पाकिस्तान में एक अखबार की कीमत 25 रुपये और भारत में मात्र पांच रुपये, अगर यहां भी अखबार की कीमत पाकिस्तान की तरह हो गई तो क्या पाठक अखबार खरीदेंगे?

क्या आपको मालूम है कि पाकिस्तान में एक अखबार की कीमत क्या है? इसका उत्तर है – 25 रुपये। इसमें

Read more

अफगानिस्तान, पाकिस्तान, बांगलादेश व भारत के कश्मीर में हिन्दूओं-सिक्खों पर हो रहे अत्याचार पर वोटों के सौदागरों कांग्रेसियों, वाममोर्चा व जनसंगठनों ने साधी चुप्पी

अफगानिस्तान से तालिबानियों के कारण हिन्दूओं और सिक्खों का सफाया हो गया। पाकिस्तान में तो आये दिन हिन्दू मंदिरों पर

Read more

हम योग में भी राजनीति घुसेड़ेंगे, भारत की महान परम्परा व संस्कृति को चोट पहुंचायेंगे चाहे संयुक्त राष्ट्र संघ ही उसका आर्गेनाइजर क्यों न हो?

माफ करिये हर चीज में घटिया स्तर की राजनीति को घूसेड़ना ठीक नहीं। योग को योग ही रहने दिया जाय, अगर किसी को योग में भी नरेन्द्र मोदी या भाजपा दीखता है, तो ऐसे लोगों को हम क्या कहें? हम तो इतना जानते हैं कि योग भारत की मिट्टी से जुड़ा है। यह विश्व को भारत की देन हैं। जिसको लेकर संपूर्ण मानव जाति सजग हुई है और अपने अस्तित्व को बचाने के लिए योग को अब अपना माध्यम बनाने का प्रयास शुरु कर दिया है।

Read more

शरीफ के घर में आग लगे तो गुंडा … सेंके, भारत कोरोना से कराहे तो दैनिक भास्कर, विदेशी अखबारों के संग मजा लेवे…

जी हां, एक लोकोक्ति है, जो भारत में खूब प्रचलित है, शरीफ के घर में आग लगे तो गुंडा … सेंके, ठीक उसी प्रकार मैं देख रहा हूं कि भारत कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर से कराहे, तो दैनिक भास्कर, विदेशी अखबारों के संग मजा लेने को बेकरार हो जाये, यहीं नहीं उन विदेशी अखबारों के प्रमुख वाक्यांशों को अपने स्थान में जगह दे दें, और भारत को पूरे विश्व में शर्मसार करें। अब सवाल उठता है कि दैनिक भास्कर ने जिन विदेशी अखबारों के हवाले से भारत को शर्मसार करने की कोशिश की,

Read more

इस महामारी में नफरत की दुकान खोलकर बैठे नक्सलियों, मोदी-विरोधियों, मीडियाकर्मियों से बचें और देश को भी बचाएं

कोरोना तो बहाना है, असली मकसद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को सत्ता से हटाना, उन्हें पूरे विश्व में नीचा दिखाना, जिसके लिए केवल भारत के विपक्षी दलों, नक्सलियों, मीडियाकर्मियों के समूह ही नहीं, विश्व के ऐसे देश जिनका काम ही भारत का विरोध करना है, उनसे मिलकर भारत में बैठे कुछ देशद्रोही, भारत की साख को तो धूमिल कर ही रहे हैं, भारत की जनता को तिल-तिल मरता देख आह्लादित भी हो रहे हैं, जिसकी जितनी निन्दा की जाय, उतना कम है।

Read more

अभिनन्दन उन युवाओं का, जो कोरोना के इस घातक लहर में अपनी जान की परवाह किये बिना प्रभावितों की सेवा में जी-जान से जुटे हैं

