शादी में 11 से ज्यादा पर पाबंदी और टीकाकरण के उद्घाटन मात्र में बिना सोसल डिस्टेंसिंग के 17,  क्या ऐसे आप कोरोना से लड़ लेंगे?

जब आप लोगों को बोलने का मौका देंगे। विपक्ष को बोलने का मौका देंगे तो वे सवाल दागेगें ही, क्योंकि उनका तो विशेषाधिकार है, आपकी गलतियों पर अंगूली उठाने का, और ये अधिकार झारखण्ड की ही जनता ने उन्हें दिया हैं, क्योंकि जनता ने उन्हें विपक्ष में बैठाया है, फिर आप कहेंगे कि वे बाल का खाल निकाल रहे हैं, तो यहां तो आप गलत है। अखबारों/चैनलों का क्या है? वे तो अपना कर्तव्य निभा नहीं रहे, उन्हें तो जैसे ही पता चलता है कि एक पृष्ठ का विज्ञापन आ रहा हैं तो उछल पड़ते हैं, और जिन्हें नहीं मिलता है,

Read more

AISMJWA द्वारा पत्रकारों के हितों के लिए किया जा रहा संघर्ष रंग लाया, चारों ओर पत्रकारों के हितों की ही चर्चा

कोरोना काल में जहां पत्रकारों के हितों का दंभ भरनेवाले कुकुरमुत्ते की तरह उगे पत्रकारों के एसोसिएशन अपने-अपने घरों में बैठ कर कोरोना से खुद को मुक्त करने के प्रयास में लगे हैं, वही आल इंडिया शार्ट एवं मीडियम जर्नलिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन AISMJWA ने अपने प्रयासों से सत्तापक्ष और विपक्ष ही नहीं, बल्कि सामाजिक संगठनों/पत्रकार संगठनों की नींद तक उड़ा दी है।

Read more

छोटी-छोटी घटनाओं पर ट्विटर के माध्यम से अधिकारियों को आदेश देनेवाले CM की पत्रकारों के मामले में चुप्पी हैरान करनेवाली – प्रीतम

चतरा हो या दुमका, हजारीबाग हो या रांची, लगातार पत्रकारों पर हो रहे अत्याचार, झूठे केस दर्ज करने के मामले और बदसलूकी से राज्य के पत्रकारों में आक्रोश गहराता जा रहा है, और ये आक्रोश आनेवाले समय में एक भयंकर तूफान का रुप ले सकता है, इसे सभी को समझ लेने की जरुरत है। हजारीबाग के दौरे पर गई  AISMJW ऐसोसिएशन की टीम ने आज विद्रोही24 को बताया कि हजारीबाग के पत्रकारों को फर्जी मामले में जेल भेजने वालों के खिलाफ कोई कार्यवाही ना कर उल्टे बचाने का अब प्रयास किया जा रहा है।

Read more

झारखण्ड विधानसभा के बजट सत्र की समाप्ति के बाद, सदन को लेकर क्या सोचते हैं CPI ML MLA विनोद सिंह

दिनांक – 22 मार्च, झारखण्ड विधानसभा। पहली घटना – मंत्री जोबा मांझी के एक जवाब से असंतुष्ट होकर, केवल विपक्ष ही नहीं, बल्कि सत्तापक्ष के लोग भी हंगामा करते हैं, वेल में आ धमकते हैं। मामला एचइसी की खाली जमीन रैयतों को लौटाने के बजाय, ऊंची कीमत पर बाहरी लोगों को बेचने से संबंधित था। दूसरी घटना – आलोक चौरसिया के तारांकित प्रश्न कि पलामू स्थित आयुक्त कार्यालय में सचिव-कर्मचारी के खाली पदों को कब भरा जायेगा? राज्य का एक भी मंत्री खड़ा होकर जवाब तक नहीं दिया,

Read more

बंद करिये संवैधानिक संस्था का अपमान, चलाना है तो सदन को ठीक से चलाएं, नहीं तो बंद कर दें – सरयू

“अब तो सदन में सदन की सार्थकता पर प्रश्नचिह्न खड़ा हो रहा है, चलाना है तो सदन को ठीक से चलाएं, नहीं चलाना है तो किसी एक दिन आकर बजट पास करा लें और सदन बंद कर दें।” ये संवाद नहीं है, बल्कि वेदना है, एक जनप्रतिनिधि का। जिनका नाम है सरयू राय। जिन्होंने राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास को जमशेदपुर पूर्व से हराकर जीत हासिल की है। इन्होंने अपनी वेदना एक पोर्टल से सुनाई, जिसे किसी ने लगता है सुनने की कोशिश नहीं की और अगर सुना भी तो नजरदांज करने की कोशिश कर दी।

