaking News