वो मोदी है, वो सत्ता को ठोकर मार सकता है, पर स्वयं द्वारा लिए गए किसी भी निर्णय को वापस नहीं ले सकता

बिहार में एक लोकोक्ति है – अक्ल बड़ा या भैंस, तो जो मूर्ख होते हैं, वे अपनी बुद्धि के अनुसार बोल देते है कि –भैंस, क्योंकि उन्हें काला भैंस ही अक्ल के सामने बड़ा दिखाई पड़ता है। ये मूर्ख भैस को बड़ा दिखाने में एक से एक तर्क भी देते हैं, कहते है कि भैंस दूध देती है, जिसे पीकर हम बलवान होते है, गोबर देती है, जो बहुत उपयोगी होती है, इसलिए अक्ल से बड़ी तो भैंस है। ठीक उसी प्रकार आज कुछ लोगों से पूछिये

Read more

गांठ बांध लीजिये, बिहार की जनता के मन-मस्तिष्क में चल रहे उथल-पुथल को टटोल पाना आसां नहीं, नामुमकिन हैं

बिहार की जनता ने जनादेश दे दिया है। राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन को अगले पांच साल के लिए फिर से सत्ता मिली है, जबकि महागठबंधन को फिर से विपक्ष में रहकर सरकार के काम-काज पर नजर रखने की जिम्मेदारी भी डाल दी गई है, हालांकि महागठबंधन अभी भी इस हार को पचाने को तैयार नहीं है, उसे लगता है कि इवीएम तथा प्रशासनिक अधिकारियों ने महागठबंधन की जीत में खलनायक की भूमिका अदाकर दी है, इधर भाजपा के लोग कुछ ज्यादा ही प्रसन्न है, क्योंकि बिहार में पहली बार भाजपा ने इतनी अधिक सीटें जीती है।

Read more

कश्मीर के नाम पर चल रहा प्रोपेगैंडा वॉर और वर्तमान भारतीय परिदृश्य पर छलकता एक पत्रकार का दर्द

मैंने सबसे पूछा लेकिन आपलोग एक भी नाम किसी अखबार का नहीं दे पाए जो मेरे लेख छाप सके। इसलिए अब यहीं दे रहा हूँ, पढ़िए और बताइए इसका छापना ज़रूरी है या नहीं। – यह दर्द हैं एक पत्रकार को जो छलक आया है, यह दर्द ऐसे ही नहीं हैं, दर्द का उभरना बताता कि भारतीय पत्रकारिता जगत् में कितना और किस प्रकार का अवमूल्यन हुआ हैं? ज्ञानेन्द्र नाथ सिन्हा उर्फ गुंजन सिन्हा पत्रकारिता जगत् में एक जाना-माना नाम हैं,

Read more

हरियाणा-महाराष्ट्र चुनाव परिणाम के बाद भाजपा का दामन थामे दलबदलूओं के मुंह लटके, बढ़ी धड़कन

झारखण्ड के दागियों व दलबदलूओं की नींद उड़ी हुई हैं, साथ ही दिल की धड़कनें भी बढ़ गई हैं, उन्हें लगता था कि दल, बदल देने से उनकी अपने इलाकों में जीत की संभावना शत प्रतिशत बढ़ गई हैं, उनका आगे का राजनीतिक जीवन सुरक्षित हो गया हैं, पर नेता प्रतिपक्ष हेमन्त सोरेन की मानें तो इन सारे दलबदलूओं-दागियों ने सही मायनों में राजनीतिक आत्महत्या कर ली हैं,

Read more

भाजपा अगर चोर, डकैत, बदमाश को भी टिकट दे दें, तो आप उसे मोदी-शाह को हृदय में रख जीता दें

मिलिये भाजपा के इस नमूने सांसद से, सुनिये क्या कह रहा हैं… भाजपा किसी को भी जैसे लूल्हा को, लंगड़ा को, काना को, चोर को, डकैत को, बदमाश को टिकट दे दें, आप उसे जीताइये, मोदी और शाह को विश्वास में रखकर जिताइये… ये हैं आज की भाजपा और उसका आज का चरित्र। यह हैं वह भारतीय जनता पार्टी जो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की राजनीतिक इकाई मानी जाती हैं।

Read more

ए भाई, इ CM HOUSE वाला भूतवा कहां गया, सदा के लिए शांत हो गया या दूसरी जगह प्रस्थान कर गया?