मुझसे कोई पूछे कि भारत कहां रहता हैं, तो मैं इन युवाओं को देख सीधे कह दूं कि भारत इन्हीं के दिलों में रहता है, इन्हीं के दिलों में धड़कता है, इन्हीं के दिलों में सजता-संवरता है। जरा देखिये न, रांची में क्या हो रहा है? एक तरफ वैसे-वैसे बड़े-बड़े प्रशासनिक अधिकारियों व बड़े-बड़े धनाढ्यों के निजी अस्पताल है, जहां एक ही धंधा चल रहा हैं, कि कैसे कोरोना मरीजों के परिवारों की जेबों पर डाका डाला जाये, उनके जेब में जो भी कुछ हैं, निकाल लिया जाय।

Read more

अवसरवादियों को अपनी किताबों की, पर मंच पर बैठे दिशोम गुरु को आज भी झारखण्ड की चिन्ता सता रही थी

क्योंकि गुरुजी तो गुरुजी है, उन्हें पहले चालाकी नहीं आयी तो आज वे क्या चालाकी करेंगे? जिन्हें नाटक करना था, उन्होंने खूब नाटक किया, खुब मुंह चमकाये, हाथ भांजे, चिल्लम-पो की। उस नाटक को देख प्रभावित हुए, कार्यक्रम का संचालन कर रहे पटना से आयातित एंकर ध्रुव कुमार ने तो प्रभात खबर के कार्यकारी संपादक एवं तीन किताबों के लेखक अनुज कुमार सिन्हा को भारत के किसी भी विश्वविद्यालयों से डी. लिट की मानद उपाधि देने की अपील तक कर दी।

Read more

विदेशी डॉग्स व कैट्स की जगह देसी गाय के प्रति लोगों का बढ़ा झुकाव, बिनोद सिंह के प्रयास ने दिखाया रंग

भाई, भारत तेजी से बदल रहा है, इस तेजी में कब-कहां और कैसा बदलाव आ जाय, आप सोच भी नहीं सकते।  यह बदलाव सकारात्मक भी हो सकता है और नकारात्मक भी, क्योंकि यह  बदलाव आपकी सोच पर पूर्णतः निर्भर है। बिहार की राजधानी पटना से करीब तीस किलोमीटर दूर दानापुर-बिहटा मार्ग पर बिहटा एयरपोर्ट से करीब तीन किलोमीटर पहले एक ऑक्सीजन गौशाला है, जिससे लोग आज जुड़ना अपनी शान समझ रहे हैं।

Read more

कोरोना वैक्सिन ट्रायल में अंकित राजगढ़िया ने कोयलांचल का मान बढ़ाया

अंकित राजगढ़िया इन दिनों सुर्खियों में हैं। सुर्खियों में इसलिए है कि वे हाल ही में भारत बायोटेक की वैक्सिन ट्रायल का हिस्सा बने हैं। अंकित हमेशा से ही अपने कार्यप्रणालियों से सुर्खियों में रहे हैं। धनबाद कतरास के रहनेवाले अंकित राजगढ़िया कोयलांचल में ही नहीं, बल्कि अब पूरे देश में अपनी अलग पहचान बना ली है। रक्तदान करने तथा रक्तदान करनेवाले युवाओं को रक्तदान करने को प्रेरित करने के लिए कई स्थानों पर उन्हें सम्मान भी प्रदान किया गया।

Read more

ये दृश्य आंखों को सुकून देनेवाला/विश्वास दिलानेवाला है कि भारत में किसी भी दल का शासन क्यों न हो, भारत की आत्मा कभी मर नहीं सकती

ये दृश्य आंखों को सुकून देनेवाला, साथ ही विश्वास दिलानेवाला है कि भारत में या भारत के किसी भी राज्य में किसी भी दल का शासन क्यों न हो, भारत की आत्मा कभी मर नहीं सकती, भारत कभी मर नहीं सकता, भारत की मिट्टी से जुड़ा धर्म कभी विलोपित नहीं हो सकता। उसके लिए कोई आसुरी शक्तियां कितनी भी जोड़ क्यों न लगा लें। वर्तमान समय में जब पूरा जनमानस कोरोना वायरस से भयभीत है,

Read more