मैं नई भाजपा हूं, दलबदलूओं, मौकापरस्त, सिद्धान्तविहीन राजनीतिज्ञों का यहां स्वागत हैं, हमारे निष्ठावान कार्यकर्ता आपको सफलता दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है

क्या आप दलबदलू हैं? मौकापरस्त हैं? सिद्धान्तविहीन राजनीति में विश्वास रखते हैं? ब्राह्मणविरोधी राजनीति को सही में अंजाम देना चाहते हैं? तो किधर घुम रहे हैं? कहां और क्यों समय नष्ट कर रहे हैं? भाजपा के शीर्षस्थ नेता व पार्टी के निष्ठावान कार्यकर्ता आपको अपने कंधे पर रखकर संसद व विधानसभा में आपको पहुंचाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। अगर आपको विश्वास नहीं हैं तो हमारे पास कई उदाहरण है।

Read more

भाजपा-झाविमो में हुई सौदेबाजी की पहली रश्म कल होगी पूरी, उपर से थोपे गये बाबू लाल बनेंगे नेता प्रतिपक्ष

कल नेता प्रतिपक्ष बाबू लाल मरांडी बना दिये जायेंगे, क्योंकि कल प्रमुख विपक्ष यानी भारतीय जनता पार्टी और उसके विधायकों का समूह बाबू लाल मरांडी को अपना नेता चुन लेगा। कहने को तो विधायकों का समूह ऐसा करेगा, पर सच्चाई इसके विपरीत है, भाजपा विधायकों का समूह आज भी बाबू लाल मरांडी को अपना नेता मानने को तैयार नहीं हैं, चूंकि दिल्ली से आदेश हैं इसलिए भाजपा विधायकों को दिल्ली का आदेश मानना बहुत ही जरुरी हैं।

Read more

बाबू लाल की BJP में वापसी अर्थात् ‘पुनर्मूषिको भव’ कहानी की पुनरावृत्ति के अलावे यहां नया कुछ नहीं

14 वर्ष का वनवास क्या होता है? कभी आपने इसके बारे में जानने की कोशिश की है, अगर नहीं तो रामायण व महाभारत पढ़िये। जानने की कोशिश कीजिये। श्रीराम, लक्ष्मण एवं सीता और उधर पांडवों ने इन 14 वर्षों में अपने जीवन को कैसे बिताया? क्योंकि हर बात में तुकबंदी ठीक नहीं होती, इससे उन महान दिव्य आत्माओं को कष्ट पहुंचता है, जिन्होंने सचमुच इन 14 वर्षों के दौरान अपने जीवन को कष्टपूर्वक काटा

Read more

न तुम हो यार आलू (भाजपा), न हम है यार गोभी(झाविमो), तुम भी हो यार धोबी, और हम भी यार धोबी

रांची में 17 फरवरी की धूम है। भाजपा और झाविमो की ओर से तैयारी बड़े जोर-शोर से चल रही है। रांची के धुर्वा स्थित प्रभात तारा मैदान में सुना है कि बड़े-बड़े पंडाल बनाये जा रहे हैं। जहां भाजपा और झाविमो के कार्यकर्ता जुटेंगे और इसी दौरान झाविमो का भाजपा में विलय हो जायेगा। भाजपा के लोग इसे बाबू लाल मरांडी की घर वापसी बता रहे हैं।

Read more

ये झाविमो से कौन किसको निकाल रहा हैं भाई? ये जनता को मूर्ख समझने की कोशिश कौन कर रहा?

