झारखण्ड के CM रघुवर दास ने सारे विपक्षी दलों के नेताओं को चोर कह डाला

बड़े मियां तो बड़े मियां छोटे मियां सुभान अल्लाह। उधर 6 अप्रैल को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने विपक्षी दलों के नेताओं की तुलना सांप, नेवले, कुत्ते और बिल्ली से कर दी और इधर झारखण्ड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कल यानी 8 अप्रैल को रांची के धुर्वा स्थित शहीद मैदान में आयोजित अखिल भारतीय रौतिया समाज के अधिवेशन में सारे विपक्षी दलों को चोर बना डाला।

बड़े मियां तो बड़े मियां छोटे मियां सुभान अल्लाह। उधर 6 अप्रैल को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने विपक्षी दलों के नेताओं की तुलना सांप, नेवले, कुत्ते और बिल्ली से कर दी और इधर झारखण्ड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कल यानी 8 अप्रैल को रांची के धुर्वा स्थित शहीद मैदान में आयोजित अखिल भारतीय रौतिया समाज के अधिवेशन में सारे विपक्षी दलों को चोर बना डाला।मुख्यमंत्री रघुवर दास का कहना था कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को हटाने के लिए देश के सारे चोर एक साथ आ रहे हैं।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने 60 साल तक देश में शासन किया और उस शासन के कुकर्मों को मोदी साफ कर रहे है। समय तो लगेगा। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि कांग्रेस ने कभी विकास की बात नहीं की,  हमेशा जात-जमात की राजनीति की। किसी का भला नहीं किया। उन्होंने कहा कि किसी को गलतफहमी नहीं रहनी चाहिए कि झारखण्ड को झारखण्ड मुक्ति मोर्चा ने बनाया है। इस झारखण्ड को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने बनाया है।

कांग्रेस के उपर बरसते-बरसते उन्होंने झारखण्ड मुक्ति मोर्चा की भी खुब क्लास ले ली। उन्होंने कहा कि झारखण्ड मुक्ति मोर्चा आंदोलनकारियों की पार्टी नहीं बिकाउ पार्टी है। दो-दो करोड़ रुपये लेकर झारखण्ड आंदोलन को बेचने का इनलोगों ने काम किया हैं। नहीं तो, झारखण्ड 1993 में ही बनकर तैयार हो जाता। पूरा देश नरसिम्हा राव की सरकार के समय की सांसद रिश्वत कांड से परिचित है। उन्होंने कहा कि ये लोग हमेशा ही वोट बैंक की राजनीति करते रहे हैं, इसलिए झारखण्ड का विकास नहीं हो सका। उन्होंने कहा कि कांग्रेस, राजद या झामुमो सभी यहां सरकार बनवाकर झारखण्ड को लूटने और यहां की जनता को मूर्ख बनाने का काम किया है।

Krishna Bihari Mishra

Next Post

नीतीश ने मोदी को बताई अपनी मन की बात, शांति और सद्भाव के महत्व को समझाया

Tue Apr 10 , 2018
पूरे देश में फैल रही सांप्रदायिकता और खासकर बिहार में दो संप्रदायों में पनप रहे अलगाव के बीज ने शायद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को अंदर से झकझोर दिया है। आज मोतिहारी में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की मौजूदगी में वहां की जनता को संबोधन के क्रम में, उन्होंने कह दिया कि विकास के साथ-साथ देश में शांति और सद्भाव भी उतना ही जरुरी है और इसके बिना विकास की कल्पना भी नहीं की जा सकती।

Breaking News