BJP को नहीं अच्छा लगा JMM का पट्टा पहनकर हेमन्त सोरेन द्वारा मतदान केन्द्र पर वोट डालने जाना

आज लोकसभा चुनाव का पांचवा चरण था, नेता प्रतिपक्ष हेमन्त सोरेन अपनी धर्मपत्नी के साथ मताधिकार का प्रयोग करने के लिए, रांची लोकसभा अंतर्गत हटिया विधानसभा क्षेत्र के संत फ्रांसिस स्कूल पहुंच गये। इस दौरान उनके साथ उनकी पत्नी भी थी तथा दोनो अपने गले में झामुमो का पट्टा पहने थे। फिर क्या था, उनके चाहनेवालों ने उन्हें घेर लिया, उनसे बातें की, तथा धरा-धर जैसा कि हर सैलिब्रेटी के साथ होता है, लोगों ने उनके अपने मोबाइल से फोटो लेने शुरु कर दिये और उसे अपने –अपने सोशल साइट पर डाल दिया।

और लीजिये, यही सब भाजपा को अच्छा नहीं लगा और इसकी शिकायत भाजपा नेताओं ने चुनाव आयोग से कर दी। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल नाथ शाहदेव के कथनानुसार हेमन्त सोरेन ने ऐसा करके आदर्श आचार चुनाव संहिता का उल्लंघन किया है, उनका कहना था कि चुनाव आयोग को बिना देर किये उनके खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए। अब हेमन्त सोरेन ने आदर्श चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन किया या नहीं किया, ये तो जांच का विषय है।

पर राजनैतिक पंडितों की माने तो जब कोई पार्टी अपने प्रतिद्वंद्वी में ज्यादा दोष निकालने लगे, और वह भी बेवजह तो समझ लीजिये कि दोष निकालने वाली पार्टी की स्थिति बेहद ही नाजुक है, क्योंकि हेमन्त सोरेन के झामुमो का पट्टा पहनकर जाने से ऐसा नहीं कि भाजपा का वोट प्रभावित हो गया था, जो लोग हेमन्त सोरेन को जानते हैं, वो ऐसा भी नहीं कि उन्हें भाजपा का मान लेते, वो रहते झामुमो ही, पर बाल का खाल निकालना हो तो ऐसा करने में क्या जाता है?