नगर आयुक्त और कार्यपालक पदाधिकारी के खिलाफ मुख्यमंत्री रघुवर दास से शिकायत

रांची नगर निगम के सिटी बस संचालक सुरेश सिंह ने मुख्यमंत्री रघुवर दास को एक शिकायत पत्र लिखा है। जिसमें उन्होंने आरोप लगाया है कि रांची नगर निगम के नगर आयुक्त ने मीटिंग में बुलाकर सबके सामने उनके साथ अभद्र व्यवहार किया, जिससे वे काफी आहत है, तथा परिचालन छोड़ देना चाहते है, क्योंकि आपके (मुख्यमंत्री रघुवर दास) कार्यकाल में दोषियों पर कार्रवाई नहीं होती।

रांची नगर निगम के सिटी बस संचालक सुरेश सिंह ने मुख्यमंत्री रघुवर दास को एक शिकायत पत्र लिखा है। जिसमें उन्होंने आरोप लगाया है कि रांची नगर निगम के नगर आयुक्त ने मीटिंग में बुलाकर सबके सामने उनके साथ अभद्र व्यवहार किया, जिससे वे काफी आहत है, तथा परिचालन छोड़ देना चाहते है, क्योंकि आपके (मुख्यमंत्री रघुवर दास) कार्यकाल में दोषियों पर कार्रवाई नहीं होती। उन्होंने कई आवेदन दिये, पर अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हो पाया, जिससे ऐसे लोग, जो गलत करते हैं, उनका मनोबल बढ़ता जा रहा है।

सुरेश सिंह के कथनानुसार, नगर आयुक्त के द्वारा मीटिंग में सिर्फ लोगों को बेइज्जत करने एवं उनके साथ अभद्र व्यवहार करने के लिए ही मीटिंग बुलाई जाती है। सुरेश सिंह ने यह भी कहा कि नगर आयुक्त की मानें तो जो बात करना है वह राम कृष्ण के द्वारा की जाय, मतलब जब पैसा देंगे तभी काम होगा। उनके द्वारा धमकी भी दी जाती है कि सरकारी काम में बाधा डालने का केस करवा के अंदर करवा दूंगा। ज्ञातव्य है कि हाल ही में चडरी सरना समिति के लोगों पर इसी प्रकार का केस नगर आयुक्त ने करवा दिया है, जब वे न्याय मांगने नगर आयुक्त के पास पहुंचे थे।

इधर सुरेश सिंह ने यह भी लिखा है कि जब वह राम कृष्ण कुमार एवं रवीन्द्र से मिला, तो उनके द्वारा कहा गया कि बिना पैसा के कुछ भी नहीं होता, 20 लाख रुपये रुपया दोगे तभी खड़ी गाड़ी का पैसा माफ किया जायेगा, नहीं तो किया टेंडर भी रद्द कर दिया जायेगा। इधर रामकृष्णा ने कहा कि उन पर जो भी आरोप लगाये गये हैं, वह आरोप निराधार है।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

जय हो धनतेरस को धरतेरस बनानेवाले महान आत्माओं की...

Tue Oct 17 , 2017
धनत्रयोदशी सुना था, धनतेरस सुना था, अब लीजिये 'प्रभात खबर' ने एक नया शब्द खोज निकाला है - 'धरतेरस' यानी धरते रहिये तेरस को, मिल जाये या पकड़ा जाये तो हमें भी बताइयेगा... कैसे धरा और कैसे पकड़ा और कैसे इसका उपयोग किया? जय हो धनतेरस को धरतेरस बनानेवाले महान आत्माओं की...जब हम धन को ही प्रमुख मान लेते है, और इसी में भविष्य ढूंढने लगते हैं तो धनतेरस, धरतेरस बन जाता है।

Breaking News