लानत हैं ऐसे पत्रकारों और ऐसी पत्रकारिता पर…

सचमुच लानत हैं ऐसे पत्रकारों और ऐसी पत्रकारिता पर…। जो किसी समाचार को बनाने अथवा उसे प्रस्तुत करने के लिए

Read more

आग लगे ऐसी सोच और ऐसी पत्रकारिता पर, जो गरीबों की आह की खबरों को भी अपने अखबार में स्थान न दें  

23 मार्च 2022, झारखण्ड विधानसभा में बजट सत्र चल रहा था और दूसरी ओर भू-माफिया व भाजपा विधायक ढुलू महतो

Read more

थू है ऐसी पत्रकारिता और ऐसे पत्रकार पर, जो मतदाताओं से उनकी जात पूछते हैं

थू है ऐसी पत्रकारिता और ऐसे पत्रकार पर जो मतदाताओं से उनकी जात पूछते हैं। जब से उत्तर प्रदेश विधानसभा

Read more

रांची के ज्यादातर पत्रकारों को न तो हाथों पर रक्षासूत्र बंधवाना अच्छा लगता है और न ही आभार/आशीर्वाद स्वीकार करना

आज ठीक सबेरे 9.35 बजे भाजपा झारखण्ड के व्हाट्सएप्प ग्रुप पर एक मैसेज वायरल हुआ। मैसेज आमंत्रण से संबंधित था।

Read more

पत्रकारिता का अपराधीकरण – “कोठे की एक तवायफ और एक बिका हुआ पत्रकार एक ही श्रेणी मे आते हैं, लेकिन इनमें तवायफ की इज्जत ज्यादा होती है”

सआदत हसन मंटो ने पत्रकार और पत्रकारिता पर कभी सख्त टिप्पणी की थी और कहा था – “कोठे की एक

Read more

अखबारों-चैनलों के मालिकों/संपादकों के कारनामों का असर, झारखण्ड में श्मशान की ओर चल पड़ी पत्रकारिता

नेता, पत्रकार और अधिकारियों के भ्रष्टाचार में संलिप्त होने का प्रभाव देखिये, झारखण्ड में श्मशान की ओर पत्रकारिता चल पड़ी है। चित्ता सज चुकी है। बस अर्थी से उसे उठाकर चित्ता पर रख देना है, फिर कोई भी उसमें आग लगा दें, क्या फर्क पड़ता है, चित्ता तो चित्ता हैं, धू-धू कर जल पड़ेगी। जब मैं बड़े-बड़े शिक्षण संस्थाओं में पत्रकारिता की पढ़ाई कर रहे युवाओं/युवतियों व वहां पत्रकारिता का कोर्स करा रहे मगरमच्छों को देखता हूं तो सोचता हूं कि ये मगरमच्छ कौन सी शिक्षा इन्हें दे रहे होंगे और वे युवा ले रहे होंगे?

Read more

गोड्डा निवासियों के लिए अब दिल्ली दूर नहीं, BJP MP निशिकांत ने असंभव को संभव कर दिखाया, चली पहली ट्रेन हमसफर एक्सप्रेस

गोड्डा और उसके आस-पास रहनेवालों के लिए अब दिल्ली दूर नहीं, क्योंकि अब वहां से आज ही दिल्ली के लिए “हमसफर एक्सप्रेस” रवाना हो चुकी है, हालांकि इसका श्रेय लेने के लिए झाविमो नेता प्रदीप यादव, कांग्रेसी नेता इरफान अंसारी बेकरार है, पर इसका असली श्रेय लेने का अगर कोई हकदार है, तो वे हैं गोड्डा के भाजपा सांसद निशिकांत दूबे, अगर निशिकांत दूबे को श्रेय देने में कोई किन्तु-परन्तु करता हैं, तो निःसंदेह वह गलत कह रहा हैं, गलत बोल रहा है और अपने पत्रकारिता पेशे के साथ गलत कर रहा हैं।

Read more

ये जो तुम पत्रकारिता का धौंस दिखा रहे हो न, ये पत्रकारिता नहीं, बल्कि अपराध है…

यह आज के दौर में चल रही जो पत्रकारिता है, वह दरअसल पत्रकारिता नहीं, शत प्रतिशत व्यवसाय है और जहां व्यवसाय होगा तो उसमें मानवीय मूल्य व चरित्र नहीं दिखेगा, उसमें सिर्फ और सिर्फ कुटिलता दिखेगी, जिस कुटिलता के आधार पर कितना धन कमाया गया, सिर्फ इसी पर विचार किया जायेगा, दूसरी मानवीय मूल्य धरे के धरे रह जायेंगे। यह बातें मैं ऐसे ही नहीं कर रहा हूं, इधर जो पत्रकारों का हुजूम जो विभिन्न प्रेस कांफ्रेसों में कुकुरमुत्ते की तरह दिखाई पड़ रहे हैं या जो भेड़िया धसान अखबार, चैनल व पोर्टल खुल रहे हैं।

Read more

भ्रष्ट CO को ब्लैकमेलिंग कर पैसे कमाना है, यहां एक्यूज होकर जब वो CM का इंटरव्यू ले रहा है तो हम ये भी न करें…

शर्म करिये। रांची का एक चैनल, न्यूज 11, भ्रष्ट सीओ को पर्दाफाश करने के बजाय, उनसे सौदेबाजी कर रहा है, वो उनसे पैसे वसूल रहा है और जैसे ही पैसे वसूल हो जा रहे हैं, उसके खिलाफ उसके चैनल पर चल रही न्यूज रोक दी जाती है। यही नहीं कुछ-कुछ सीओ के भ्रष्ट कार्यों को दिखाया ही नहीं जा रहा, क्योंकि उनके साथ सौदेबाजी जो हो चुकी है, ये हम नहीं कह रहे, खुद न्यूज 11 में काम करनेवाले संवाददाता-कर्मी आपसी बातचीत में इस बात को पुष्ट कर रहे हैं।

Read more

हाहाहाहाहाहाहाहाहा, ये यूनियन/क्लब के लोग मिलकर पत्रकारों की दशा और दिशा सुधारेंगे?

भाई, मेरा तो साफ मानना है कि उस व्यक्ति अथवा संस्था की दशा और दिशा कोई नहीं सुधार सकता, जो व्यक्ति अथवा संस्था अपनी दशा और दिशा सुधारने को खुद उत्सुक न हो। नेताओं-सरकारों या किसी यूनियन की वैशाखियों या टुकड़ों पर किसी भी व्यक्ति अथवा संस्था की दशा या दिशाएं आज तक नहीं सुधरी। कल तक हमने केवल यहीं सुना था कि आज का विषय है – “पत्रकारिता की दशा और दिशा” पर आज समय बदला है। चालाक लोगों ने विषय ही बदल डाले हैं। विषय हो गया – पत्रकारों की दशा और दिशा।

Read more