RMC वार्ड 51 के कल्याणपुर रोड न. तीन का हाल, मेयर ने तीन वर्ष पूर्व सड़क का किया शिलान्यास, निर्माण कार्य आज तक शुरु नहीं

राजधानी के हटिया क्षेत्र अंतर्गत कल्याणपुर रोड नंबर तीन (सिंह मोड़) के निवासी विगत तकरीबन तीन वर्षों से एक पक्की

Read more

बरियातू रोड मुद्दे पर झारखण्ड सिविल सोसाइटी की सराहना और हेमन्त सरकार की आलोचना की बाबूलाल ने

झारखण्ड के पूर्व मुख्यमंत्री एवं झारखण्ड भाजपा विधायक दल के नेता बाबू लाल मरांडी ने रांची के बरियातू रोड को लेकर सरकारी तंत्र के रवैये पर गहरी निराशा और क्षोभ का इजहार किया है। श्री मरांडी ने कहा कि झारखण्ड सरकार एक तरफ तो गड्ढों से भरी इस खतरनाक हो चुकी सड़क की मरम्मत में रुचि तो दूर की बात, नागरिक संगठन झारखण्ड सिविल सोसाइटी ने श्रमदान से सड़की मरम्मत का जो काम शुरु किया, उसे भी रुकवा दिया।

Read more

यही हाल रहा तो, अभी मिट्टी के डाक्टर देखे हैं, जल्द ही हवा, पानी, सड़क, आदि के डाक्टर भी देखियेगा

रांची के संपादकों का क्या हैं, उनके होठो पर तो एक ही बोल है, “ एक-दो पेज विज्ञापन का है सवाल, जिये तेरे बच्चे रघुवर, जमे रहो रघुवर दादा।” आज रांची से प्रकाशित सभी अखबारों में एक पृष्ठ का विज्ञापन छपा है। विज्ञापन कृषि, पशुपालन एवं सहकारिता विभाग, झारखण्ड सरकार द्वारा जारी किया गया है, जिसमें मिट्टी के डाक्टरों का सम्मान समारोह का जिक्र है।

Read more

केन्द्र की मोदी सरकार ने दी वाहन चालकों को बहुत बड़ी राहत, कागजात अब डिजिटल भी चलेगा

भारत सरकार के सड़क, परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने किसी भी बड़े या छोटे वाहनचालकों को एक बहुत बड़ी राहत दी है। सड़क, परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय, भारत सरकार के अंडर सेक्रेटरी डी आर लुय्कांग के हस्ताक्षर से 19 नवम्बर को एक अधिसूचना जारी हुई है, जो पुलिस महानिदेशक, परिवहन विभाग के सभी सचिवों/प्रधान सचिवों, राज्य व सभी केन्द्र शासित प्रदेशों के परिवहन आयुक्तों को भेजी गई है।

Read more

साल भर के अंदर राजधानी की सूरत बदलनेवाले, रांची को तो नहीं बदल सकें, पर…

पहले विधायक थे, चलो मान लिया, एक विधायक की क्या औकात? बाद में झारखण्ड विधानसभा के अध्यक्ष बने, चलो यह भी मान लिया एक विधानसभाध्यक्ष भी क्या कर सकता है? लेकिन अब तो आप नगर विकास मंत्रालय संभाल रहे हैं, अब आप ये कहेंगे कि हमें करने नहीं दिया गया, तो लोग कभी इस बात को नहीं स्वीकार करेंगे?

Read more

रांची रेलवे कॉलोनी की सड़कें बदहाल, रेलवे के वरीय अधिकारियों को इससे कोई मतलब नहीं

रांची जंक्शन के दक्षिण में हैं रेलवे कॉलोनी, जहां बड़ी संख्या में रेलवे में कार्य करनेवाले टीटीई, स्टेशन मास्टर, गार्ड, व फोर्थ ग्रेड के रेलवे कर्मचारियों का परिवार रहता हैं, पर सच्चाई यह है कि ये सारे रेलवे कर्मचारियों के परिवारों की जिन्दगी नरकमय बनी हुई हैं, उनकी ओर देखने की फुर्सत किसी को भी नहीं।

Read more