आज सुबह-सुबह करीब चार बजे मेरी नींद टूटी, नींद टूटने के पूर्व, मैं सपने में था, करीब तीन-चार भूत मेरे सपने में आकर, गंभीर बातें कर रहे थे। सपने में, मैं भी वहां मौजूद था, कभी वे खूब हंसते तो कभी गंभीर मुद्रा में आ जाते, जब भूतों की नजर मेरे उपर पड़ी, तो उन्होंने कहा कि क्या जी पत्रकार महोदय, आप भी आ गये यहां, आ गये तो बैठिये, और देखिये यहां क्या हो रहा है, क्योंकि अंत में समाचार संकलन कर जन-जन तक पहुंचाना, तो आपको ही हैं न।

Read more

कल मोदी और आज प्रियंका के लिए भांड की तरह बिछ गये भारतीय चैनल्स, जबकि प्रियंका ने घास तक नहीं डाले

पहले मैं भी सोचता था कि न्यूज़ चैनल्स भाजपा के सामने बिछ गए हैं। लेकिन मैं गलत था। भाजपा ने कितना ही पुरातनपंथी, पूँजी समर्थक, लेकिन एक मॉडल मंदिर और साम्प्रदायिकता में लपेट कर बेचा, इन महोदया प्रियंका गांधी के पास बेचने को क्या है? उनके पास ऐसा कौन सा मॉडल/स्टेटमेंट है जो सारे चैनल बिना कोई सवाल उठाए, उनकी लखनऊ यात्रा पर भांडों की तरह बिछे जा रहे हैं? किसी ने चैनल्स को प्रियंका के लिए खरीदा नहीं है,

Read more

धन्य रांची का रिम्स कॉटेज धाम। जहां लालू करते विश्राम।।

भाई जय हो लालू भगवान की। माई समीकरण के जन्मदाता की। सामाजिक न्याय के मसीहा की। स्वपरिवार के लिए अपने पार्टी तक को दांव पर लगा देनेवाले की। चाहे जो हो जाये पर, बीजेपी और मोदी को उनके औकात दिखानेवाले की। चाहे पार्टी का जनाधार मिट्टी में ही क्यों न मिल जाये, फिर भी सर्वणों का मरते दम तक विरोध करनेवाले की। महागठबंधन बनाकर, मोदी के अश्वमेध घोड़े को रोकने के लिए सब कुछ दांव पर लगानेवाले की।

Read more

एक राजनीतिक खूंटे में बंधकर फेंक न्यूज के सहारे अपना भविष्य सुरक्षित करनेवाले पत्रकारों से देश को बचाइये

जब पत्रकार भाजपाई, कांग्रेसी, वामपंथी, बसपाई या अंबेडकरवादी हो जाये, तो समझ लीजिये उससे सर्वाधिक खतरा देश को है, क्योंकि फिर वह जनता के सामने सत्य नहीं परोस पाता, फिर वह उस पशु के समान हो जाता है, जिसके सामने उसका मालिक समय-समय पर रोटी के टूकड़े फेंकता रहता है और वह पशु इसके बदले अपने मालिक को देख संवेदनशीलता दिखाते हुए पूंछ हिलाता रहता है।

Read more

धनबाद में मोदी की सभा, कांग्रेसियों को काला कपड़ा पहनना पड़ा महंगा, हुए गिरफ्तार

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की धनबाद में आज सभा थी। इधर कांग्रेसियों ने मोदी की सभा में कुछ धमाल करने की योजना बनाई थी। जब इसकी भनक स्थानीय पुलिस प्रशासन को मिली, तब स्थानीय पुलिस प्रशासन ने कोई रिश्क लेना उचित नहीं समझा, सीधे पीएम मोदी के कार्यक्रम में काला कपड़ा पहनकर जाने से पहले ही कांग्रेस नेता वैभव सिन्हा समेत अन्य कांग्रेसी कार्यकर्ताओं को धनबाद पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया और उन्हें धनबाद थाना ले आये।

Read more