अश्विनी राजगढ़िया जी, ये आर्टिकल मैंने आपके लिए और आप जैसे लोगों के लिए लिख रहा हूं, कृपया इसे पढ़े जरुर…

सबसे पहले तो आत्महत्या करने की इच्छा रखनेवाले ये गिरह बांध लें कि वे अगर सोचते हैं कि आत्महत्या कर

Read more

सवाल तो गंभीर है ही, क्या इस राज्य में एक भी महिला ऐसी नहीं कि राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष बन सकें

सवाल तो गंभीर है ही, क्या इस राज्य में एक भी महिला ऐसी नहीं कि राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष बन सकें, वो भी उस राज्य में जहां महिलाओं से संबंधित कई कुप्रथाएं इस प्रकार चल रही है कि शायद ही कोई महीना होता होगा, जिसमें प्रमुखता से राज्य के विभिन्न समाचार पत्रों में ये प्रकाशित नहीं होता होगा कि फलां गांव में एक या कई महिलाएं, डायन-बिसाही जैसी कुप्रथाओं की शिकार हो गई अथवा राज्य की कई संभ्रांत महिलाएं, झारखण्ड में विभिन्न अत्याचारों की शिकार हो गई और उन्हें न्याय तक नहीं मिला

Read more

झामुमो ने दी केन्द्र को चेतावनी, “माल हमारा खेल तुम्हारा नहीं चलेगा, और न हम इसे चलने देंगे”

केन्द्र सरकार की गलत नीतियों और बिना किसी योजना के लिये गये निर्णयों ने पूरे देश व राज्यों का वो कबाड़ा बना दिया कि लोगों के पास आज रोजगार नहीं हैं, लोग दाने-दाने को मोहताज हैं। केन्द्र सरकार केवल अपने निहित स्वार्थों को पूरा करने के लिए झारखण्ड जैसे राज्यों को समाप्त करने पर तूली है। आज स्थिति है कि अपना राज्य गंभीर आर्थिक संकटों से जूझ रहा है। जिस सरकार ने 2014 में जनता को यह ख्वाब दिखाया था कि वो तमाम मुश्किलों से देश को निकाल लेंगे,

Read more

CM हेमन्त का बड़ा फैसला – कंबल घोटाले मामले में ACB को दिया जांच के आदेश

झारखण्ड के मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन ने झारक्राफ्ट, रांची द्वारा हरियाणा के पानीपत से कंबल खरीदने में हुई अनियमितताओं को देखते हुए राज्य की भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो को प्रारंभिक जांच करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। ज्ञातव्य है कि रघुवर सरकार में हुए कंबल घोटाले को लेकर झारक्राफ्ट से जुड़े अधिकारी सुर्खियों में रहे, साथ ही इसको लेकर रघुवर सरकार पर भी छीटें पड़े।

Read more

NIA की छापेमारी के बाद रामकृपाल कंस्ट्रक्शन से उपकृत नेताओं, अधिकारियों व पत्रकारों के चेहरे पर हवाइयां उड़ी

जैसे ही झारखण्ड के विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं, उच्चाधिकारियों व उंची पहुंच वाले पत्रकारों को इस बात की जानकारी मिली, कि रामकृपाल कंस्ट्रक्शन के कार्यालय में छापा पड़ी है, सभी के चेहरे पर हवाइंया उड़ने लगी, सभी आश्चर्य में पड़ गये, कई घोर निराशा के शिकार हो गये। आश्चर्य इस बात को लेकर था कि रामकृपाल कंस्ट्रक्शन पर कई लोगों ने भ्रष्टाचार के आरोप लगाये थे, होना यह था कि राज्य का एंटी करप्शन ब्यूरो को छापा मारना चाहिए था, पर छापा राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ी एजेंसियों ने कर डाली।

Read more

पहली बार झारखण्ड में न डायरी, न कैंलेन्डर और न दूरभाष निर्देशिका, बिना इन तीनों के चल पड़ा झारखण्ड, जनता से कैसे बनेगा संबंध?

