कभी टाटा-बिड़ला राजनीतिक दलों के निशाने पर होते थे, आज अडानी-अंबानी निशाने पर हैं, इसमें हैरानी की क्या बात है?

भाई मैंने तो इन राजनीतिक दलों को तब से देखा हैं, जब से होश संभाला है। दस वर्ष का था।

Read more

अभी चुनाव आयुक्त टी एन शेषण होते तो देश में हो रहे राज्यों के विधानसभा चुनाव कब के रद्द हो गये होते

अगर आज मुख्य चुनाव आयुक्त के रुप में टी एन शेषण होते, तो निश्चित मान कर चलिये, आज बंगाल, केरल, तमिलनाडू आदि राज्यों में हो रहे विधानसभा चुनाव कब के स्थगित/रद्द कर दिये गये होते, और ये वोटों के सौदागर हाथ मलकर रह गये होते। यह मैं इसलिए लिख रहा हूं, क्योंकि मैंने टी एन शेषण के टेम्परामेंन्ट को देखा है, अब चूंकि आज वे इस दुनिया में नहीं हैं, ऐसे हालात में निश्चय ही भारत की जनता उन्हें अवश्य याद कर रही होगी, हमारा ऐसा मानना है।

Read more

अगर देश गलत हाथों में हैं तो उसे सही हाथों में लाने के लिए धर्मगुरुओं को विशेष प्रयास करने चाहिए

बिना किसी का परवाह किये, उन सभी को वो सही काम करना चाहिए, जिन्हें लगता है कि देश गलत हाथों में हैं, क्योंकि देश किसी भी व्यक्ति, दल या संगठन का बपौती नहीं, बल्कि यह सभी का हैं, और उन्हें दिल से इस काम में लग जाना चाहिए। नहीं तो, आनेवाले समय में अपने उपर लगनेवाले कलंकों को भी माथे पर उठाने के लिए तैयार रहना चाहिए, जब लोग यह कहें कि जब आपको आभास था कि एक समय देश गलत हाथों में हैं, तो आपने उसके लिए क्या किया?

Read more

नेता वहीं जो चुनौतियों का सामना करें, जो चुनौतियों को देख पलायन कर जाये, वह नेता नहीं हो सकता

माफ करियेगा राहुल गांधी जी, हमें नहीं लगता कि आप इन्दिरा गांधी जैसी महान जीवट महिला नेतृ के परिवार से आते हैं, क्योंकि आपने जिस प्रकार चुनाव, भाजपा और विभिन्न संवैधानिक संस्थाओं पर चोट करते हुए अपनी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा दिया, वह यहीं कह रहा है। पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इन्दिरा गांधी ने अनेक झंझावातों को सहा पर उन्होंने कभी भी संवैधानिक संस्थाओं पर न तो अंगुलियां उठाई और न ही अपने विरोधियों से हार मानी,

Read more

अपार सफलता के बावजूद नई सरकार के लक्षण ठीक नहीं दिख रहे, देश के अंदर और बाहर स्थितियां कुछ यहीं संदेश दे रही

भारत की जनता ने नरेन्द्र मोदी को अपार बहुमत दे दिया, इतना बहुमत जिसकी संभावना किसी को नहीं थी, देश में जिस प्रकार कई राज्यों में महागठबंधन ने भाजपा को घेरने की कोशिश की, उससे यहीं लग रहा था, देश में त्रिशंकु सरकार के आसार है, पर 23 मई को मिले जनादेश ने सारे राजनैतिक पंडितों को होश उड़ा दिये और भाजपाइयों की तो जैसे लगी की मुंहमांगी मुराद मिल गई, पर क्या 23 मई के बाद की स्थितियों पर किसी ने गौर किया है

Read more

सड़ा अंडा, लालू प्रसाद और भ्रष्टाचार का अब खुलकर नेताओं पर अपनी कृपादृष्टि फैलाना

दो दिन पहले पता चला कि बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री एवं राजद सुप्रीमो तथा चारा घोटाले में सजा काट रहे लालू प्रसाद को रिम्स में इलाज के दौरान उन्हें खाने में सड़ा अंडा परोस दिया गया। यह समाचार सुन कर हमें कोई आश्चर्य नहीं हुआ, बल्कि यह जानकर प्रसन्नता हुई कि भ्रष्टाचार ने सही में अपना कमाल दिखाना शुरु कर दिया और उसने न तो छोटे में और न बड़े में ही भेदभाव किया है।

Read more

मोदी बजायेंगे जीएसटी का घंटा, विपक्ष करेगा बहिष्कार

1 जुलाई से पूरे देश में जीएसटी लागू होने जा रहा है, इसकी पूरी तैयारियां कर ली गयी है, पूरे ताम-झाम के साथ संसद के केन्द्रीय हॉल में एक समारोह आयोजित कर आज संसद में आधी रात को जीएसटी का घंटा बजेगा और फिर पूरे देश में एक प्रकार का कर-प्रणाली लागू हो जायेगा।

Read more