अहंकार में चूर CM ने भगवान शिव पर जलार्पण करने से किया इनकार

ब्राह्मण पुजारी का उड़ाया मजाक

11,513

दुनिया में बहुत कम ही लोग हुए, जो सत्ता के सर्वोच्च शिखर पर पहुंचने के बाद खुद को संभाल सकें, नहीं तो ज्यादातर लोग ऐसे निकले, जो सत्ता पाते ही, उसके मद में ऐसे चूर हुए, कि उन्हें सड़कों पर चलनेवाले सामान्य नागरिक कीड़े-मकोड़े की तरह नजर आने लगे और लगे हाथों ऐसे लोगों ने भगवान और उनके भक्तों का भी मजाक उड़ाना शुरु कर दिया।

ताजा मामला झारखण्ड के मुख्यमंत्री रघुवर दास का हैं, जनाब अपने लाव-लश्कर के साथ एक शिवालय पहुंचे, वहां मंदिर के पुजारी ब्राह्मण ने श्रद्धा के साथ एक लोटा जल सीएम रघुवर दास की ओर बढ़ाया कि वे भगवान शिव पर जलार्पण करें, पर मुख्यमंत्री ने शिव पर जलार्पण करने से इनकार तो किया ही, साथ ही उक्त ब्राह्मण पुजारी का भी मजाक उड़ा दिया और उसकी हंसी उड़ाई। बेचारा पुजारी ब्राह्मण क्या करता? मन मसोस कर रह गया। जरा देखिये, इस विजुअल को, सब कुछ कह दे रहा हैं, कि हमारे सीएम की कैसी सोच है?

देखिये इस विजुअल को, एक ब्राह्मण CM को शिव पर जलार्पण करने को कहता है और हमारा CM कैसे उसका मजाक उड़ाकर चल देता है? ये है हमारे हिंदुत्व के रक्षक, भाजपा के पुरोधा, राज्य के माननीय मुख्यमंत्री। सबका साथ, सबका विकास का नारा देनेवाले नेता। अरे ब्राह्मणों कब तक अपमानित होते रहोगे, खुद को संभालों, नहीं तो इसी तरह लोग तुम्हारी इज्जत का बैंड बजाते रहेंगे…

Posted by Krishna Bihari Mishra on Wednesday, 14 February 2018

सीएम रघुवर दास की इस हरकत का विजुअल हर जगह वायरल हो रहा है, सभी ने एक स्वर से इसकी आलोचना की हैं, और जैसा कि होता हैं कि एक बार फिर भाजपा के लोग सीएम रघुवर दास के इस हरकत को देखते हुए उनके बचाव में उतर आये हैं, जबकि सीएम रघुवर दास के भक्तों का, सामान्य जनता सोशल साइट पर ही अच्छा जवाब दे रही हैं, जिससे इनलोगों का मुंह देखते बन रहा हैं।

सीएम रघुवर दास के इस हरकत की एक बार फिर हर जगह भर्त्सना हो रही हैं। लोगों का कहना है कि जब अहंकार रावण का नहीं रहा तो फिर सीएम रघुवर दास क्या हैं? शिव पर जलार्पण करने से इनकार तथा मंदिर के पुजारी ब्राह्मण का मजाक उड़ाना, सीएम रघुवर दास ही नहीं, बल्कि पूरी भाजपा मंडली को महंगा पड़ेगा।

लोगों का यह भी कहना था कि पहले तो गढ़वा में सीएम रघुवर दास ने ब्राह्मणों के खिलाफ अपमानजनक शब्द का प्रयोग किया, दूसरी बार विपक्ष को सदन में गाली से नवाजा और अब भगवान शिव को जलार्पण करने से इनकार किया तथा एक ब्राह्मण पुजारी का मजाक उड़ा दिया, ये सारी घटना बताती है कि रघुवर दास ने अपना स्वविवेक खो दिया है, जिसके कारण वे इस प्रकार की हरकतें कर रहे हैं।

Comments are closed.