शर्मनाक, बांगलादेशी और रोहिंग्या घुसपैठियों के पक्ष में सर्वोच्च न्यायालय में खड़ी दिखी सरकार, आदिवासियों पर गहराया संकट – बाबू लाल

राज्य में बढ़ रहे बांगलादेशी और रोहिंग्या घुसपैठियों को लेकर राज्य सरकार द्वारा सर्वोच्च न्यायालय में दिये गये हलफनामे से

Read more

निशिकांत के ट्विट हमले से तिलमिलाई झामुमो चुनाव आयोग और केन्द्रीय जांच एजेंसियों को हड़काया, पूछा निशिकांत को एजेंसियों की अंदरुनी बातें कैसे पता चल जाती है?

झारखण्ड के एक भाजपा सांसद निशिकांत दूबे ने ऐसा लगता है कि झारखण्ड मुक्ति मोर्चा की नींद उड़ा दी हैं,

Read more

रामजन्मभूमि मंदिर के सूत्रधार आडवाणी, जिन्होंने जीते-जी अपने आंदोलन को सफल होते हुए देखा, आरोपों से मुक्त भी हुए

जहां तक मुझे लगता है कि भारत में तीन ही राष्ट्रीय स्तर के नेता हुए, जिन्होंने बाद में अंतरराष्ट्रीय स्तर तक पहचान बनाई, जिन्होंने स्वयं ही आंदोलन छेड़ा और अपने जीते जी उस आंदोलन को सफल होते हुए भी देखा, जिनमें प्रथम महात्मा गांधी थे, जिनके नेतृत्व में भारत 15 अगस्त 1947 को स्वतंत्र हुआ, दूसरे लोकनायक जयप्रकाश नारायण हुए, जिन्होंने 1975 में इन्दिरा गांधी द्वारा शुरु किये गये आपात काल की तीखी आलोचना की और संपूर्ण विपक्ष को एक साथ लेकर 1977 में अपने जीते जी इन्दिरा गांधी को सत्ता …

Read more

सुप्रीम कोर्ट ने एमवी राव से संबंधित याचिका क्या खारिज की, भाजपा नेता और एक अखबार की सिट्ठी-पिट्ठी गुम हो गई

आज भाजपा के बड़े-बड़े नेताओं की ही नहीं, बल्कि झारखण्ड के वर्तमान डीजीपी एमवी राव से खार खाये कट्टर भाजपा समर्थक एक अखबार व अन्य पत्रकारों की भी नजर दिल्ली स्थित सर्वोच्च न्यायालय पर थी, क्योंकि आज एमवी राव से संबंधित एक याचिका पर सुनवाई थी। सभी को भरोसा था कि हेमन्त सरकार के निर्णय के खिलाफ सर्वोच्च न्यायालय का फैसला आयेगा।

Read more

ईमानदार एमवी राव को डीजीपी पद से हटाने के लिए कोयला माफियाओं से लेकर भ्रष्ट नेताओं, अधिकारियों व पत्रकारों ने मिलकर लगाया जोर

जब से झारखण्ड में हेमन्त सोरेन की सरकार बनी है, तब से लेकर आज तक जितने भी फैसले राज्य के मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने लिए हैं, उन फैसलों को चुनौती देने के लिए भ्रष्ट एवं चरित्रहीन लोगों ने एक सुनियोजित साजिश के तहत काम करना शुरु कर दिया है, हालांकि इन्हें सफलता नहीं मिलने जा रही, पर पेट में दर्द उनका इतना बढ़ गया हैं, कि ये अपने दर्द के निवारण  के लिए जो भी कुछ मिल रहा हैं, उसे करने में लग जा रहे हैं।

Read more

SC द्वारा राज्य सरकार को बकोरिया कांड पर मिले झटके के बाद, सरयू राय ने भी सरकार पर सवाल दागे

खाद्य आपूर्ति मंत्री सरयू राय ने एक बार फिर रघुवर सरकार पर हमला बोला है। इस बार उनका हमला बकोरिया कांड को लेकर इन दिनों सोशल साइटों तथा अन्य जगहों पर राज्य सरकार की हो रही जगहंसाई है। सरयू राय ने ट्वीट कर कहा है कि दरअसल राज्य सरकार ने कैबिनेट के भीतर या बाहर उनके सुझाव को माना ही नहीं और बकोरिया कांड की सीबीआइ जांच रुकवाने के लिए सर्वोच्च न्यायालय तक पहुंच गई।

Read more

CPI-ML ने आदिवासियों के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिये गये निर्णय के लिए केन्द्र को ठहराया दोषी

भाकपा माले राज्य सचिव जनार्दन प्रसाद ने आज रांची में कहा कि 20 फरवरी को सर्वोच्च न्यायालय द्वारा आदिवासियों को वनभूमि से बेदखली का निर्णय भाजपा की केंद्र सरकार द्वारा आदिवासियों पर एक  बड़ा हमला है। दरअसल भाजपा की केंद्र सरकार ने वनक्षेत्र मे रहने वाले आदिवासियों के बचाव में कोई पक्ष ही नहीं रखा। जिस वजह से वनाधिकार कानून रहने के बावजूद सर्वोच्च न्यायालय ने वनक्षेत्र के आदिवासियों की बेदखली का निर्णय सुना दिया।

Read more

राफेल डील और सीबीआई मुद्दे पर भाजपा को पटकनी देने के लिए राहुल उतरें दिल्ली की सड़कों पर

राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में हो रहे विधानसभा चुनाव को देखते हुए कांग्रेस ने भाजपा की अच्छी किलेबंदी करनी शुरु कर दी है, वर्तमान में राफेल डील और सीबीआई के अंदर चल रहे उठापटक का राजनीतिक माइलेज लेने के लिए उतारु कांग्रेस ने दिल्ली में भाजपाइयों के होश उड़ाने तथा पीएम मोदी की बोलती बंद करने के लिए सड़कों पर उतर गई।

Read more

वामदलों के बिहार बंद का जनता ने किया समर्थन, बंद असरदार, SC ने लिया संज्ञान

वामदलों ने मुजफ्फरपुर के बालिका गृह में नाबालिग लड़कियों के साथ हुए दुष्कर्म एवं इस मामले में मंत्री के इस्तीफे और उसके पति की गिरफ्तारी की मांग को लेकर बिहार बंद बुलाया, बिहार के कई इलाकों में यह बंद असरदार रहा, जबकि कई इलाकों में बंद का मिला-जुला असर दिखाई पड़ा, इस बंद को राज्य के सभी विपक्षी दलों का समर्थन प्राप्त था,

Read more

येदियुरप्पा की इस्तीफे की वाजपेयी के इस्तीफे से तुलना यानी चमचई पत्रकारिता की पराकाष्ठा

हमारे देश में एक नई प्रकार की पत्रकारिता का जन्म हुआ है। उस पत्रकारिता का नाम है – चमचई पत्रकारिता। जैसा कि नाम से स्पष्ट है इस पत्रकारिता में एक खास सत्तारुढ़ सरकार एवं उसके नेता, दल तथा किसी खास लोगों की चमचई करनी होती है, इस चमचई से देश को लाभ होता है या नुकसान, या जनता को लाभ होता है या नुकसान, इससे पत्रकारिता करनेवाले पत्रकार या चैनल या अखबारवालों को कोई मतलब नहीं होता,

Read more