CONG व JMM द्वारा एड़ी-चोटी लगाने के बावजूद अग्निपथ योजना के खिलाफ बुलाया गया भारत बंद झारखण्ड में टांय-टांय फिस्स

कांग्रेस और उनके सहयोगियों तथा वामदलों से जुड़े कई छात्र संगठनों ने मिलकर नरेन्द्र मोदी सरकार की बहुप्रशंसित अग्निपथ योजना

Read more

बिहार के अपर मुख्य सचिव संजय कुमार का सर्कुलर मतलब शिक्षकों के मान-मर्दन के साथ-साथ गर्दन टूटने की फुल गारंटी

जब से संजय कुमार, अपर मुख्य सचिव, शिक्षा विभाग, बिहार ने बिहार में कार्यरत शिक्षकों को चोरी-छुपे शराब पीनेवाले या

Read more

हेमन्त सरकार का देखो खेल, पूरे झारखण्ड में सिस्टम फेल, जनता करती त्राहि-माम्, नेता-अधिकारी कहे झाल बजाम

जब ओमिक्रॉन घर-घर दस्तक देने लगा है, जब कोरोना की तीसरी लहर में झारखण्ड खुद-ब-खुद जकड़ने लगा है, तो राज्य

Read more

छठ की छटा में आकंठ डूबा बिहार-झारखण्ड, विभिन्न जलाशयों के किनारे छठव्रतियों का उमड़ा जन-सैलाब, छठ की महिमा बताने में दैनिक भास्कर सभी अखबारों से आगे

पूरे बिहार-झारखण्ड में कार्तिक शुक्ल रवि षष्ठी व्रत धूमधाम से मनाया जा रहा है। आज अस्ताचलगामी भगवान भास्कर को प्रथम

Read more

भाजपा विधायक अमित मंडल पर बालू माफियाओं के द्वारा करवाए गए हमले से भड़की भाजपा, सुरक्षा को लेकर उठाए सवाल

गोड्डा से भाजपा के विधायक अमित मंडल पर हुए जानलेवा हमले को भारतीय जनता पार्टी ने गंभीरता से लिया है। इस

Read more

प्रभात खबर की एक अच्छी पहल, जन-जन तक मास्क को लेकर फैलाई जागरुकता

कुछ दिन पूर्व रांची से प्रकाशित अखबार “प्रभात खबर” ने एक अच्छी पहल की। लोगों में जागरुकता फैलाने के उद्देश्य

Read more

e-pass, मतलब हेमन्त अपने सलाहकारों से सावधान नहीं रहे, तो उनकी लोकप्रियता व साख दोनों मिट्टी में मिल जायेगी

कल यानी 15 मई की ही बात है। बिहार के सरयू राय जो जमशेदपुर पूर्व से विधानसभा चुनाव लड़कर झारखण्ड विधानसभा पहुंचे हैं। जिनके बारे में कहा जाता है कि वे बहुत ही ईमानदार है। उन्होंने सोशल साइट फेसबुक पर एक बात लिखी, वो बात थी – “कोरोना की दूसरी लहर में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की साख घटी है, पर लोगों में विश्वास नहीं घटा है। दूसरी ओर राज्य में मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन की साख पूर्व की तुलना में बढ़ी है। इस अनुपात में उन्हें लोगों के बीच विश्वास भी बढ़ाना होगा।”

Read more

पत्रकार मर गया, वो कहां का था ये बतायेंगे पर किस संस्थान से जुड़ा था? नहीं बतायेंगे, वाह रे दैनिक भास्कर, तू भी वहीं निकला

कल यानी 13 मई को रांची से प्रकाशित होनेवाले एक अखबार “दैनिक भास्कर” ने अपने “राजकाज” पृष्ठ पर पत्रकारों से जुड़ी समस्याओं को लेकर एक खबर छापी, जो झारखण्ड के सभी संस्करणों में दिखाई दी। हेडिंग थी – “झारखण्ड सरकार पत्रकारों को फ्रंटलाइन वॉरियर घोषित करे, बिहार, ओडिशा, बंगाल समेत छह राज्यों ने पत्रकारों को फ्रंट वारियर्स माना”। सब हेडिंग थी – “राज्य के 22 पत्रकारों की अब तक कोरोना संक्रमण से हो चुकी है मौत”।

Read more

ये एक दूसरे को नीचा दिखाने का समय नहीं नेताओं और बेवजह चिल्लानेवालों नामुरादों, अपने पत्रकार मित्रों की सुध लो

भाई मैं बार-बार कह रहा हूं, यह समय राजनीति करने का नहीं है। यह समय एक दूसरे को नीचा दिखाने का नहीं है। यह समय हर प्रकार की बुराइयों से उपर उठकर मानवता की सेवा करने का है। आप किसे नीचा दिखा रहे हैं, आप किस मुंह से खुद को सर्वश्रेष्ठ कह रहे हैं। जहां आपके शासन हैं, वहां भी बुरा हाल है, नहीं तो जाकर मध्यप्रदेश, बिहार व उत्तरप्रदेश घुम आइये। अगर सिस्टम झारखण्ड में फेल है, तो आपके शासित राज्यों में सिस्टम कोई दूसरा नहीं हैं।

Read more

अच्छी खबरः बस एक सप्ताह का इंतजार करें झारखण्डवासी, जल्द मिलेगी कोरोना की दूसरी लहर से राहत!

बस अब कुछ ही दिन बचे हैं, झारखण्ड में 25-30 अप्रैल के बीच कोरोना पीक पर होगा, उसके बाद धीरे-धीरे इसमें कमी आयेगी, ये बाते अपने राज्यवार ग्राफ में आइआइटी कानपुर के प्रोफेसर मणिन्द्र अग्रवाल ने बताई है। मणीन्द्र अग्रवाल की ये बातें झारखण्ड में कोरोना से लड़ाई लड़ रहे, प्रशासकों, स्वास्थ्यकर्मियों, कोरोना प्रभावितों व सरकार के लिए भी राहत देनेवाली है।

Read more