सवाल “शुभम संदेश” के मालिक से, क्या आपके यहां अशुभ समाचार प्रकाशित नहीं होंगे? क्या आप अपने नामानुरुप जनता को सेवा देंगे?

एक जुलाई को रांची के बंगाल-नागपुर रेलवे होटल में रांची से प्रकाशित होनेवाले एक दैनिक समाचार पत्र “शुभम संदेश” का

Read more

एक ही अखबार के दो संपादकों के कमाल देखिये, एक हेमन्त सरकार और उनके IAS/IPS अधिकारियों के मुंह पर कालिख पुत दी, तो दूसरा हेमन्त के गोद में मचलने को तैयार दिखा

एक ही अखबार के दो संपादकों के कमाल देखिये, एक धनबाद का संपादक है जो खनन को लेकर राज्य सरकार

Read more

शर्मनाक: रांची प्रेस क्लब के पदाधिकारियों के धरने से रांची के प्रतिष्ठित संपादकों/अखबारों ने बनाई दूरियां, दलों में झामुमो ने भी किया किनारा, बैजनाथ अभी भी अचेतावस्था में, न्याय को लेकर संघर्ष अनवरत् जारी

पिछले तीन दिनों से रांची प्रेस क्लब से जुड़े पदाधिकारियों और उनके समर्थकों का रांची प्रेस क्लब परिसर में धरना

Read more

ए पत्रकार साहेब, इ जो कोरोना है न, ब्रिटेन के PM बोरिस जानसन और वहां के प्रिंस चार्ल्स तक को नहीं छोड़ा है

मत भूलिये कि ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन और हेल्थ मिनिस्टर भी कोरोना पॉजिटिव मिले हैं, यह भी मत भूलिये कि 25 मार्च को प्रिंस चार्ल्स भी कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं और आप झारखण्ड के पत्रकार इन तीनों के आस-पास कहीं भी किसी रुप में भी नहीं भटक सकते, आप कोरोना की भयावहता को इसी से समझिये कि जब ये विश्व के टॉप की हस्तियां कोरोना से प्रभावित हो सकती हैं, तो ये कोरोना आप जैसे महानुभावों पर कैसे दया कर सकती हैं?

Read more

भाई वाह, IPRD का निदेशक कौन होगा, अब रांची के अखबारों के संपादक और विज्ञापन प्रबंधक तय करेंगे?

जब से हेमन्त सोरेन मुख्यमंत्री बने हैं। सर्वाधिक परेशान अगर कोई हैं तो यहां के विभिन्न अखबारों के संपादक और विज्ञापन से जुड़े वे मठाधीश हैं, जिनका लगभग दो महीनों से मुंह सुखा हुआ है, क्योंकि आइपीआरडी यानी सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग से जो इन्हें मुंहमांगी रकम मिला करती थी, उस पर एक तरह से विराम लगा हुआ है। यह विराम कब समाप्त होगा, इसको लेकर ये नाना प्रकार के तरकीब तैयार कर रहे हैं,

Read more

रघुवर सरकार की करारी हार से अखबारों-चैनलों को लगा करारा झटका, जनता की गाढ़ी कमाई गई बच

अपने प्रचार-प्रसार के लिए करोड़ों रुपये पानी की तरह बहानेवाली रघुवर सरकार ने 24 दिसम्बर के लिए राज्य के सारे अखबारों को विशेष विज्ञापन देने की वह भी जैकेट की तैयारी कर ली थी, पर उसकी हुई करारी हार ने अखबारों व चैनलों को होनेवाली कमाई पर पानी फेर दिया, तथा इनके मालिकों और संपादकों को भी भारी नुकसान पहुंचा दिया।

Read more

रांची से प्रकाशित एक अखबार में ऐसा भी संपादक है जो मरे हुए लोगों की आवाज तक सुन लेता है

आप कहेंगे कि भला मरा हुआ व्यक्ति बोल कैसे सकता है? और जब मरा व्यक्ति बोल नहीं सकता तो कोई मरे हुए की आवाज सुन कैसे सकता हैं? पर इस डिजिटल युग में एक क्रांति हुई है और वह क्रांति रांची में दिखाई पड़ी है, जहां मरे हुए लोगों ने अपने बेटे की आत्मा की शांति के लिए फांसी की मांग कर दी है, और इसकी हेडिंग लगाई हैं रांची से ही प्रकाशित एक अखबार ने, जिसे पढ़कर कल यानी 21 दिसम्बर को लोग दंग रह गये।

Read more

अखबारों-चैनलों पर बिना एक पैसे खर्च किये हेमन्त ने महागठबंधन को झारखण्ड में दिलाई अपार सफलता

झारखण्ड में विधानसभा के पांचों चरणों के चुनाव संपन्न हो चुके हैं और इस पांचों चरणों के चुनाव संपन्न हो जाने के बाद जो परिणाम आ रहे हैं, वे बता रहे है कि इस बार हेमन्त सोरेन के नेतृत्व में झारखण्ड में महागठबंधन की सरकार बनना तय हैं और रघुवर दास के कुशासन का अंत होना सुनिश्चित है। कमाल है, जिस प्रकार से राज्य की भाजपा सरकार ने विधानसभा चुनाव की अधिसूचना जारी होने के पहले तक…

Read more

एक से एक नमूने हैं, जहांपनाह ने बोतल क्या उठाया, संपादक को कमिटमेंट नजर आया, अथ बागी उवाच

एक से एक नमूने संपादक हैं यहां, जो एक से बढ़कर एक चिरकूटई कर रहे हैं, चापलूसी के सारे रिकार्ड अपने पास रख रहे हैं, ताकि वे इस चुनावी वर्ष में वित्तीय लाभ ले सके और उसके लिए ये हर प्रकार के वो हथकंडे अपना रहे हैं, जो पत्रकारिता के मूल्यों व सिद्धांतों के प्रतिकूल है। 15 सितम्बर 2018 – रांची के डिबडीह गांव का नया टोला यहां स्वच्छता ही सेवा कार्यक्रम का आयोजन था,

Read more

“तुम मुझे केवल विज्ञापन की चाट चटाते रहो, मैं तुम्हें अपना महबूब मान लूंगा” – रांची के अखबार

तुम मुझे केवल विज्ञापन की चाट चटाते रहो, मैं तुम्हें अपना महबूब मान लूंगा, तुम्हें सत्ता में लाने के लिए वो हर प्रयास करुंगा, जैसे एक पति की लंबी जीवन के लिए, एक पत्नी तीज व्रत रखती है।” “ओ मेरे महबूब, याद रखोगे न, केवल विज्ञापन की ही तो बात हैं, देखो न मैं तो तुम्हारे लिए अपना संपादकीय पेज तक को आपके कदमों में रख दिया,और क्या करुं, आपके लिए तो हमने जनता को भी कचरे में फेंकने का संकल्प कर लिया,

Read more