Read more

झारखण्ड विधानसभा के बजट सत्र में भी विपक्ष पर भारी पड़ेंगे राज्य के CM हेमन्त सोरेन

विपक्ष में अभी भी वो कलेवर नहीं कि हेमन्त सरकार को झारखण्ड विधानसभा में घेर ले या उसे चुनौती दे दें, ऐसा होने का मूल कारण है विपक्ष का शक्तिविहीन होना। हालांकि मुद्दे इतने है कि सरकार को घेरा जा सकता है, पर ले-देकर नेता प्रतिपक्ष के मुद्दे पर ही सरकार को घेरने की आदत विपक्ष को एक बार फिर महंगा पड़ सकता है, अगर विपक्ष, नेता प्रतिपक्ष के मुद्दे को ठंडे बस्ते में डालकर, सही मायनों में जन मुद्दों को लेकर सरकार को घेरने का काम शुरु किया, तो कुछ पल के लिए सदन में सरकार को जवाब देने में दिक्कतें आ सकती है,

Read more

दुमका-बेरमो की जनता ने कहा उन्हें हेमन्त पसन्द हैं, भाजपा को किया दूर से प्रणाम, सत्तारुढ़ दल की बल्ले-बल्ले

झारखण्ड में विधानसभा की दो सीटों पर हुए उपचुनाव में जिस प्रकार सत्तारुढ़ दल ने सफलता पाई है, उससे साफ जाहिर होता है कि मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन के आगे या पीछे भाजपा में कोई ऐसा नेता नहीं, जो वर्तमान में हेमन्त सरकार को चुनौती दे दें। विद्रोही24.कॉम ने पूर्व में ही इस बात की संभावना जाहिर कर दी थी कि जिस प्रकार से भाजपा नेताओं का समूह विलो द बेल्ट झामुमो नेताओं पर प्रहार कर रहा हैं, वो साफ बता रहा है कि आखिर इस राज्य में कौन मजबूत है, सत्तारुढ़ दल या विपक्ष।

Read more

हैप्पी बर्थडे CM हेमन्त, तुम जियो हजारों साल, साल के दिन हो पचास हजार

झारखण्ड के मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन का आज जन्मदिन है। आज उनके जन्मदिन के अवसर पर बधाई देनेवालों का तांता लगा हुआ है। क्या सत्तापक्ष और क्या विपक्ष सभी ने उन्हें जन्मदिन की शुभकामनाएं दी है। लोकतंत्र की यही खुबसुरती है कि हम भले ही किसी का वैचारिक तौर पर विरोध करें, पर जब कुछ विशेष दिन आये तो हम उन्हें इसके लिए शुभकामनाएं दें, न कि हर बात पर बाल का खाल निकालने लगे।

Read more

PM मोदी सर्वदलीय बैठक में सोशल डिस्टेसिंग का पालन कर रहे थे, उसी समय रांची में भाजपा के बडे़ नेता इसका धज्जियां उड़ा रहे थे

राज्यसभा का चुनाव कोई जीते, सवाल तो सिर्फ यह है कि इससे झारखण्ड को क्या मिल जायेगा? सवाल तो यह भी है कि इस बात की जानकारी तो सत्तापक्ष और विपक्ष में शामिल सभी विधायकों व उनसे जुड़े नेताओं को पता था कि जिस प्रकार की स्थितियां व परिस्थितियां हैं, झामुमो अपनी सीट आराम से निकाल लेगी और रही बात भाजपा की तो उसे बाकी मतों को अपनी ओर आकर्षित करने में ज्यादा दिमाग लगाना नहीं पड़ेगा, क्योंकि निर्दलीय सरयू राय जब देंगे तो भाजपा को ही अपना मत देंगे।

Read more

 “न हम समस्या पालते हैं और न टालते हैं” कहकर PM मोदी ने पाकिस्तान और यहां के विपक्ष को बढ़िया से समझा दिया

लालकिले के प्राचीर से एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सिंहगर्जना कर दी, और लगे हाथों धारा 370 का जिक्र कर भारत के विपक्षी दलों के उन नेताओं, घड़ियाली आंसू बहा रहे तथाकथित बुद्धिजीवियों और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को बढ़िया से समझा दिया कि वे उन नेताओं में से नहीं जो समस्याओं को पालते हैं या टालते हैं, वे तो समस्याओं को सदा के लिए समाप्त कर देने में ज्यादा विश्वास रखते हैं।

Read more