किसी भी राज्य में नये साल के आगमन के पूर्व ही, वहां की सरकार राज्य की जनता से बेहतर संबंध बनाने के लिए नये साल की डायरी, नये साल का कैलेन्डर और दूरभाष निर्देशिका जारी कर देती है, ताकि नये साल में लोगों को उन तमाम मंत्रियों/नेताओं/अधिकारियों/संस्थानों के सम्पर्क नंबर प्राप्त हो जाये, जिनसे लोगों का सम्पर्क बराबर होता रहता है।

Read more

झारखण्ड में आर्थिक रुप से सक्षम सभी लोगों को मुख्यमंत्री राहत कोष में उदारतापू्र्वक दान देना चाहिए

झारखण्ड का हाल पहले से ही खास्ता हैं, पूर्व की रघुवर सरकार ने राज्य का वो हाल बनाया है कि आज कोरोना वायरस से लड़ने में हेमन्त सरकार की हालत पस्त हो रही हैं, फिर भी कम संसाधनों में अगर कोई सरकार अपने लोगों को बेहतर सेवा उपलब्ध करा रही हैं तो इसकी प्रशंसा करनी होगी। हम तो झारखण्ड में रह रहे उन धन-कूबेरों को भी कहेंगे कि वे थोड़ा दरियादिली दिखाये, और मुख्यमंत्री राहत कोष में उदारता से दान दें।

Read more

श्वेत पत्र के माध्यम से हेमन्त ने लगाए रघुवर सरकार पर गंभीर आरोप, कहा – डबल इंजन ने एक्सीलेटर का कम ब्रेक का ज्यादा किया इस्तेमाल

आखिरकार राज्य के मुख्यमंत्री हेमन्त सरकार ने पिछली रघुवर सरकार के क्रियाकलापों को लेकर आज विधानसभा में श्वेत पत्र जारी कर ही दिया। ज्ञातव्य है कि मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन विधानसभा चुनाव के दौरान राज्य की आर्थिक स्थिति और रघुवर सरकार के विकास के दावों को लेकर आम सभा में श्वेत पत्र जारी करने की बात हरदम उठाया करते थे, जिस वायदे को उन्होंने जनता के समक्ष आज पूरा कर दिया।

Read more

रघुवर सरकार के पांच पूर्व मंत्रियों आप घबराना नहीं, एनोस को सजा होनी ही थी, क्योंकि वो भाजपाई नहीं था, आप तो…

रांची से प्रकाशित आज की सभी अखबारों के प्रथम पृष्ठ पर एनोस एक्का और उनका परिवार छाया हुआ है। खबर ही ऐसी है कि यह खबर प्रथम पृष्ठ पर आनी ही थी। एनोस, उसकी पत्नी, भाई, साला और भांजा को सात-सात साल की सजा, 50-50 लाख जुर्माना हुआ है। यह सजा उन्हें आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने के मामले में हुई है, सीबीआइ के विशेष न्यायाधीश ए के मिश्रा की अदालत ने उन्हें यह सजा सुनाई है।

Read more

भाई वाह, IPRD का निदेशक कौन होगा, अब रांची के अखबारों के संपादक और विज्ञापन प्रबंधक तय करेंगे?

जब से हेमन्त सोरेन मुख्यमंत्री बने हैं। सर्वाधिक परेशान अगर कोई हैं तो यहां के विभिन्न अखबारों के संपादक और विज्ञापन से जुड़े वे मठाधीश हैं, जिनका लगभग दो महीनों से मुंह सुखा हुआ है, क्योंकि आइपीआरडी यानी सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग से जो इन्हें मुंहमांगी रकम मिला करती थी, उस पर एक तरह से विराम लगा हुआ है। यह विराम कब समाप्त होगा, इसको लेकर ये नाना प्रकार के तरकीब तैयार कर रहे हैं,

Read more