सुचित्रा मिश्रा हत्याकांड में शामिल शशिभूषण को BJP में शामिल करा CM रघुवर ने ब्राह्मणों को बताई औकात

0 751

सुचित्रा मिश्रा हत्याकांड इन दिनों फिर सुर्खियों में हैं। सुर्खियों में इसलिए हैं कि सुचित्रा मिश्रा हत्याकांड में शामिल शशिभूषण आज भाजपा में शामिल हो गया और पूर्णतः गंगा की तरह पवित्र भी हो गया। भाजपा में शामिल होने के लिए तथा अपने उपर लगे आरोपों से मुक्त होने के लिए शशि भूषण ने बड़ा दांव खेला और भाजपा में जाने की सोची और इसके लिए वह मुख्यमंत्री रघुवर दास से मिला।

रघुवर दास को भी पांकी विधानसभा से एक ऐसे उम्मीदवार की तलाश थी, जो पांकी में बेहतर प्रदर्शन कर सकें तथा ब्राह्मणों को उनकी औकात भी बता सकें। रघुवर दास को लगा कि ये सारे गुण शशिभूषण मेहता में मौजूद हैं, और लगे हाथों रघुवर दास ने एक तिथि मुकर्रर कर दी और लीजिये आज शशिभूषण मेहता भाजपा में शामिल भी हो गया।

शशिभूषण के भाजपा में शामिल होने पर भाजपा में ही दो फाड़ हैं, एक वर्ग ऐसा हैं जो भाजपा में किसी भी अपराधिक चरित्र के लोगों के आने के खिलाफ हैं, जबकि दूसरा वर्ग वह हैं, जो किसी किसी प्रकार से 65 प्लस को पार करने के लिए वह हर प्रकार के अनैतिक लोगों को प्रश्रय दे रहा हैं, जिससे हर सभ्य व्यक्ति तौबा करना चाहता है, लेकिन इन दिनों भाजपा में ऐसे ऐसे लोग शामिल हो रहे हैं, जिनके शामिल होने से पूरा सभ्य समाज आश्चर्यचकित है। कल तक जो लोग भाजपा को लेकर सोशल साइट पर मारधार करने को उतारु हो जाते थे, आज वे भी सुचित्रा मिश्रा हत्याकांड में शामिल शशिभूषण के भाजपा में शामिल होने से नाकभौ सिकोड़ने लगे हैं।

यानी एक बाघमारा का ढुलू जिस पर सीएम रघुवर का वरदहस्त हैं, और वहां वो हर काम कर रहा हैं, जिससे पूरा बाघमारा त्रस्त हैं, पर सीएम रघुवर के कानों पर जूं तक नहीं रेंग रही। हाल ही में एक मुस्लिम परिवार ढुलू के आतंक से धनबाद उपायुक्त कार्यालय में जाकर आत्मदाह किया, फिर भी ढुलू के उपर कोई कार्रवाई नहीं, उल्टे हर प्रकार का समर्थन उसे जारी हैं।

सूत्र बताते है कि इन दिनों सीएम रघुवर 65 प्लस और अपने ब्राह्मण विरोधी स्वभाव के कारण वो हर प्रकार के कार्यों में लिप्त है, जिससे भाजपा का भट्ठा बैठना तय है। पलामू के बारे में जो लोग जानते है कि उनका कहना है कि पलामू में ब्राह्मणों का वोट काफी मायने रखता है, अगर सुचित्रा मिश्रा प्रकरण रंग ले आया तो भाजपा को लेनी की देनी भी पड़ सकती हैं।

राजनैतिक पंडित यह भी बताते है कि पलामू के ब्राह्मण अभी तक मुख्यमंत्री रघुवर दास का वह विवादास्पद बयान नहीं भूले हैं, जिसको लेकर पूरे झारखण्ड के ब्राह्मण उबल पड़े थे और इधर सुचित्रा मिश्रा हत्याकांड में शामिल शशिभूषण को भाजपा में शामिल करा, और उधर अपने चहेते विधायक ढुलू के समर्थकों द्वारा धनबाद के अतिप्रतिष्ठित समाजसेवी विजय झा के बेटे पर बलात्कार का झूठा केस करवा देने के कारण, सीएम रघुवर का ब्राह्मण विरोधी चेहरा एक बार फिर सबके सामने गया है।

राजनैतिक पंडित बताते है कि राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास ब्राह्मणों को देखना तक पसन्द नहीं करते, और जब भी कोई मौका आता हैं, वे ब्राह्मणों के खिलाफ कार्य करने से नहीं चूकते। इधर जिस प्रकार मृतक सुचित्रा मिश्रा के परिजनों के साथ भाजपा कार्यालय में धक्कामुक्की की गई, उन्हें पीटा गया, महिला पर हाथ छोड़ा गया, धमकी दी गई, वो बताता है कि सीएम रघुवर दास के मन में क्या चल रहा हैं।

इधर सोशल साइट पर इस घटना को लेकर आक्रोश बढ़ता जा रहा है। कई ब्राह्मण संगठनों ने भी इस पर अपनी भौंहे टेढ़ी करनी शुरु कर दी है, उनका कहना है कि जब ब्राह्मणों से इतनी ही नफरत हैं, तो फिर ब्राह्मणों को भी भाजपा के बारे में अब दस बार सोचना होगा और विकल्प तैयार रखना होगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.