किसने किसको निकाला जनता सब समझ रही है बाबूलाल जी, अगर समझ कर भी आप नहीं समझने की कोशिश कर रहे हैं, तो यह आपकी सबसे बड़ी राजनीतिक भूल है, और यह राजनीतिक भूल भविष्य में आपके लिए खतरे की घंटी होगी। ऐसे राजनीति में कोई वैरागी साधुओं की जमात तो आती नहीं, जो साधु आते भी हैं, उन मूर्ख-ढोंगियों साधुओं को जनता देख भी रही हैं, और झेल भी रही है।

Read more

अरे छोड़ यार, तू क्रिमिनल है तो क्या हुआ, तूझे देखकर लोग मेरे को वोट करेंगे, चल प्रचार कर, सत्ता के मजे ले

जिस तरफ अपराधी चलता है, उसी तरफ ही वोट निकलता है। ये मैं नहीं कह रहा, शायद भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हटिया के विधानसभा सीट से चुनाव लड़ रहे नवीन जायसवाल कह रहे हैं, तभी तो वे आजकल एक अपराधी के साथ मिलकर हटिया विधानसभा में चुनाव प्रचार कर रहे हैं। शायद उन्हें पता है कि लोग आजकल प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तथा देश के गृह मंत्री अमित शाह तक से चिढ़े हुए हैं,

Read more

स्वास्थ्य मंत्री चंद्रवंशी ने युवा मतदाता को दी धमकी, इलेक्शन खत्म होने दो, तुम्हारी औकात बता देंगे

नाम – रामचंद्र चंद्रवंशी, जनाब झारखण्ड के स्वास्थ्य मंत्री हैं, फिलहाल जनाब विश्रामपुर से भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं, कभी वो राष्ट्रीय जनता दल की टिकट से किस्मत आजमाया करते थे, पर जैसे ही राजद और लालू का सितारा गर्दिश में आया, पलटी मारी, भाजपा में घुस गये। किस्मत ने साथ दिया, विधायक बन गये और लीजिये लगे हाथों स्वास्थ्य मंत्री भी बन गये,

Read more

CM रघुवर के आगे-पीछे करनेवाले कनफूंकवों व IAS/IPS के चेहरे से अभी से ही खुशियां गायब

कहा जाता है कि जब नाव डूब रहा होता है, तो सबसे पहले उस नाव पर सवार चूहे भाग खड़े होते हैं और जो बचते हैं, उनमें जो सफल तैराक होता हैं, वह बच निकलता हैं, और जो तैराकी नहीं जानते, उनकी क्या दशा होती हैं, जिन्होंने किसी नाव को डूबते हुए देखा हैं, उन्हें अच्छी तरह पता हैं, अब सवाल हैं कि क्या सीएम रघुवर दास की राजनीतिक नैया भी इस विधानसभा चुनाव रुपी नदीं के बीच मझधार में डूबने की स्थिति में हैं?

Read more

दलबदलू नेता, दलबदलू ही न रहेगा, वो थोड़े ही गांधी, नेहरु, शास्त्री बनने के लिए दुनिया में पैदा लिया है

बेशक दल बदलिये, दलबदलू कहाइये, पर अपना दीदा मत खोइये, किसी दल के नेता को इतना भी पहले मत गरिया दीजिये कि फिर जब आपको उस दल में जाने की नौबत आये तो आपकी ही इज्जत खतरे में पड़ जाये और आप मुंह चोर के जैसा जिस पार्टी में गये, उस पार्टी के और जिस पार्टी को छोड़े हैं, उस पार्टी के कार्यकर्ताओं से भी आप मुंह लुकाते फिरिये, क्योंकि कार्यकर्ता तो कार्यकर्ता होता हैं, वह तो आप जैसा नेता तो होता नहीं,

Read more

फिलहाल झारखण्ड BJP में कोई ऐसा नेता नहीं जो भाजपा को 20 सीटें भी अपने बलबूते दिला सकें

फिलहाल झारखण्ड में भाजपा का कोई ऐसा सिंगल पीस नेता नहीं, जो झारखण्ड में अकेले भाजपा को बहुमत दिला दें या वर्तमान में भाजपा के पास जो विधानसभा की सीटें हैं, उसमें से आधी सीटों पर भी भाजपा को जीत दिला दें। ले- देकर अंत में पीएम नरेन्द्र मोदी को ही झारखण्ड में पसीना बहाना होगा, उसके बाद भी भाजपा को विधानसभा में बहुमत मिल ही जाये, इसकी कोई संभावना दूर-दूर तक नहीं दिखती।

Read more